Iran Nuclear Deal: आखिरकार पटरी पर लौटेगा ईरान परमाणु समझौता! सभी पक्षों के बीच बातचीत खत्म, ड्राफ्ट तैयार, आखिर क्यों है राहत की बात?

Iran Nuclear Deal: ईरान ने भी मांग की कि अमेरिका गारंटी दे कि वह समझौते से फिर बाहर नहीं जाएगा और उसके अर्धसैनिक बल रिवल्यूशनरी गार्ड पर आतंकवाद को लेकर लगाए गए प्रतिबंधों को हटा लेगा।

Shilpa Written By: Shilpa
Published on: August 09, 2022 12:33 IST
iran nuclear deal - India TV Hindi News
Image Source : AP iran nuclear deal

Highlights

  • ईरान परमाणु डील पर बातचीत खत्म
  • परमाणु डील मामले में ड्राफ्ट तैयार
  • अमेरिका 2018 में हुआ था इससे बाहर

Iran Nuclear Deal: विश्व शक्तियों के साथ ईरान के परमाणु समझौते को फिर से पटरी पर लाने के लिए वार्ता सोमवार को समाप्त हो गई है। संबंधित पक्षों ने समझौते को फिर से लागू करने के संबंध में एक अंतिम मसौदा तैयार किया है। राजनयिकों ने यह जानकारी दी। वार्ता में मॉस्को के हितों का प्रतिनिधित्व करने वाले रूसी राजदूत मिखाइल उल्यानोव ने कहा कि यूरोपीय संघ ने ऐतिहासिक परमाणु समझौते को पुनर्जीवित करने के लिए समझौते का ‘अंतिम मसौदा’ तैयार किया है, जिसमें परमाणु कार्यक्रम पर कड़े प्रतिबंधों के बदले ईरान को पाबंदियों से राहत दी गई है। 

उल्यानोव ने ट्वीट किया, ‘संबंधित पक्षों को अब यह तय करने की जरूरत है कि क्या मसौदा उनके लिए स्वीकार्य है। आपत्ति नहीं होने की स्थिति में परमाणु समझौता बहाल किया जाएगा।’ ईरान ने 2015 में अमेरिका, फ्रांस, जर्मनी, ब्रिटेन, रूस और चीन के साथ परमाणु समझौता किया था। ईरान की समाचार एजेंसी ‘इरना’ ने कहा कि ईरान के मुख्य वार्ताकार अली बघेरी कानी परामर्श के लिए जल्द तेहरान लौटेंगे। ईरान के सर्वोच्च नेता आयतुल्ला अली खामनेई किसी भी समझौते पर अंतिम निर्णय लेंगे। अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने 2018 में समझौते से अमेरिका के हटने की घोषणा की थी। इसके बाद से ईरान अपने परमाणु कार्यक्रम का विस्तार करने लगा।

समझौते को बचाने की आखिरी कोशिश

यह कदम वर्ष 2015 में ईरान और विश्व शक्तियों के बीच हुए परमाणु समझौते को बचाने की आखिरी कोशिश प्रतीत हो रही है। हालांकि। अब अमेरिका के वर्तमान राष्ट्रपति जो बाइडेन अमेरिका को समझौते में शामिल करने के लिए हर संभव कोशिश कर रहे हैं। इससे पहले वियना में होने वाली वार्ता की अध्यक्षता करने वाले यूरोपीय संघ के अधिकारी एनरिक मोरा ने ट्वीट किया कि बातचीत के केंद्र में हाल में समझौते को बहाल करने के लिए तैयार मसौदा रहेगा। वहीं, ईरान ने कहा कि वह अपने परमाणु वार्ताकार अली बाघेरी कानी को ऑस्ट्रिया की राजधानी वियना भेज रहा है।

ईरान ने अमेरिका से मांगी गारंटी

ईरान ने भी मांग की कि अमेरिका गारंटी दे कि वह समझौते से फिर बाहर नहीं जाएगा और उसके अर्धसैनिक बल रिवल्यूशनरी गार्ड पर आतंकवाद को लेकर लगाए गए प्रतिबंधों को हटा लेगा। अचानक वियना में वार्ता की घोषणा ईयू के विदेश मामलों के प्रमुख जोसेफ बोरेल द्वारा गत हफ्तों में गतिरोध को दूर करने की लगातार की जा रही कोशिशों का नतीजा माना जा रहा है। उन्होंने हाल में ‘द फिनेंशियल टाइम्स’ के लिए लिखे लेख में कहा था कि ‘अतिरिक्त अहम सुलह के लिए संभावनाएं क्षीण हो रही हैं।’

ईरान ने किया है शर्तों का उल्लंघन

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने वर्ष 2018 में ईरान के साथ हुए परमाणु समझौते से अमेरिका के अलग करने की घोषणा की थी। इस समझौते में ईरान के परमाणु कार्यक्रम पर रोक के एवज में उसके खिलाफ लगे कई प्रतिबंधों को हटा लिया गया था। परमाणु अप्रसार विशेषज्ञों के मुताबिक अमेरिका के समझौते से अलग होने के बाद ईरान ने बड़े पैमाने पर परमाणु गतिविधियों को शुरू किया। उसने समझौते की शर्तों का खूब उल्लंघन किया है और उसके पास एक परमाणु हथियार बनाने के लिए पर्याप्त उच्च परिष्कृत यूरेनियम भी मौजूद है।

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Around the world News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन
navratri-2022