1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. अन्य देश
  5. न्यूजीलैंड के PM ने ऑस्ट्रेलिया से कहा- बहुत हो गई नकल, अब अपने देश का झंडा बदल दें

न्यूजीलैंड के PM ने ऑस्ट्रेलिया से कहा- बहुत हो गई नकल, अब अपने देश का झंडा बदल दें

यदि आपने इन दोनों देशों के झंडों को देखा होगा तो आपको निश्चित तौर पर पता होगा कि इनके बीच कितनी समानता है।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Published on: July 26, 2018 19:17 IST
Acting New Zealand PM Winston Peters tells Australia to change its flag | AP- India TV
Acting New Zealand PM Winston Peters tells Australia to change its flag | AP

वेलिंगटन: क्या आपने कभी ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के राष्ट्रीय ध्वजों को देखा है? यदि आपने इन दोनों देशों के झंडों को देखा होगा तो आपको निश्चित तौर पर पता होगा कि इनके बीच कितनी समानता है। शायद यही वजह है कि न्यूजीलैंड के कार्यवाहक प्रधानमंत्री चाहते हैं कि ऑस्ट्रेलिया अपना राष्ट्रीय ध्वज बदल ले। यही नहीं, उन्होंने कहा कि ऑस्ट्रेलिया ने न्यूजीलैंड के झंडे के डिजाइन की नकल की, जिसकी वजह से आज दूसरे देशों के लोगों को झंडों में अंतर पहचानने में दिक्कत होती है।

विंस्टन पीटर्स ने गुरुवार को अपने पड़ोसी देश ऑस्ट्रेलिया से अपना ध्वज बदलने की गुजारिश की। उन्होंने कहा कि दोनों देशों के ध्वज में समानता के कारण भ्रम पैदा होता है। पीटर्स ने कहा, ‘हमने इसका डिजाइन तैयार किया और उन्होंने इसे अपना लिया। अगर हम मामला सुलझाना चाहते हैं तो उन्हें अपना ध्वज बदलना चाहिए। यह साफ होना चाहिए क्योंकि दुनिया भर में लोग भ्रम में पड़ जाते हैं। मैं तुर्की और कुछ अन्य जगहों पर था जहां वे लोग ध्वज को लेकर भ्रमित थे।’

न्यूजीलैंड का झंडा बाएं ऑस्ट्रेलिया का झंडा दाएं | AP

न्यूजीलैंड का झंडा बाएं ऑस्ट्रेलिया का झंडा दाएं | AP

आपको बता दें कि न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया का ध्वज गहरे नीले रंग का है और ऊपर कोने में पूर्व औपनिवेशिक ताकत ब्रिटेन का यूनियन जैक या ध्वज का प्रतीक है। अंतर बस इतना है कि ऑस्ट्रेलियाई ध्वज में 6 सफेद तारे हैं जबकि न्यूजीलैंड के ध्वज में 4 लाल तारे हैं। प्रधानमंत्री जेसिंडा अर्डर्न अभी मातृत्व अवकाश पर हैं ऐसे में पीटर्स देश का नेतृत्व कर रहे हैं।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Around the world News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन
Write a comment