Sunday, June 16, 2024
Advertisement

इब्राहिम रईसी: हमेशा विवादों में रहे पर कभी झुके नहीं, बुर्का विरोधी आंदोलन का मजबूती से सामना किया, पढ़ें ईरानी राष्ट्रपति की कहानी

इब्राहिम रईसी हमेशा ही विवादों में रहे। उनके उदय से लेकर देश में शासन करने और मौत का नाता भी विवाद से जुड़ा है। हालांकि, अपनी मजबूत इच्छाशक्ति और अडिग रहने के लिए वह याद किए जाएंगे।

Edited By: Shakti Singh
Published on: May 20, 2024 23:32 IST
Ebrahim Raisi- India TV Hindi
Image Source : PTI इब्राहिम रईसी

ईरान के राष्ट्रपित इब्राहिम रईसी की मौत पूरी दुनिया में चर्चा का विषय बनी हुई है। प्लेन क्रैश होने के चलते उनके साथ ईरान के विदेश मंत्री और अन्य अधिकारी मारे गए। रईसी का प्लेन हादसे का शिकार हुआ, लेकिन कुछ लोगों का मानना है कि साजिश के तहत उनके प्लेन को क्रैश कराया गया। रईसी का पूरा जीवन विवादों से घिरा रहा है, लेकिन हमेशा ही उन्होंने अडिग रहकर एक मिशाल पेश की। उनके फैसले सही हों या गलत।  वह हमेशा उन पर अडिग रहे और एक नेता के रूप में डटकर मुश्किल हालातों का सामना किया। 

1998 में तेहरान में हुए नरसंहार में भूमिका होने के चलते रईसी को तेहरान का कसाई भी कहा गया, लेकिन इसके बाद भी वह अपनी नीतियों पर अडिग रहे और राष्ट्रपति बनने के तके बाद भी विवादों ने उनका दामन नहीं छोड़ा। उन्होंने यूरेनियम और हथियार के मामलों में अहम योगदान देने के साथ ही इजराइल के साथ संघर्ष में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

कौन थे इब्राहिम रईसी

धर्मगुरू के रूप में अपनी पहचान बनाने वाले रईसी हमेशा ही एक नेता से ज्यादा इस्लामिक धर्मगुरू के गुण रखते थे। कुरान को चुमने से लेकर अमेरिका और पूरी दुनिया के साथ संवाद में भी रईसी के धर्मगुरू होने की झलक दिखती थी। वह ईरान की अदालत का संचालन कर चुके थे और 2017 में राष्ट्रपति का चुनाव हारे थे। राष्ट्रपति बनने के बाद जब भी मध्य पूर्व में विवाद हुए तब रईसी मजबूती के साथ डटे रहे और उनका सामना किया। जब इजराइल ने तेहरान में हमला करने की बात कही तब भी वह अडिग रहे और उनके फैसले की जमकर तारीफ हुई।

बुर्का विरोध से कैसे निपटे?

साल 2022 में महसा अमीनी नाम की एक महिला की मौत के बाद ईरान में मजकर बवाल हुआ। 22 साल की इस युवती को ईरान की मोरल पुलिस ने बुर्का न पहनने के कारण गिरफ्तार किया था और पुलिस हिरासत में रहने के दौरान उसकी मौत हो गई थी। इसके बाद पूरे देश में लंबे समय तक विरोध प्रदर्शन होते रहे। अमेरिका सहित कई बड़े देशों ने ईरान पर बुर्का न पहनने की छूट देने के लिए दबाव बनाया, लेकिन रईसी ने पूरी मजबूती के साथ इस्लाम के नियमों का पालन किया और नियमों में कोई बदलाव नहीं किया।

बुर्का के खिलाफ विरोध प्रदर्शन में 500 से ज्यादा मौतें हुईं, जिसमें 71 नाबालिग भी शामिल थे। सैकड़ों लोग घायल हुए और हजारों को बंधक बनाया गया। मालवाधिकार संस्थाओं के अनुसार ईरान ने इस मामले में सात लोगों को फांसी भी दी। प्रदर्शन के दौरान कई पत्रकार, वकील, सवाजसेवी, छात्र, शिक्षक, कलाकार, नेता, अल्पसंख्यक और प्रदर्शनकारियों के रिश्तेदारों को जान गंवानी पड़ी। कई लोग गिरफ्तार हुए, उन्हें धमकाया गया और नौकरी से निकाल दिया गया। 

हमसा अमीनी की मौत के बाद पश्चिमी देशों ने ईरान पर दबाव बनाया। अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि अमीनी ने बड़ा आंदोलन खड़ा करने में अहम योगदान दिया है। इसके जवाब में ईरान ने कहा कि मानव अधिकार को लेकर पश्चिमी देशों का रवैया दोहरा और झूठा है। ईरान की तरफ से कहा गया कि ईस्लाम के नियमों को लेकर गलतफहमी के चलते उनका विरोध किया जा रहा है।

कठोर फैसले लेने की ताकत

रईसी के अंदर कठोर फैसले लेने की क्षमता थी और यह उनके पूरे कार्यकाल के दौरान दिखा। बुर्का विरोध के दौरान पूरे देश में अस्थिरता फैली हुई थी। बाहरी देशों का दबाव था। अमेरिका और पश्चिम की कई बड़ी ताकतें कानून बदलने की बात कह रही थीं, लेकिन रईसी अपने फैसले पर अडिग रहे। यही दृढ़ता उन्होंने ईजराइल के खिलाफ हाल ही में दिखाई थी। सीरीया के डेमैस्कस में ईरान दूतावास में हमला हुआ था, जिसमें ईरान के कई नजरल मारे गए थे। आशंका जताई गई की यह हमला इजराइल ने किया था। इसका बदला लेने के लिए रईसी ने तेल अवीव पर हमला किया और 300 से ज्यादा मिसाइल ड्रोन दागे। इस घटना के बाद दोनों देशों के रिश्तों में और खटास आ गई, जबकि पहले ही दोनों देश कई वर्षों से लड़ते आ रहे हैं।

यह भी पढ़ें-

हैरतअंगेज: वैज्ञानिकों ने खोजा अजीबोगरीब जीव, बना लेता है खुद का क्लोन, जानें कैसा दिखता है

जूलियन असांजे को बड़ी राहत, ब्रिटेन की अदालत ने अमेरिकी प्रत्यर्पण के खिलाफ अपील करने की इजाजत दी

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Around the world News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement