1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. सिनेमा
  4. बॉलीवुड
  5. दिल्ली विधानसभा की समिति ने कंगना रनौत को तलब किया

दिल्ली विधानसभा की समिति ने कंगना रनौत को तलब किया

कंगना रनौत अपने बयान को लेकर इन दिनों चर्चा में बनी हुई हैं। बीते दिनों उनके 'भीख' वाले बयान पर भी काफी हंगामा मचा था।

India TV Entertainment Desk India TV Entertainment Desk
Updated on: November 25, 2021 16:16 IST
Kangana Ranaut - India TV Hindi
Image Source : INSTAGRAM/KANGANA RANAUT दिल्ली विधानसभा की पीस एंड हार्मोनी समिति ने कंगना रनौत को तलब किया

Highlights

  • कंगना द्वारा ‘इंस्टाग्राम’ पर की गई टिप्पणियों के मद्देनजर उन्हें समन भेजा गया है।
  • कंगना रनौत को समिति के सामने 6 दिसंबर को पेश होने के लिए कहा है।

दिल्ली विधानसभा की शांति एवं सद्भाव (पीस एंड हार्मोनी) समिति ने सोशल मीडिया पर कथित तौर पर घृणा फैलाने वाले पोस्ट के मामले में अभिनेत्री कंगना रनौत को तलब किया है। समिति के अध्यक्ष राघव चड्ढा ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी।

समिति की ओर से जारी एक बयान में बताया गया है कि कंगना द्वारा ‘इंस्टाग्राम’ पर की गई टिप्पणियों को कथित तौर पर आपत्तिजनक तथा अपमानजनक बताने वाली शिकायतों के आधार पर अभिनेत्री को नोटिस जारी कर छह दिसंबर को पेश होने को कहा गया है। शिकायतों में दावा किया गया है कि कंगना ने अपने कथित पोस्ट में सिख समुदाय को ‘‘खालिस्तानी आतंकवादी’’ बताया था।

उल्लेखनीय है कि इससे पहले दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (DSGMC) द्वारा अभिनेत्री के खिलाफ शिकायत दर्ज करने के एक दिन बाद उपनगरीय खार पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज की गई थी। किसानों के विरोध को खालिस्तानी आंदोलन बताते हुए एक पोस्ट डालने के बाद कंगना रनौत को इस विवाद का सामना करना पड़ रहा है। उन्हें भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 295 ए (जानबूझकर और दुर्भावनापूर्ण कृत्यों, किसी भी वर्ग की धार्मिक भावनाओं को उसके धर्म या धार्मिक विश्वासों का अपमान करने के इरादे से) के तहत केस दर्ज किया गया था और आगे की जांच चल रही थी।

अधिकारी के अनुसार, मामले में शिकायतकर्ता मुंबई के एक व्यवसायी अमरजीत सिंह संधू हैं, जो डीएसजीएमसी प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा थे, जिन्होंने सोमवार को शिकायत दर्ज की थी। संधू ने एक बयान में कंगना पर इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट में उनके समुदाय के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने का आरोप लगाया।

शिकायत दर्ज करने के बाद, शिरोमणि अकाली दल के नेता मनजिंदर सिंह सिरसा के नेतृत्व में डीएसजीएमसी प्रतिनिधिमंडल, जो संगठन के अध्यक्ष भी हैं, ने महाराष्ट्र के गृह मंत्री दिलीप वालसे पाटिल और मुंबई पुलिस के शीर्ष अधिकारियों से मुलाकात की और रनौत के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। 

शिकायत में, डीएसजीएमसी ने उल्लेख किया कि रनौत ने जानबूझकर और किसानों के विरोध (किसान मोर्चा) को 'खालिस्तानी' आंदोलन के रूप में चित्रित किया और सिख समुदाय को 'खालिस्तानी आतंकवादी' भी करार दिया।

(पीटीआई इनपुट के साथ)

 

bigg boss 15