1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. यौन उत्पीड़न मामले में गिरफ्तार स्वामी चिन्मयानंद ने अपने ऊपर लगे आरोप कबूल किए

यौन उत्पीड़न मामले में गिरफ्तार स्वामी चिन्मयानंद ने अपने ऊपर लगे आरोप कबूल किए

स्वामी शुकदेवानंद विधि महाविद्यालय में पढ़ने वाली एलएलएम की छात्रा ने 24 अगस्त को एक वीडियो वायरल कर चिन्मयानंद पर शारीरिक शोषण करने, कई लड़कियों की जिंदगी बर्बाद करने का आरोप लगाते हुए उसे तथा उसके परिवार की जान को खतरा बताया था।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: September 20, 2019 16:10 IST
पूर्व केंद्रीय मंत्री चिन्मयानंद यौन शोषण के आरोप में गिरफ्तार- India TV Hindi
पूर्व केंद्रीय मंत्री चिन्मयानंद यौन शोषण के आरोप में गिरफ्तार

नई दिल्ली: कानून की छात्रा के यौन उत्पीड़न मामले में गिरफ्तार पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद  के बारे में उत्तर प्रदेश SIT ने बड़ा खुलासा किया है। SIT चीफ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके बताया कि चिन्मयानंद ने अपने ऊपर लगे आरोप कबूल कर लिए हैं। चिन्मयानंद ने लॉ की छात्रा से अश्लील बातचीत और बॉडी मसाज कराने की बात कबूली की है। यूपी SIT के मुताबिक चिन्मयानंद ने कहा वो अपनी करतूत पर शर्मिंदा हैं।

SIT ने शुक्रवार को चिन्मयानंद को गिरफ्तार किया करने के बाद उन्हें 14 दिन के लिए जेल भेज दिया है। लॉ की छात्रा ने जब पहली बार आरोप लगाए थे तो चिन्मयानंद ने आरोपों से इनकार किया था लेकिन जब SIT ने सख्ती की तो उन्होंने आरोप कबूल लिए। चिन्मयानंद को अदालत ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत पर जेल भेज दिया है। इससे पहले कड़ी सुरक्षा में आरोपी स्वामी को स्थानीय अदालत में एसआईटी ने पेश किया था। साथ ही उनके तीन सहयोगी युवक भी एसआईटी ने गिरफ्तार किए हैं। पकड़े गए तीनों युवकों पर ब्लैकमेलिंग में शामिल होने का आरोप है। 

तीनों आरोपियों के नाम संजय सिंह, विक्रम उर्फ ब्रजेश और सचिन उर्फ सोनू हैं। मजे की बात यह है कि इन तीनों आरोपियों स्वामी को ब्लेकमेल कर उनसे मोटी रकम वसूलने की कोशिश के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। इन पर आईटी एक्ट के साथ-साथ जबरन धन वसूली और साक्ष्य मिटाने का आरोप लगा है।

एसआईटी के सूत्रों के मुताबिक, गिरफ्तार तीनों युवकों को भी चिन्मयानंद के साथ ही स्थानीय सीजेएम अदालत में पेश किया गया। एसआईटी का मानना है कि, इस पूरे प्रकरण में इन तीनों ही युवकों की खास भूमिका रही थी। तीनों आरोपी लगातार स्वामी के संपर्क में भी थे। पीड़िता और स्वामी के बीच चल रही ब्लैकमेलिंग की डील में यही तीनों सूत्रधार थे गौरतलब है कि मजिस्ट्रेट के समक्ष बयान दर्ज कराने के बाद पीड़ित छात्रा ने चिन्मयानंद की जल्द गिरफ्तारी की मांग करते हुए कहा कि अगर सरकार उसके मरने का इंतजार कर रही है तो वह आत्मदाह कर लेगी। 

पीड़िता का आरोप है कि मजिस्ट्रेट के समक्ष बयान होने के कई दिन बाद भी ना तो बलात्कार और शारीरिक शोषण का मामला दर्ज हुआ है और ना हीं चिन्मयानंद को गिरफ्तार किया गया है। पीड़िता के पिता ने सवाल किया कि मजिस्ट्रेट के समक्ष बयान होने के बाद भी चिन्मयानंद को गिरफ्तार नहीं करना और उसके खिलाफ मामला दर्ज नहीं होना कहां तक सही है। उन्होंने कहा कि एसआईटी भी उन्हें कोई जानकारी नहीं दे रही है। ऐसे में वह वकीलों से परामर्श करेंगे। 

बता दें कि स्वामी शुकदेवानंद विधि महाविद्यालय में पढ़ने वाली एलएलएम की छात्रा ने 24 अगस्त को एक वीडियो वायरल कर चिन्मयानंद पर शारीरिक शोषण करने, कई लड़कियों की जिंदगी बर्बाद करने का आरोप लगाते हुए उसे तथा उसके परिवार की जान को खतरा बताया था। 

इस संबंध में पीड़िता के पिता की ओर से कोतवाली शाहजहांपुर में चिन्मयानंद के खिलाफ अपहरण और जान से मारने की धमकी देने का मामला दर्ज किया। इससे ठीक एक दिन पहले चिन्मयानंद के अधिवक्ता ओम सिंह ने पीड़िता और उसके परिवार के खिलाफ पांच करोड़ रुपए की रंगदारी मांगने का मामला दर्ज कराया था।

कोरोना से जंग : Full Coverage

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Write a comment
X