Wednesday, July 24, 2024
Advertisement

हैती में खतरनाक हुई हिंसा, अब तक 530 से ज्यादा लोगों की हो चुकी मौत, संयुक्त राष्ट्र ने जताई चिंता

OHCHR के प्रवक्ता ने कहा कि, अकेले मार्च के पहले दो हफ्तों में गिरोहों के बीच झड़पों में कम से कम 208 मारे गए, 164 घायल हुए और 101 का अपहरण कर लिया गया। अधिकांश पीड़ितों को स्निपर्स द्वारा मार दिया गया या घायल कर दिया गया।

Edited By: Sudhanshu Gaur @SudhanshuGaur24
Updated on: March 22, 2023 6:19 IST
 हैती में खतरनाक हुई हिंसा- India TV Hindi
Image Source : ANI हैती में खतरनाक हुई हिंसा

जेनेवा: कैरेबियाई देश हैती में पिछले कई दिनों से चलती आ रही हिंसा ने अब और भी रूप धारण कर लिया है। वहां इन दिनों गैंगवार बढ़ता ही जा रहा है। इस खूनी संघर्ष में अब तक सैंकड़ों लोग मारे जा चुके है। हिंसा और हैती में तेजी से बिगड़ती स्थिति के बीच, मानवाधिकार के उच्चायुक्त के कार्यालय ने कहा कि सामूहिक हिंसा में 530 से अधिक लोग मारे जा चुके हैं।मानवाधिकार के उच्चायुक्त के कार्यालय द्वारा जारी बयान के अनुसार, प्रवक्ता मार्टी हीडो ने कहा कि जनवरी से 15 मार्च तक कुल 531 लोग मारे गए, 300 घायल हुए और 277 लोगों का अपहरण गिरोह से जुड़ी घटनाओं में हुआ, जो मुख्य रूप से राजधानी पोर्ट-ओ-प्रिंस में हुई थी।

हैती में हो रही हिंसा पर OHCHR ने चिंता जताई

जानकारी के मुताविक हर्टाडो ने एक बयान में कहा, हैती में हो रही हिंसा पर OHCHR ने चिंता जताई है। उन्होंने कहा, वे हैती में चरम हिंसा के नियंत्रण से बाहर होने को लेकर "गंभीर रूप से चिंतित हैं। उन्होंने कहा, गिरोहों के बीच संघर्ष अधिक हिंसक और अधिक लगातार होते जा रहे हैं, क्योंकि वे प्रतिद्वंद्वियों द्वारा नियंत्रित क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को लक्षित करके पूरे राजधानी और अन्य क्षेत्रों में अपने क्षेत्रीय नियंत्रण का विस्तार करने का प्रयास करते हैं। उन्होंने कहा कि नए साल की शुरुआत से 15 मार्च तक कुल 531 लोग मारे गए, 300 घायल हुए और 277 लोगों का अपहरण गिरोह से जुड़ी घटनाओं में हुआ, जो मुख्य रूप से राजधानी पोर्ट-ओ-प्रिंस में हुई थी।

 मार्च के पहले दो हफ्तों में गिरोहों के बीच झड़पों में 208 लोग मारे गए

OHCHR के प्रवक्ता ने कहा कि, अकेले मार्च के पहले दो हफ्तों में गिरोहों के बीच झड़पों में कम से कम 208 मारे गए, 164 घायल हुए और 101 का अपहरण कर लिया गया। अधिकांश पीड़ितों को स्निपर्स द्वारा मार दिया गया या घायल कर दिया गया, जो कथित तौर पर लोगों के घरों या सड़कों पर अनकंट्रोल तरीके से शूटिंग कर रहे थे। महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ गिरोह द्वारा यौन हिंसा का इस्तेमाल आबादी को आतंकित करने, अधीन करने और दंडित करने के लिए भी किया जाता है। गिरोह के सदस्य अक्सर अपहृत लड़कियों के खिलाफ यौन हिंसा का इस्तेमाल परिवारों पर फिरौती देने के लिए दबाव डालने के लिए करते हैं। 

 

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Europe News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement