Tuesday, June 18, 2024
Advertisement

Narasimha Jayanti 2024: मई में इस दिन है नरसिंह जयंती, जानें पूजा की विधि, शुभ मुहूर्त और महत्व

नरसिंह जयंती 2024 में किसी दिन मनाई जाएगी, इस दिन पूजा का शुभ मुहूर्त कब से कब तक रहेगा, विस्तार से जानें हमारे लेख में।

Written By: Naveen Khantwal
Updated on: May 19, 2024 13:28 IST
Narasimha Jayanti 2024- India TV Hindi
Image Source : INDIA TV Narasimha Jayanti 2024

Narasimha Jayanti 2024: भगवान नरसिंह को विष्णु जी का रौद्र अवतार माना जाता है। भगवान विष्णु के दस अवतारों में ये चौथे अवतार हैं। नरसिंह भगवान का मुंह सिंह का जबकि शरीर मनुष्य का है। अपने भक्त प्रहलाद की रक्षा के लिए विष्णु जी ने यह अवतार धारण लिया था। हर साल वैशाख मास में नरसिंह जयंती आती है। ऐसे में आइए जानते हैं कि साल 2024 में नरसिंह जयंती कब है, इस दिन पूजा का शुभ मुहूर्त कब से कब तक रहेगा। 

नरसिंह जयंती 2024

हिंदू पंचाग के अनुसार, हर साल वैशाख माह में शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि को नरसिंह जयंती मनाई जाती है। साल 2024 में यह तिथि 21 मई को है। चतुर्दशी तिथि का आरंभ 21 मई की शाम को 5 बजकर 40 मिनट से होगा और 22 मई शाम 6 बजकर 44 मिनट तक यह तिथि व्याप्त रहेगी। भगवान नरसिंह की पूजा शाम के समय किये जाने का विधान है, इसलिए नरसिंह जयंती 21 मई को ही मनाई जाएगी। 

नरसिंह जयंती पूजा मुहूर्त और विधि

भगवान नरसिंह की पूजा के लिए शुभ मुहूर्त 21 मई को 5 बजकर 45 मिनट से 7 बजकर 10 मिनट तक रहेगा। इस दौरान नरसिंह भगवान की आराधना करने से आपको शुभ फलों की प्राप्त होगी। आइए अब जान लेते हैं कि नरसिंह जयंती के दिन आपको पूजा किस तरह से करनी चाहिए। 

पूजा-विधि

नरसिंह भगवान की पूजा शाम के समय करने का विधान है। नरसिंह जयंती के दिन आपको सुबह तो स्नान-ध्यान करना ही चाहिए, लेकिन शाम के समय पूजा से पहले भी स्वच्छ होना चाहिए। इसके बाद पूजा स्थल पर भगवान नरसिंह की प्रतिमा या तस्वीर आपको स्थापित करनी चाहिए। प्रतिमा स्थापित करने के बाद पंचामृत से भगवान का अभिषेक करना चाहिए और चंदन का तिलक लगाना चाहिए। इस दिन संभव हो तो देशी घी का दीपक भगवान के सामने जलाएं। इसके बाद नीचे दिए गए मंत्रों का जप करें।

  • ॐ उग्रं वीरं महाविष्णुं ज्वलन्तं सर्वतोमुखम्।

    नृसिंहं भीषणं भद्रं मृत्यु मृत्युं नमाम्यहम्।।

  • ॐ नृम नरसिंहाय शत्रुबल विदीर्नाय नमः।।
  • “ॐ नृम मलोल नरसिंहाय पूरय-पूरय”

इन मंत्रों का यथासंभव जप करने के बाद पूजा के अंत में आपको नरसिंह भगवान की आरती करनी चाहिए। अगर व्रत रखने वाले हैं तो, व्रत का पारण अगली तिथि को किया जाना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि नरसिंह भगवान की पूजा आराधना करने से भक्तों की मनोकामनाएं पूरी होती हैं। 

नरसिंह जयंती का महत्व 

नरसिंह जयंती को बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में मनाया जाता है। इस दिन प्रहलाद के भक्ति भाव से प्रसन्न होकर भगवान विष्णु ने नरसिंह अवतार लिया था और हिरण्यकश्यप का वध किया था। नरसिंह जयंती के दिन व्रत रखने और भगवान नरसिंह की पूजा करने से घर में सुख-समृद्धि आती है और साथ ही ग्रह-दोष से भी आप मुक्त होते हैं। नरसिंह भगवान के आशीर्वाद से भक्त विपरीत परिस्थितियों में भी, अच्छे परिणाम पा सकते हैं। विष्णु भगवान के नरसिंह अवतार की पूजा करने से आपके तेज और आत्मविश्वास में भी वृद्धि होती है। 

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं। इसका कोई भी वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है। इंडिया टीवी एक भी बात की सत्यता का प्रमाण नहीं देता है।)

ये भी पढ़ें-

इन 4 राशियों के लोग होते हैं बेहद इमोशनल, छोटी-छोटी बातें भी चुभ जाती हैं इनको

क्या आपकी हथेली पर भी है विष्णु चिह्न? जानें ये हाथ में कैसे बनता है और इसके प्रभाव क्या होते हैं

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Festivals News in Hindi के लिए क्लिक करें धर्म सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement