Shinzo Abe: जानिए किस वजह से हत्यारे ने शिंजो आबे को मारी थी गोली, पुलिस ने किया बड़ा खुलासा

Shinzo Abe:शनिवार को शिंजो आबे के शव उनके गृहनगर टोक्यो लाया गया। उनका अंतिम संस्कार मंगलवार को किया जाएगा। पुलिस की एक रिपोर्ट के मुताबिक, पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चला है कि गोली आबे के बाएं हाथ के ऊपरी हिस्से में लगी थी।

Sudhanshu Gaur Written By: Sudhanshu Gaur
Published on: July 10, 2022 15:14 IST
Shinzo Abe- India TV Hindi News
Image Source : PTI Shinzo Abe

Highlights

  • शुक्रवार को गोली मारकर की गई थी हत्या
  • हत्यारे के पास से पुलिस ने बरामद की थी शॉट गन
  • पूर्व पीएम की नीतियों से नाराज था हत्यारा

Shinzo Abe: जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे की हत्या मामले में पुलिस ने कई नए खुलासे किये हैं। पुलिस ने हत्या की वजह का भी खुलासा किया है। पुलिस के अनुसार गोली चलाने वाले तेत्सुया यामागामी ने आबे की हत्या की साजिश इसलिए रची, क्योंकि उसे अभरोसा हो गया था कि शिंजो आबे एक ऐसे संगठन से जुड़े थे, जिससे वह नाराज था। जापानी मीडिया के मुताबिक, हमलावर को एक धार्मिक समूह से नफरत हो गई थी।

हालांकि हत्यारे की मां भी उसी धार्मिक समूह से जुड़ी हुई थीं। रिपोर्ट में उस धार्मिक समूह के नाम का खुलासा नहीं किया गया है। हालंकि इन सबके बीच भी जापान में चुनाव नहीं टलेंगे। वहीं शनिवार को शिंजो आबे के शव उनके गृहनगर टोक्यो लाया गया। उनका अंतिम संस्कार मंगलवार को किया जाएगा। पुलिस की एक रिपोर्ट के मुताबिक, पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चला है कि गोली आबे के बाएं हाथ के ऊपरी हिस्से में लगी थी। इससे दोनों कॉलर बोन के नीचे की धमनियां क्षतिग्रस्त हुई थी और बड़ी मात्रा में खून बहने लगा था।

कम सुरक्षा व्यवस्था बनी मौत की वजह

गोलीबारी की घटना के बाद कई वीडियो वायरल हुए थे। जिसको देखने के बाद कई जापानी विश्लेषकों का मानना है कि शिंजो आबे की हत्या की मुख्य वजह उनकी सही तरीके से सुरक्षा का न होना है। जब शिंजो आबे एक चुनावी सभा को संबोधित कर रहे थे, तब उनके पीछे खुली जगह में सुरक्षा व्यवस्था कम थी। क्योटो प्रांत के पूर्व पुलिस इन्वेस्टीगेटर फुमिकाजु हिगुची ने कहा, ‘घटना के वक्त सुरक्षा तितर-बितर थी और पूर्व प्रधानमंत्री के लिहाज से अपर्याप्त थी। यह जांच करने की जरूरत है कि सुरक्षाकर्मियों ने शिंजो आबे के पीछे यामागामी को खुला क्यों घूमने दिया और उनके पीछे क्यों जाने दिया।’

विशेषज्ञों के मुताबिक, आबे प्रचार वाहन के बजाय जमीन पर खड़े होकर सभा को संबोधित कर रहे थे। ऐसे में उन्हें निशाना बनाना आसान हो गया। बताया जाता है कि उनकी सभा के लिए प्रचार वाहन की व्यवस्था नहीं की जा सकी थी, क्योंकि नारा शहर का कार्यक्रम जल्दबाजी में बनाया गया था।

Latest World News

navratri-2022