1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. 'वह मेरे आदरणीय पिता, लेकिन मैं तो पार्टी के साथ', यशवंत सिन्हा की उम्मीदवारी पर बोले जयंत

President Election: 'वह मेरे आदरणीय पिता, लेकिन मैं तो पार्टी के साथ', यशवंत सिन्हा की उम्मीदवारी पर बोले जयंत

मंगलवार को विपक्ष की ओर से यशवंत सिन्हा को राष्ट्रपति पद का प्रत्याशी बनाये जाने का जैसे ही ऐलान हुआ उसके बाद से लोग सोशल मीडिया पर जयंत सिन्हा से उनके स्टैंड और पुत्र धर्म को लेकर तरह-तरह के पोस्ट करने लगे तो उन्होंने वीडियो संदेश जारी कर अपनी स्थिति स्पष्ट करने की कोशिश की है।

Khushbu Rawal Written by: Khushbu Rawal @khushburawal2
Published on: June 22, 2022 16:13 IST
Yashwant Sinha and Jayant Sinha- India TV Hindi
Image Source : FILE PHOTO Yashwant Sinha and Jayant Sinha

Highlights

  • अपने पिता यशवंत सिन्हा के साथ ही रहते हैं जयंत सिन्हा
  • 2014 में मोदी सरकार में राज्यमंत्री बने थे जयंत सिन्हा
  • 2019 में जयंत सिन्हा ने दोबारा हजारीबाग सीट पर जीत दर्ज की

President Election: विपक्ष की ओर से राष्ट्रपति पद के प्रत्याशी बनाए गए यशवंत सिन्हा के पुत्र जयंत सिन्हा पुत्र धर्म के बजाय पार्टी धर्म का निर्वाह करेंगे। जयंत सिन्हा झारखंड के हजारीबाग क्षेत्र के सांसद हैं। उन्होंने सोशल मीडिया पर एक वीडियो संदेश जारी कर कहा है कि वे भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता और पार्टी के सांसद हैं और इस नाते अपने संवैधानिक दायित्व को पूरी तरह निभायेंगे। जयंत सिन्हा ने कहा है कि मीडिया के लोग उनसे सवाल पूछ रहे हैं। वह साफ कर देना चाहते हैं कि उनके आदरणीय पिता विपक्ष के उम्मीदवार हैं, पर यह उनके लिए कोई पारिवारिक मामला नहीं है। उन्होंने अपने फेसबुक अकाउंट पर लिखा है, विपक्ष द्वारा मेरे आदरणीय पिता जी श्री यशवंत सिन्हा जी को राष्ट्रपति हेतु प्रत्याशी घोषित किया गया है। मेरा निवेदन है कि आप सभी इसे पारिवारिक मामला न बनायें।

बुधवार को एक अन्य पोस्ट में जयंत सिन्हा ने द्रौपदी मुर्मू को NDA की ओर से राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार बनाए जाने पर उन्हें बधाई दी है और इस निर्णय के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी के अध्यक्ष जयप्रकाश नड्डा के प्रति आभार जताया है। उन्होंने द्रौपदी मुर्मू के साथ अपनी एक पुरानी फोटो भी शेयर की है।

कुछ महीनों पहले TMC में शामिल हुए थे यशवंत सिन्हा

जयंत सिन्हा हजारीबाग के डेमोटांड़ स्थित आवास ऋषभ वाटिका में अपने पिता यशवंत सिन्हा के साथ ही रहते हैं। हजारीबाग लोकसभा क्षेत्र से तीन बार भाजपा के टिकट पर सांसद चुने गए यशवंत सिन्हा के आग्रह पर पार्टी ने साल 2014 में उनकी जगह उनके पुत्र जयंत सिन्हा को प्रत्याशी बनाया था। विजयी होकर वह केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार में राज्यमंत्री भी बने। वर्ष 2019 में जयंत सिन्हा ने दोबारा इस सीट पर जीत दर्ज की। इधर यशवंत सिन्हा ने भाजपा के शीर्ष नेतृत्व की तीखी आलोचना करते हुए पार्टी से दूरी बना ली और कुछ महीनों पहले ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए।

सोशल मीडिया पर जयंत के स्टैंड और पुत्र धर्म को लेकर तरह-तरह के पोस्ट
मंगलवार को विपक्ष की ओर से यशवंत सिन्हा को राष्ट्रपति पद का प्रत्याशी बनाये जाने का जैसे ही ऐलान हुआ, उनके हजारीबाग स्थित आवास पर उनके समर्थक बड़ी संख्या में जमा हो गऐ। वहां मिठाइयां भी बांटी गईं। इन सबके बीच जब लोग सोशल मीडिया पर जयंत सिन्हा से उनके स्टैंड और पुत्र धर्म को लेकर तरह-तरह के पोस्ट करने लगे तो उन्होंने वीडियो संदेश जारी कर अपनी स्थिति स्पष्ट करने की कोशिश की है।

सोशल मीडिया पर एक्टिव रहती हैं यशवंत सिन्हा की पत्नी
यशवंत सिन्हा की पत्नी नीलीमा सिन्हा भी सोशल मीडिया पर खासा एक्टिव रहती हैं। उन्होंने राष्ट्रपति पद के लिए अपने पति की उम्मीदवारी घोषित होने के बाद एक टीवी चैनल पर उनके बारे में चलाई जा रही खबर की स्क्रीनशॉट फेसबुक पर शेयर करते हुए लिखा है- हू इज यशवंत सिन्हा? दरअसल, इस स्क्रीन शॉट के जरिए यशवंत सिन्हा की प्रोफाइल की संक्षिप्त झलक देने की कोशिश की है।