अफगानिस्तान में जानलेवा हुई ठंड, मरने वालों की संख्या बढ़कर 124 हुई, 70 हजार मवेशियों की गई जान

अफागानिस्तान में ठंड के बीच बहुत से लोगों के पास पर्याप्त भोजन तक नहीं है। तालिबान के कब्जे के बाद से यहां लाखों लोग भुखमरी की कगार पर हैं।

Khushbu Rawal Edited By: Khushbu Rawal @khushburawal2
Updated on: January 25, 2023 10:38 IST
afghanistan winter- India TV Hindi
Image Source : TWITTER अफगानिस्तान में कड़ाके की ठंड

काबुल: अफगानिस्तान में तालिबान के नेतृत्व वाली सरकार ने पुष्टि की है कि ठंड के मौसम के कारण देश भर में कम से कम 124 लोग मारे गए हैं। बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, राज्य के आपदा प्रबंधन मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने मौत की पुष्टि करते हुए कहा कि एक दशक की सबसे ज्यादा ठंड में लगभग 70,000 मवेशियों की भी मौत हो गई है।

लाखों लोग भुखमरी की कगार पर

ठंड के बीच बहुत से लोगों के पास पर्याप्त भोजन तक नहीं है। तालिबान के कब्जे के बाद से यहां लाखों लोग भुखमरी की कगार पर हैं। संयुक्त राष्ट्र की ओर से चलाए जा रहे सहायता अभियान पर भी तालिबान अडंगे लगा रहा है। इसलिए ठंड के साथ भूख से भी कई मौतों की आशंका है।

कार्यवाहक आपदा प्रबंधन मंत्री मुल्ला मोहम्मद अब्बास अखुंद ने बताया कि अफगानिस्तान के कई इलाके अब बर्फ से पूरी तरह कट गए हैं। बचाव के लिए सैन्य हेलीकॉप्टर भेजे गए थे, लेकिन वे सबसे पहाड़ी क्षेत्रों में नहीं उतर सके। अखुंद ने कहा कि वह अभी भी अफगानों और उनके पशुओं की बढ़ती मौत के बारे में चिंतित है।

अधिकांश सड़कें बर्फ के कारण बंद
मंत्री ने बताया, ठंड से जान गंवाने वाले ज्यादातर लोग चरवाहे या ग्रामीण इलाकों में रहने वाले लोग थे। उनके पास स्वास्थ्य सेवा तक पहुंच नहीं थी। उन्होंने आगे कहा, "हम उन लोगों के बारे में चिंतित हैं जो अभी भी पर्वतीय क्षेत्रों में रह रहे हैं। पहाड़ों से गुजरने वाली अधिकांश सड़कें बर्फ के कारण बंद हो गई हैं। कारें वहां फंस गई हैं और ठंड के तापमान में यात्रियों की मौत हो गई है।"

इस साल के राहत कार्यों में पिछले महीने तालिबान सरकार द्वारा अफगान महिलाओं को सहायता एजेंसियों में काम करने पर रोक लगाने के फरमान से बाधा उत्पन्न हुई है।

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन