1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. दिल्ली
  4. कोर्ट से सत्येंद्र जैन झटका, जमानत याचिका खारिज, अभी जेल में ही रहना होगा

Satyendra Jain: कोर्ट से सत्येंद्र जैन झटका, जमानत याचिका खारिज, अभी जेल में ही रहना होगा

Satyendra Jain: वहीं जमानत याचिका पर फैसले से ठीक एक दिन पहले ED ने सत्येंद्र जैन और उनके सहयोगियों के खिलाफ दिल्ली के कई ठिकानों पर छापेमारी की थी।

Sudhanshu Gaur Written by: Sudhanshu Gaur @SudhanshuGaur24
Published on: June 18, 2022 14:36 IST
Satyendra Jain- India TV Hindi
Image Source : PTI Satyendra Jain

Highlights

  • मनी लांड्रिंग के मामले में ED की हिरासत में हैं जैन
  • 30 मई को ED ने हिरासत में लिया था
  • 14 जून को हो गई थी जमानत याचिका पर सुनवाई

Satyendra Jain: मनी लांड्रिंग के एक मामले में ED की हिरासत में दिल्ली के मंत्री सत्येंद्र जैन को बड़ा झटका लगा है। दिल्ली की एक अदालत ने उनकी जमानत याचिका खारिज कर दी हिया। जिससे उन्हें अभी तिहाड़ में ही रहना होगा। गौरतलब है कि 14 जून को जैन की जमानत याचिका पर सुनवाई पूरी हो गई थी, लेकिन कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया था। जिसके बाद शनिवार को कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए उनकी यचिका खारिज कर दी। 

वहीं जमानत याचिका पर फैसले से ठीक एक दिन पहले ED ने सत्येंद्र जैन और उनके सहयोगियों के खिलाफ दिल्ली के कई ठिकानों पर छापेमारी की थी। सूत्रों के अनुसार इस दौरान ED ने लगभग 10 आवासीय और व्यावसायिक ठिकानों पर छापेमारी की कार्रवाई की थी। 

ED की न्यायिक हिरासत में बंद है जैन 

आपको बता दें कि ED ने सत्येंद्र जैन को 30 मई को गिरफ्तार किया था। उनके ऊपर मनी लांड्रिंग रोकथाम अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है। और अभी वह न्यायिक हिरासत में दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद हैं। ED जैन के ऊपर हवाला के आरोपों को लेकर जांच कर रही है।

केंद्र कर रही है जांच एजेंसियों का दुरूपयोग - केजरीवाल 

वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के प्रमुख सत्येंद्र जैन को निर्दोष बताते रहे हैं। केजरीवाल केंद्र पर सीबीआई और ED के द्वारा उनके पार्टी के नेताओं को परेशान करने का आरोप लगा चुके हैं। पिछले दिनों एक कार्यक्रम के दौरान अरविन्द केजरीवाल ने सत्येंद्र जैन को बेहद ईमानदार शख्स बताया था और दावा किया था कि वे ED की जांच में बेकसूर साबित होंगे। इसके साथ ही उन्होंने कहा था कि केंद्र सरकार केंद्रीय जांच एजेंसियों का दुरूपयोग करके अपने विरोधियों को फंसा रही है।