Manipur News: मणिपुर में 5 दिनों के लिए इंटरनेट सेवा ठप, कई इलाकों में धारा 144 लागू

Manipur News: इंटरनेट सेवा सस्पेंड करने के साथ ही अगले दो महीने के लिए चुराचांदपुर और बिष्णुपुर जिलों में सीआरपीसी की धारा-144 लागू कर दी गई है।

Reported By : PTI Edited By : Malaika Imam Updated on: August 07, 2022 22:27 IST
Manipur News- India TV Hindi News
Image Source : REPRESENTATIVE IMAGE Manipur News

Highlights

  • राज्य में सांप्रदायिक स्थिति तनावपूर्ण हो गई है
  • चुराचांदपुर, बिष्णुपुर जिले में धारा-144 लागू
  • किसी अप्रिय घटना की खबर नहीं है: अधिकारी

Manipur News: मणिपुर के बिष्णुपुर में तीन से चार युवकों की ओर से एक वैन में आग लगाने की घटना के बाद राज्य में तनावपूर्ण स्थिति उत्पन्न हो गई है। इसके बाद सरकार ने पूरे राज्य में पांच दिन के लिए इंटरनेट सेवाएं निलंबित कर दी है। बताया जा रहा है कि वैन को फूंकने वाले युवक एक विशेष समुदाय के थे, जिसके बाद से पूरे राज्य में सांप्रदायिक स्थिति तनावपूर्ण हो गई है। इसी को ध्यान में रखते हुए सरकार ने ये फैसला लिया है। इंटरनेट सेवा सस्पेंड करने के साथ ही अगले दो महीने के लिए चुराचांदपुर और बिष्णुपुर जिलों में सीआरपीसी की धारा-144 लागू कर दी गई है। 

वाहन में आग लगाने के बाद फैसला लिया गया

विशेष सचिव (गृह) एच. ज्ञान प्रकाश की ओर से शनिवार देर रात जारी एक आदेश में कहा गया है कि मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को पांच दिनों के लिए निलंबित कर दिया गया है, क्योंकि कुछ असामाजिक तत्व सोशल मीडिया का इस्तेमाल नफरत फैलाने के लिए कर रहे थे। बयान में कहा गया है कि बिष्णुपुर जिले के फुगकचाओ इखांग में शनिवार शाम बदमाशों की ओर से एक वाहन में आग लगाने के बाद यह फैसला किया गया। 

'घटना से सांप्रदायिक तनाव पैदा हो गया है'

आदेश में कहा गया है कि इस घटना से सांप्रदायिक तनाव पैदा हो गया है। अधिकारियों ने बताया कि कुछ घंटे बाद जिले के तोरबुंग-बांग्ला में नकाबपोश लोगों ने एक अन्य वाहन को भी आग के हवाले कर दिया। इस बीच, बिष्णुपुर और चुराचांदपुर के जिलाधिकारियों ने शनिवार शाम से दो महीने की अवधि के लिए सीआरपीसी की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू कर दी है। 

'हड़ताल शुक्रवार सुबह समाप्त हो गई'

अधिकारियों ने बताया कि आगे किसी अप्रिय घटना की खबर नहीं है। बंद के कारण स्कूल, कॉलेज, दुकानें और व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद रहे, जबकि यात्री बसें सड़कों से नदारद रहीं। अधिकारियों ने बताया कि हड़ताल शुक्रवार सुबह समाप्त हो गई, जिसके बाद आर्थिक नाकेबंदी शुरू हो गई, जिससे मैतेई बहुल इम्फाल घाटी क्षेत्र में आपूर्ति प्रभावित हुई। पुलिस ने विरोध प्रदर्शन आयोजित करने की साजिश के लिए एटीएसयूएम के पांच छात्र नेताओं को गिरफ्तार किया है। 

Latest India News

navratri-2022