1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. सिनेमा
  4. बॉलीवुड
  5. अभय देओल ने शेयर की धर्मेंद्र की फोटो, लिखा- वो आउटसाइडर थे, लेकिन बड़ा नाम कमाया

अभय देओल ने शेयर की धर्मेंद्र की फोटो, लिखा- वो आउटसाइडर थे, लेकिन बड़ा नाम कमाया

अभय देओल ने नेपोटिज्म को लेकर कहा है कि ये हर जगह है। अच्छी बात ये है कि इस पर एक्टिव बहस चल रही है।

India TV Entertainment Desk India TV Entertainment Desk
Updated on: July 11, 2020 13:01 IST
अभय देओल ने दिग्गज अभिनेता धर्मेंद्र संग फोटो शेयर की- India TV Hindi
Image Source : INSTAGRAM: @ABHAYDEOL अभय देओल ने दिग्गज अभिनेता धर्मेंद्र संग फोटो शेयर की

बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत के निधन के बाद से नेपोटिज्म को लेकर चर्चा छिड़ी हुई है। इस दौरान कई फिल्मी हस्तियां सामने आईं और अपनी राय भी रखी। अभिनेता अभय देओल ने नेपोटिज्म को लेकर कहा है कि ये हर जगह है। अच्छी बात ये है कि इस पर एक्टिव बहस चल रही है। उन्होंने अपने अंकल और दिग्गज अभिनेता धर्मेंद्र की भी फोटो शेयर की और बताया कि आउटसाइडर होते हुए भी उन्होंने बड़ा नाम कमाया। 

अभय देओल ने दिग्गज अभिनेता धर्मेंद्र संग फोटो शेयर करते हुए लिखा, "मेरे अंकल, जिन्हें मैं प्यार से डैड बुलाता हूं, वो एक आउटसाइडर थे और उन्होंने फिल्म इंडस्ट्री में बड़ा नाम कमाया। मुझे खुशी इस बात की है कि पर्दे के पीछे क्या चल रहा है, इस पर एक्टिव बहस हो रही है। नेपोटिज्म बस इसका छोटा-सा हिस्सा है। मैंने अपने परिवार के साथ सिर्फ एक फिल्म की.. मेरी पहली मूवी.. मैं आभारी हूं कि मुझे ये सौभाग्य मिला। मैंने अपने करियर का रास्ता बनाया और काफी आगे तक आया। डैड ने हमेशा प्रोत्साहित किया। वे मेरे लिए प्रेरणा थे।"

अभय ने आगे लिखा, "नेपोटिज्म हमारी संस्कृति में हर जगह प्रचलित है, चाहे वह राजनीति, व्यवसाय या फिल्म में हो। मैं इसके बारे में अच्छी तरह से जानता था और इसने मुझे अपने पूरे करियर में नए निर्देशकों और निर्माताओं के साथ मौके बनाने के लिए प्रेरित किया। इस तरह मैं ऐसी फिल्में बनाने में सक्षम हो गया, जिन्हें "बॉक्स से बाहर" माना जाता था। मुझे खुशी है कि उन कलाकारों और फिल्मों में से कुछ को जबरदस्त सफलता मिली।"

एक्टर ने आगे लिखा, "जबकि यह (नेपोटिज्म) हर देश में एक भूमिका निभाता है, भारत में भाई-भतीजावाद ने यहां एक और आयाम लिया है। मुझे संदेह है कि जाति दुनिया के अन्य हिस्सों की तुलना में यहां अधिक स्पष्ट रूप से भूमिका निभाती है। आखिरकार, यह "जाति" है जो यह तय करता है कि एक बेटा अपने पिता के काम को आगे लेकर जाता है, जबकि बेटी से शादी करने और हाउस वाइफ बनने की उम्मीद होती है।"

अभय ने लिखा कि, "यदि हम बेहतर के लिए बदलाव करने के बारे में गंभीर हैं, तो केवल एक पहलू, एक उद्योग पर ध्यान केंद्रित करते हुए, कई अन्य लोगों की अनदेखी करना सही नहीं होगा। ये अपूर्ण होगा। हमें सांस्कृतिक विकास चाहिए। आखिर हमारे फिल्म निर्माता, राजनेता और व्यापारी कहां से आते हैं? वे बाकी सभी की तरह ही हैं। वे उसी प्रणाली के भीतर बड़े होते हैं, जैसे हर कोई। वे अपनी संस्कृति का प्रतिबिंब हैं। हर जगह प्रतिभा अपने या अपने माध्यम में चमकने का मौका चाहती है। जैसा कि हमने पिछले कुछ हफ्तों में सीखा है, ऐसे कई तरीके हैं जिनमें एक कलाकार या तो सफलता के लिए आगे बढ़ता है या उसे खींच कर नीचे गिरा दिया जाता है। मुझे खुशी है कि आज अधिक अभिनेता बाहर आ रहे हैं और अपने अनुभवों के बारे में बोल रहे हैं। मैं वर्षों से मेरे बारे में मुखर रहा हूं, लेकिन एक स्वर के रूप में मैं केवल इतना ही कर सकता था। एक कलाकार को बोलने के लिए धब्बा लगाना आसान है, और मैं समय-समय पर उसे प्राप्त करता रहा हूं। लेकिन एक समूह के रूप में, एक सामूहिक, जो मुश्किल हो जाता है। शायद अब हमारा टर्निंग मोमेंट है।"

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। Bollywood News in Hindi के लिए क्लिक करें सिनेमा सेक्‍शन
Write a comment