1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. लाइफस्टाइल
  4. जीवन मंत्र
  5. Panchak 2021: आज से शुरू पंचक, धन और करियर से जुड़े मामलों में बरतें सावधानी, वहीं ये काम करना होगा शुभ

Panchak 2021: आज से शुरू पंचक, धन और करियर से जुड़े मामलों में बरतें सावधानी, वहीं ये काम करना होगा शुभ

3 जुलाई की सुबह 6 बजे तक पंचक रहेंगे। सोमवार को शुरू होने के कारण इसे राज पंचक कहा जाता है।

India TV Lifestyle Desk India TV Lifestyle Desk
Updated on: June 28, 2021 6:35 IST
 Panchak 2021: आज से शुरू पंचक, धन और करियर से जुड़े मामलों में बरतें सावधानी, वहीं ये काम  करना होगा- India TV Hindi
Image Source : INSTAGRAM/ASTRO.VASTU.NUMEROLOGY/  Panchak 2021: आज से शुरू पंचक, धन और करियर से जुड़े मामलों में बरतें सावधानी, वहीं ये काम  करना होगा शुभ

आषाढ़ मास कृष्ण पक्ष की उदया तिथि चतुर्थी की दोपहर 1 बजे से शुरू होकर 3 जुलाई की सुबह 6 बजे तक पंचक रहेंगे। सोमवार को शुरू होने के कारण इसे राज पंचक कह जाता है। धनिष्ठा, शतभिषा, पूर्वा भाद्रपद, उत्तरा भाद्रपद एवं रेवती भी ऐसे ही पांच नक्षत्रों का एक समूह है। धनिष्ठा के प्रारंभ होने से लेकर रेवती नक्षत्र के अंत समय को पंचक कहते हैं।

ये काम करना होगा शुभ

राज पंचक शुभ माना जाता है। इसके प्रभाव से इन पांच दिनों में सरकारी कामों में सफलता मिलती है। राज पंचक में संपत्ति से जुड़े काम करना भी शुभ रहता है।

Vastu Tips: घर में जरूर रखें एरोवाना मछली, दूर रहेंगी बुरी शक्तियां

पंचक में इन कामों को करने की है मनाही

आचार्य इंदु प्रकाश के अुसार पंचक के दौरान लकड़ी इकठ्ठा करना, चारपाई बनवाना, घर की छत ढलवाने, दक्षिण दिशा की यात्रा करना आदि की मनाही होती है। 

  1. पंचक के दौरान बिजनेस को लेकर किसी भी तरह का लेनदेन नहीं करना चाहिए। 
  2. पंचक के दिनों में किसी भी तरह की यात्रा की शुरूआत न करे। 
  3. अगर किसी की शादी हुई है तो नई दुल्हन को घर नहीं लाना चाहिए और न ही विदा करना चाहिए। 
  4. लकड़ी आदि का कार्य भी नहीं करना चाहिए और ना ही घर बनाने के लिये लकड़ी इकट्ठी करनी चाहिए। ऐसा करने से धन की हानि हो सकती है।
  5. पूरे पंचक के दौरान घर की छत नहीं बनवानी चाहिए।
  6. चारपाई या बेड नहीं लेना चाहिए और ना ही बनवाना चाहिए। 
  7. अगर किसी की मृत्यु हो गई है तो उसके अंतिम संस्कार ठीक ढंग से न किया गया तो पंचक दोष लग सकते है। इसके बारें में विस्तार से गरुड़ पुराण में बताया गया है जिसके अनुसार अगर अंतिम संस्कार करना है तो किसी विद्वान पंडित से सलाह लेनी चाहिए और साथ में जब अंतिम संस्कार कर रहे हो तो शव के साथ आटे या कुश के बनाए हुए पांच पुतले बना कर अर्थी के साथ रखें। और इसके बाद शव की तरह ही इन पुतलों का भी अंतिम संस्कार विधि-विधान से करें। 

Sawan 2021: कब से शुरू हो रहा है सावन का महीना, जानिए सोमवार के व्रत की सभी तिथियां

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। Religion News in Hindi के लिए क्लिक करें लाइफस्टाइल सेक्‍शन
Write a comment
टोक्यो ओलंपिक 2020 कवरेज
X