1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. एशिया
  5. यहां ‘अपना इलाका’ पाने के लिए मुसलमानों ने डाला वोट, 50 साल से है अशांति

यहां ‘अपना इलाका’ पाने के लिए मुसलमानों ने डाला वोट, 50 साल से है अशांति

फिलीपींस में मुसलमानों ने एक नए स्वायत्त क्षेत्र को लेकर हुए जनमत संग्रह में सोमवार को अपने वोट डाले।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Published on: January 21, 2019 11:58 IST
Southern Philippines territories cast historic vote on Muslim autonomy | AP File- India TV Hindi
Southern Philippines territories cast historic vote on Muslim autonomy | AP File

मनीला: फिलीपींस में मुसलमानों ने एक नए स्वायत्त क्षेत्र को लेकर हुए जनमत संग्रह में सोमवार को अपने वोट डाले। दक्षिणी फिलीपींस के एक खास इलाके में हुए इस जनमत संग्रह को 50 वर्षों से चली आ रही अशांति को खत्म करने के प्रयास के तौर पर देखा जा रहा है। बैंगसामोरो नाम के इस इलाके के मुस्लिम नेताओं का दावा है कि स्वायत्त क्षेत्र इस्लामिक स्टेट समूह से प्रेरित आतंकवादियों के उदय पर विराम लगाने का सबसे बेहतर विकल्प है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस वोट को मनीला की सरकार और मुख्य विद्रोही समूह मोरो इस्लामिक लिब्रेशन फ्रंट के शांति प्रयासों को अंतिम रूप देने की कोशिशों के तौर पर देखा जा रहा है ताकि 2014 में हुए सौदे पर सहमति बन सके। इस सौदे पर हस्ताक्षर 2014 में हुए थे लेकिन पिछले साल अंतत: स्वीकृत होने से पहले यह फिलीपींस की कांग्रेस में काफी समय तक लंबित पड़ा रहा। इस्लामिक स्टेट से जुड़े आतंकवादियों द्वारा मारावी शहर में हिंसा और दक्षिण में हुए विस्फोट एवं हमलों के जरिए इस सौदे को नाकाम करने की कोशिश की गई थी।

मोरो समूह के प्रमुख अल हज मुराद इब्राहिम हमेशा से कहते रहे हैं कि मुस्लिम स्वायत्त क्षेत्र बनाना मिन्दनाओ (अल्पसंख्यक मुस्लिमों के गढ़) में इस्लामिक स्टेट से जुड़े छोटे-छोटे कई कट्टर समूहों के खात्मे का सबसे सटीक तरीका है। माना जा रहा है कि अधिकांश मुसलमानों ने इस इलाके के स्वायत्त होने के पक्ष में ही मतदान किया होगा। यदि नतीजों में भी यही बात सामने आती है तो इस इलाके के मुस्लिम नेताओं को कार्यकारी, विधायिका और राजकोषीय शक्तियां मिल जाएंगी।

कोरोना से जंग : Full Coverage

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन
Write a comment
X