1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. हेल्थ
  4. कोरोना वायरस पर प्रियंका चोपड़ा ने WHO के डायरेक्टर से पूछे कुछ सवाल, इनके जवाब कर देंगे आपका हर कंफ्यूजन दूर

कोरोना वायरस पर प्रियंका चोपड़ा ने WHO के डायरेक्टर से पूछे कुछ सवाल, इनके जवाब कर देंगे आपका हर कंफ्यूजन दूर

कोरोना वायरस को लेकर बॉलीवुड-हॉलीवुड एक्ट्रेस प्रियंका चोपड़ा ने अपने पति निक जोनस के साथ विश्व स्वास्थ्य संगठन के डारेक्टर जनरल डॉ टेड्रोस अदनोम और डॉ मारिया वान केरखोव से कुछ सवाल किए। इनके जवाब आपके भी काम आएंगे।

India TV Lifestyle Desk India TV Lifestyle Desk
Updated on: March 25, 2020 13:58 IST
priyanka chopra, corona virus- India TV Hindi
priyanka chopra corona virus

कोरोना वायरस को लेकर पूरी दुनियाभर के लोग सतर्क हैं। वहीं कोरोना वायरस को लेकर दुनिया भर के सोशल मीडिया पर तरह-तरह की अफवाहें उड़ रही है। ऐसी ही अफवाहों से परेशान होकर कोरोना वायरस से संबंधित कुछ सवालों से परेशान होकर बॉलीवुड-हॉलीवुड एक्ट्रेस प्रियंका चोपड़ा ने अपने पति निक जोनस के साथ मिलकर विश्व स्वास्थ्य संगठन के डारेक्टर जनरल डॉ टेड्रोस अदनोम (Dr. Tedros Adhanom) और डॉ मारिया वान केरखोव (Dr. Maria Van Kerkhove) से कुछ सवाल पूछे हैं। डॉक्टरों की ये टीम इन दिनों कोरोना वायरस के इलाज की खोज के लिए तकनीकी नेतृत्व कर रही है।  

प्रियंका चोपड़ा ने इंस्टाग्राम पर कई सवाल पूछे हैं जिन्हें लेकर आम जनता भी भ्रम की स्थिति में है। ऐसे में प्रियंका और निक के सवाल और डॉक्टरी टीम के जवाब सबके काम आएंगे औऱ कई भ्रम दूर करेंगे।

पहला सवाल

प्रियंका चोपड़ा के पति निक जोनस ने सबसे पहला सवाल पूछा। उन्होंने कहा कि  मैं टाइप-1 डायबिटीज से पीड़ित हूं और प्रियंका अस्थमा की शिकार हैं। जैसा कि बताया जा रहा है कि कोरोना वायरस उन लोगों के लिए खतरनाक है, जो पहले से किसी बीमारी का शिकार हैं, तो हम दोनों अपनी सुरक्षा को लेकर काफी चिंतिंत है।

जवाब- निक के सवाल का जवाब देते हुए डॉ. मारिया कहती हैं, "दुनियाभर में बढ़ रहे मामलों से हमें पता चला है कि जो लोग पहले से किसी बीमारी जैसे- डायबिटीज, कार्डियोवस्कुलर डिजीज , रेस्पिरेटरी डिजीज यानी सांस संबंधी बीमारियां और कैंसर आदि का शिकार हैं, इसके अलावा जिनकी उम्र 60 साल से अधिक है उन्हें कोरोना वायरस का खतरा अधिक है। इन लोगों को घर से बाहर निकलने से बचना चाहिए। इसके अलावा अगर कोई इससे पीड़ित नहीं है तो उसे दूसरों की मदद करनी चाहिए। इसके बाद डॉ मारिया कहती है कि हम पूरी दुनिया के युवाओं से एक बात कहना चाहते हैं जैसा कि डॉ. टेडरस पहले ही कह चुके हैं कि "आप अजेय नहीं हैं"।

कोरोना वायरस से कितना अलग है हंता वायरस, जानिए कैसे फैलता है ये

इस वायरस से मरने का खतरा जितना बुजुर्गों को है उतना ही  युवाओं को भी है। आपको ये वायरस कम से कम आईसीयू जरूर भेज सकता है। इसलिए आप बिल्कुल भी न समझें कि कोरोना वायरस का खतरा पहले से बीमार व्यक्ति को ही होगा। आपको बता दें कि इस वायरस का खतरा हर किसी को है। इसलिए थोड़ा सावधान रखें। इसके साथ ही इस 5 बातों का पूरा ध्यान रखें।

  • अपने हाथों को धोएं।
  • छींकते समय कोहनी को मुंह से लगाकर छींकें।
  • अपने चेहरे को बिल्कुल भी न छुएं।
  • किसी भी व्यक्ति से कम से कम 1 मीटर की दूरी बनाकर रखें।

इस संक्रमण के बीच आप अपनी सेहत का पूरा ध्यान रखें। अगर आपोक बुखार या फिर तबीयत ठीक नहीं लग रही है तो घर पर ही रहीं। इसके अलावा अगर आपको सांस लेने में समस्या हो रही है तो डॉक्टर को तुरंत संपर्क करें।

दूसरा सवाल
प्रियंका चोपड़ा ने दूसरा सवाल पूछा कि क्या कोरोना वायरस का संक्रमण हवा से फैलता है? क्या ये एयर-बॉर्न वायरस है?
जवाब- डॉ मारिया बताती है कि  ये वायरस एयर-बॉर्न नहीं है और हवा से नहीं फैलता है। ये वायरस छोटी-छोटी बूंदों से फैलता है। ये बूंदें आपके मुंह से तब निकलती हैं, जब आप किसी से बात करते हैं, खांसते या छींकते हैं। ये वायरस जब किसी के आंखों, मुंह या नाक तक पहुंचते हैं तो व्यक्ति कोरोना वायरस से संक्रमित हो जाता है। अगर ये वायरस किसी सतह पर हों तो उसके जरिए आपके हाथ और फिर मुंह तक पहुंच सकता हैं। इसलिए अपने हाथों को साबुन से धोएं या एल्कोहल से साफ करें। 

केला कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकता है? जानें हेल्थ एक्सपर्ट की राय 

इसके बाद प्रियंका अपने फैंस को कहती हैं कि कोरोना वायरस से डरने की जरूरत नहीं है क्योंकि ये वायरस एक खास तरीके से ही आप तक पहुंच सकता है। ये हवा से, खाने से या जानवरों से नहीं फैलता है। 

तीसरा सवाल
क्या एक बार इलाज होने के बाद फिर से दोबारा कोरोना वायरस हो सकता है?
जवाब- डॉ. मारिया कहती हैं कि इस बारे में हमें अभी पूरी जानकारी नहीं है क्योंकि ये नया वायरस है, जिसके बारे में हम धीरे-धीरे पता कर रहे हैं। दुनियाभर में इस वायरस के शिकार 4 लाख लोगों में से 1 लाख को ठीक कर लिया गया है इन मामलों से एक बात जो समझ आती है कि जो लोग इस वायरस से ठीक हो चुके हैं, उनके शरीर का इम्यून सिस्टम वायरस के प्रति कुछ न कुछ रिस्पॉन्स करेगा। अभी तक हमें इस बारे में कुछ नहीं पता है कि कोरोना वायरस कितना शक्तिशाली या कमजोर होगा।

चौथा सवाल
क्या कोविड-19 गर्मी में मर जाते हैं? अगर मैं अपने घर को गर्म रखूं तो क्या इस वायरस से बचा जा सकता है?
जवाब- इस बारे में डॉ मारिया कहती है कि ये वायरस हर तरह के तापमान में फैल रहा है। उत्तरी चीन जैसे ठंडे इलाकों में भी और दक्षिण अफ्रीका और सिंगापुर जैसे गर्म इलाकों में भी। कई लोग ये सवाल पूछ रहे है कि गर्मियां आएंगी, तो क्या ये वायरस खत्म हो जाएगा? हमारा मानना है कि गर्मियों के आते ही वायरस का रिस्पॉन्स बदलेगा, तो हमारे शरीर का रिस्पॉन्स भी बदलेगा। इसलिए अभी यह कहना सही नहीं है कि गर्मी से ये वायरस खत्म हो जाएगा।

पांचवा सवाल
क्या इस वायरस को खत्म करने के लिए वैक्सीन तैयार की जा रही है?
जवाब- इस सवाल का जवाब देते हुए डॉ. टेडरस  बताते हैं कि विश्व स्वास्थ्य संगठन 8  हफ्ते पहले से ही इस वायरस की वैक्सीन के संबंध में कई मीटिंग्स कर चुका है। पूरी दुनिया के तमाम बड़े वैज्ञानिक इस पर काम कर रहे हैं। लेकिन वैक्सीन को आने में अभी से कम से कम 12 से 18 महीने लग सकते है। 

छठवां सवाल
क्या ऐसा संभव है कि कोई व्यक्ति कोरोना वायरस का शिकार हो, मगर उसे बुखार न आए?
जवाब- हां ये संभव है। कोरोना वायरस का शिकार होने पर व्यक्ति को सूखी खांसी, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, शरीर में दर्द और बुखार की समस्या होती है। कुछ लोगों में नाक बहने और छींक आने की भी समस्या होती है। लेकिन चीन में 90% से ज्यादा लोगों में बुखार एक मुख्य लक्षण रहा है। अगर आपको सिर्फ बुखार है तो यह नार्मल जुकाम हो सकता है। लेकिन अगर आपको बुखार के साथ सूखी खांसी और सांस लेने में तकलीफ भी है, तो ये कोविड-19 हो सकता है।

सातवां सवाल 
क्या कोई व्यक्ति एक साथ 2 वायरसों का शिकार हो सकता है? को-इंफेक्शन क्या है?
जवाब- हां, ऐसा हो सकता है। कुछ लोगों को इंफ्लुएंजा और कोविड-19 एक साथ हो सकता है। कुछ लोगों को बैक्टीरियल निमोनिया और कोरोना वायरस एक साथ हो सकता है। यानी किसी भी व्यक्ति को कोरोना के साथ दूसरा इंफेक्शन हो सकता है।

आठवां सवाल
कोरोना वायरस किस तरह की सतह पर जीवित रह सकता है?
जवाब- आपको बता दें कि किसी शरीर से बाहर वायरस जीवित नहीं होता है। ये तब एक्टिव होता है, जब किसी के शरीर में पहुंचता है। मगर अलग-अलग ठोस सतह पर ये वायरस एक्टिव रह सकता है। अभी शुरुआती अध्ययनों में पता चला है कि ये वायरस ठोस सतह पर घंटों तक एक्टिव रह सकता है। इसीलिए हम इस बात को बार-बार दोहरा रहे है कि कुछ भी छूने से बाद हाथों को जरूर धोएं। अपीन घर के मौजूद हर चीज को साफ रखें। जिसे इंफेक्शन न फैले।

नवां सवाल
हाथ साफ करने के लिए साबुन बेहतर है या सैनिटाइजर?
जवाब- आपके पास जो भी मौजूद है, उससे हाथ साफ करें। जरूरी है कि बस आपको हाथ साफ हो। 

दसवां सवाल
गरीब और विकासशील देशों के अशिक्षित लोगों को इस वायरस के डर से बचाने के लिए सरकारों को क्या करना चाहिए?
जवाब- लोगों तक साबुन पानी और हाथों को साफ करने के लिए दूसरे तरीके भी अपनना चाहए। इसके लिए हैंड-वॉशिंग स्टेशन बनाए जा सकते हैं।

कोरोना से जंग : Full Coverage

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। कोरोना वायरस पर प्रियंका चोपड़ा ने WHO के डायरेक्टर से पूछे कुछ सवाल, इनके जवाब कर देंगे आपका हर कंफ्यूजन दूर News in Hindi के लिए क्लिक करें हेल्थ सेक्‍शन
Write a comment
X