1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. लाइफस्टाइल
  4. जीवन मंत्र
  5. मंगलवार को ये खास उपाय करने से होगा कल्याण, कर्ज से मुक्ति के साथ मिलेगा अपार धन

मंगलवार को ये खास उपाय करने से होगा कल्याण, कर्ज से मुक्ति के साथ मिलेगा अपार धन

आचार्य इंदु प्रकाश के अनुसार मंगल का सीधा संबंध कर्ज से है। अतः भौम प्रदोष व्रत कर्ज से मुक्ति पाने के लिये बहुत ही श्रेष्ठ है। जानिए कौन से उपाय करना होगा फलदायी।

India TV Lifestyle Desk India TV Lifestyle Desk
Updated on: September 14, 2020 14:35 IST
मंगलवार को इन खास उपायों से होगा कल्याण, कर्ज से मुक्ति के साथ मिलेगा अपार धन - India TV Hindi
Image Source : INSTAGRAM/SJFINANCIALSERVICES मंगलवार को इन खास उपायों से होगा कल्याण, कर्ज से मुक्ति के साथ मिलेगा अपार धन 

आश्विन कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि और मंगलवार का दिन है। त्रयोदशी तिथि पूरा दिन पार कर रात 11 बजे तक रहेगी। इसके साथ ही दोपहर पहले 11 बजकर 2 मिनट तक शिव योग रहेगा उसके बाद सिद्ध योग लग जाएगा। शिव योग बहुत ही शुभदायक है। इस योग में किए गए सभी मंत्र शुभफलदायक होते हैं । इसके अलावा दोपहर 2 बजकर 25 मिनटतक आश्लेषा नक्षत्र रहेगा । उसके बाद मघा नक्षत्र लग जाएगा जो कि बुधवार दोपहर 12 बजकर 21 मिनट तक रहेगा। इसके साथ ही मंगलवार को प्रदोष व्रत पड़ रहा है। 

जिस दिन प्रदोष काल होता है, उस दिन के नाम से प्रदोष का नाम रखा जाता है। मंगलवार को पड़ने के कारण इसे भौम भी कहते है। इसलिए इसे भौम प्रदोष व्रत कह जाएगा। आचार्य इंदु प्रकाश के अनुसार मंगल का सीधा संबंध कर्ज से है। अतः भौम प्रदोष व्रत कर्ज से मुक्ति पाने के लिये बहुत ही श्रेष्ठ है।

भौम प्रदोष व्रत: इस बार बन रहा है दुर्लभ संयोग, भगवान शिव की ऐसे पूजा करने से मिलेगा दोगुना लाभ

  • अगर आप कर्ज के बोझ से जल्द से जल्द बाहर निकलना चाहते हैं, तो आज भौम प्रदोष को लेनदार को  कुछ राशि, चाहें तो एक रुपया ही जरूर लौटाना चाहिए , अगली किश्त भी मंगलवार के दिन ही चुकाएं।  ऐसा करने से कर्ज बहुत जल्दी ही उतर जायेगा।

Vastu Tips: शादी में आ रही हैं अड़चने तो अपनाएं ये उपाय, जल्द मिलेगा सुयोग्य जीवनसाथी

  • अगर आपके जोड़ों में परेशानी , या आपके शरीर में रक्त की कमी रहती है, तो आज आपको जरूरतमंदों को तन्दूर में लगी मीठी रोटी बांटनी चाहिए।
  • अगर आपको  अब तक कर्ज लेने की नौबत नहीं आई है , आप चाहते हैं कि आगे भी ऐसी नौबत ना आये, तो आज आपको आसन पर बैठकर, हाथ जोड़कर ऋणमोचक मंगल स्रोत का पाठ करना चाहिए।
  • आपको बता दें कि शरीर में नाभि के आसपास का क्षेत्र मंगल का होता है । अतः अगर आपकी नाभि के आस-पास किसी प्रकार की परेशानी बनी रहती है, तो आज  आपको 900 ग्राम मसूर की दाल लेकर अपनी नाभि से छुआकर दान करनी चाहिए।
  • अगर आप बड़े भाई के साथ रिश्ते में प्यार बरकरार रखना चाहते हैं, तो आज  आपको दो पत्थर के टुकड़े लेकर उन्हें लाल रंग से रंगना चाहिए और अपने भाई के हाथ से छुआना चाहिए। अब उनमें से एक पत्थर को बहते जल में प्रवाहित कर दें और दूसरे पत्थर को संभालकर हमेशा अपने पास रखें।
  • अगर आप और आपके जीवनसाथी के बीच पॉजिटिव ऊष्मा खत्म होती जा रही है और कड़वाहट अपनी जगह बनाती जा रही है, तो आज आपको बहते पानी में 11 रेवड़ियां या बताशे प्रवाहित करनी चाहिए।
  • अगर आपकी संतान के जीवन में किसी प्रकार की परेशानी चल रही है, तो आज के दिन आपको इस मंत्र का 108 बार जप करना चाहिए। मंत्र इस प्रकार है -   'ॐ भूमि पुत्राय नमः।'

पूरे परिवार की खुशियां खत्म करने की ताकत रखता है इस स्वभाव वाला मनुष्य...

  •  अगर आपके बिजनेस में कुछ समस्याएं चल रही हैं, जिसका असर आपके पारिवारिक जीवन पर भी पड़ रहा है तो आज आपको एक सूखा नारियल लेकर, उस पर केसरिया सिन्दूर से तिलक लगाकर हनुमान जी के चरणों में चढ़ाना चाहिए।
  • अगर आप अपनी ताकत का लोहा मनवाना चाहते हैं, तो आज आपको हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए। साथ ही हनुमान जी के मन्दिर में चमेली के तेल का दीपक जलाना चाहिए।
  • अगर आप चाहते हैं कि आपके जीवन में सब मंगल ही मंगल हो तो इसके लिये आज आपको मंगल के इस मंत्र का एक माला जप करना चाहिए। मंत्र इस प्रकार है - 'ॐ मंगलाय नमः।'

सूर्य का उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र में प्रवेश, जानिए किन लोगों के जीवन पर पड़ेगा सबसे ज्यादा प्रभाव

  • अगर आपकी पत्रिका में मांगलिक दोष है, जिसके कारण आपको विवाह के लिये अच्छे रिश्ते नहीं मिल पा रहे हैं, तो आज आपको मंगल यंत्र की स्थापना करनी चाहिए। आप चाहें तो धातु पर बना यंत्र स्थापित कर सकते हैं या फिर आज के दिन आप खुद भी इस यंत्र को बनाकर स्थापित कर सकते हैं। इसके लिये भोजपत्र पर अष्टगंध से अनार की कलम द्वारा या फिर सफेद कोरे कागज पर लाल पेन से एक वर्गाकार आकृति बनाइये और उसमें तीन कॉलम बनाइये। अब हर एक कॉलम में तीन खाने बनाइये। फिर पहले कॉलम में बायीं से दायीं तरफ क्रमशः 8, 3 और 10 लिखिए। फिर दूसरे कॉलम में बायीं से दायीं तरफ क्रमशः 9, 7 और 5 लिखिये। फिर तीसरे कॉलम में बायीं से दायीं तरफ क्रमशः 4, 11 और 6 लिखिये। इस प्रकार आपका यंत्र बन जायेगा । अब उस यंत्र की विधि पूर्वक पूजा कीजिये और उस पर कम से कम 31 हजार मंत्रों का जप कीजिये। मंत्र है-    ऊँ क्रां क्रीं क्रौं सः भौमाय नमः'

देखिये मंत्रों का जप किया जाना बहुत जरूरी है। मंत्रों के जप से ही यंत्र प्रभावशाली बनता है। अतः इस प्रकार मंत्रों से सिद्ध किया हुआ यंत्र स्थापित करने से आपको मांगलिक दोष के प्रभाव से छुटकारा मिलेगा। 

  • अगर आप अच्छे लोगों के साथ दोस्ती बढ़ाना चाहते हैं, तो आज आपको हनुमान मन्दिर में शहद की शीशी भेंट करनी चाहिए और हनुमान जी के दाहिने पैर से सिन्दूर लेकर अपने माथे पर लगाना चाहिए।

कोरोना से जंग : Full Coverage

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। Religion News in Hindi के लिए क्लिक करें लाइफस्टाइल सेक्‍शन
Write a comment
X