1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. किसानों को फिर दिल्ली में घुसना होगा और बैरिकेड तोड़ने होंगे- राकेश टिकैत

किसानों को फिर दिल्ली में घुसना होगा और बैरिकेड तोड़ने होंगे- राकेश टिकैत

Kisan Andolan: उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने हमें जाति और धर्म के आधार पर बांटने की कोशिश की लेकिन वो सफल नहीं हुए। जब आपसे कहा जाएगा तब आपको दिल्ली जाना होगा और फिर से बैरिकेड तोड़ने होंगे।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: March 24, 2021 14:24 IST
Rakesh Tikait says farmers will have to enter delhi again and breach barricades kisan andolan किसानो- India TV Hindi
Image Source : PTI (FILE) किसानों को फिर दिल्ली में घुसना होगा और बैरिकेड तोड़ने होंगे- राकेश टिकैत

जयपुर. दिल्ली की सीमाओं पर जारी किसान आंदोलन के बीच भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत विभिन्न प्रदेशों में घूम-घूमकर आंदोलन के लिए जनसमर्थन जुटाने का काम कर रहे हैं। राकेश टिकैत ने मंगलवार को राजस्थान के जयपुर में किसान पंचायत की। यहां राकेश टिकैत ने पंचायत में शामिल हुए लोगों से कहा कि केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन करने वाले किसानों को विभाजित नहीं होना है, उन्हें फिर से राष्ट्रीय राजधानी में जाना होगा और बैरिकेड को फिर से तोड़ना होगा।

पढ़ें- पेट्रोल के दाम से परेशान? अब मार्केट में आने वाला है 20 पैसे में एक किलोमीटर चलने वाला स्कूटर

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने हमें जाति और धर्म के आधार पर बांटने की कोशिश की लेकिन वो सफल नहीं हुए। जब आपसे कहा जाएगा तब आपको दिल्ली जाना होगा और फिर से बैरिकेड तोड़ने होंगे। राकेश टिकैत ने आगे कहा कि पीएम मोदी ने कहा है कि किसान अपनी फसलें कहीं भी बेच सकते हैं। हम राज्य की विधानसभाओं, कलेक्टर ऑफिस और संसद में फसलें बेचकर इसे साबित कर देंगे। संसद से बेहतर कोई मंडी नहीं हो सकती।

पढ़ें- नवाज शरीफ ने भारत को छूट दीं, लेकिन बदले में कुछ नहीं मिला: अब्दुल बाासित

इससे पहले रविवार को टिकैत ने कर्नाटक के किसानों से कहा कि वो अपने राज्य में दिल्ली की सीमाओं पर चल रहे प्रदर्शनों की तरह प्रदर्शन करें और राजधानी बेंगलुरु को चारों तरफ से घेर लें। टिकैत ने शिवमोगा में किसानों की एक मीटिंग को संबोधित करते हुए कहा कि यह लड़ाई लंबे समय तक चलेगी। हमें ऐसे प्रदर्शन हर शहर में शुरू करने होंगे, इन प्रदर्शनों को तबतक जारी रखना होगा, जबतक सरकार तीनों कृषि कानूनों को वापस नहीं लेती और एमएसपी पर कानून नहीं बनाया जाता।

पढ़ें- शिवसेना सांसद की महिला सांसद को धमकी, खुद देखिए नवनीत राणा ने क्या बताया

bigg boss 15