ye-public-hai-sab-jaanti-hai
  1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. कोरोना केंद्रों में बन रहे बाल रोग वार्ड, तीसरी लहर के लिए कमर कस रहा हिमाचल प्रदेश

कोरोना केंद्रों में बन रहे बाल रोग वार्ड, तीसरी लहर के लिए कमर कस रहा हिमाचल प्रदेश

महामारी की संभावित तीसरी लहर से निपटने की तैयारी के लिए हिमाचल प्रदेश में कोविड केंद्रों में बाल चिकित्सा वार्ड और शिशु देखभाल इकाइयाँ स्थापित की जा रही हैं।

Bhasha Written by: Bhasha
Published on: May 29, 2021 20:51 IST
कोरोना केंद्रों में बन रहे बाल रोग वार्ड, तीसरी लहर के लिए कमर कस रहा हिमाचल प्रदेश- India TV Hindi
Image Source : PTI कोरोना केंद्रों में बन रहे बाल रोग वार्ड, तीसरी लहर के लिए कमर कस रहा हिमाचल प्रदेश

शिमला: महामारी की संभावित तीसरी लहर से निपटने की तैयारी के लिए हिमाचल प्रदेश में कोविड केंद्रों में बाल चिकित्सा वार्ड और शिशु देखभाल इकाइयाँ स्थापित की जा रही हैं। राज्य के एक वरिष्ठ अधिकारी ने शनिवार को यह जानकारी दी। हाल ही में, कुछ विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि कोविड-19 की अगली लहर बच्चों को अधिक प्रभावित कर सकती है जबकि अन्य ने कहा है कि इस सिद्धांत पर विश्वास करने का कोई कारण नहीं है। हालांकि, विशेषज्ञ मानते हैं कि देश में बाल चिकित्सा कोविड सेवाओं में सुधार की जरूरत है। 

विशेष सचिव (स्वास्थ्य) निपुण जिंदल ने कहा कि कोविड-19 महामारी की संभावित तीसरी लहर को ध्यान में रखते हुए, हिमाचल प्रदेश सरकार प्राथमिकता के आधार पर कमजोर बच्चों की रक्षा करने और बाल चिकित्सा कोविड सेवाओं में सुधार के लिए काम कर रही है। उन्होंने कहा कि इस संबंध में एक दिशानिर्देश तीन मई को जिलों और मेडिकल कॉलेजों के साथ साझा किया गया था। 

उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित किया जा रहा है कि विशेष शिशु देखभाल इकाइयों (एसएनसीयू), बाल चिकित्सा उच्च निर्भरता इकाइयों (पीएचडीयू), नवजात शिशु गहन देखभाल इकाइयों (एनआईसीयू) और बाल चिकित्सा गहन देखभाल इकाइयों (पीआईसीयू) को प्राथमिकता के आधार पर संचालन योग्य बनाया जा रहा है। जिंदल ने कहा कि महामारी के दौरान कमजोर बच्चों की देखभाल सुनिश्चित करने के लिए स्वास्थ्य विभाग गंभीर कदम उठा रहा है। 

उन्होंने कहा कि सभी मुख्य चिकित्सा अधिकारियों, मेडिकल कॉलेजों के प्राचार्यों और जिला और सिविल अस्पतालों और मेडिकल कॉलेजों के चिकित्सा अधीक्षकों को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया है कि प्रत्येक कोविड अस्पताल में एक बाल चिकित्सा वार्ड और नवजात इकाई हो। यह या तो मौजूदा सुविधाओं को बढ़ाकर या बिस्तरों को निर्धारित करके किया जा सकता है। 

उन्होंने कहा कि निर्धारित बिस्तर विशेष रूप से ऑक्सीजन सुविधा से लैस होना चाहिए। जिंदल ने कहा कि वर्तमान में, राज्य भर में 16 कोविड केंद्रों में 224 एसएनसीयू बेड हैं। 

elections-2022