1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. लाइफस्टाइल
  4. जीवन मंत्र
  5. Chanakya Niti: रिश्तों की मजबूती के लिए जरूरी हैं ये बातें, हमेशा रखें ध्यान

Chanakya Niti: रिश्तों की मजबूती के लिए जरूरी हैं ये बातें, हमेशा रखें ध्यान

आचार्य चाणक्य ने अपने नीति शास्त्र में रिश्चों को मजबूत बनाने के लिए इन बातों को ध्यान रखने का अनुरोध किया है।

India TV Lifestyle Desk Written by: India TV Lifestyle Desk
Published on: April 04, 2022 6:47 IST
Chanakya Niti- India TV Hindi
Image Source : INDIA TV Chanakya Niti

Highlights

  • आचार्य चाणक्य की बाते आज के वक्त में भी प्रासांगिक लगती हैं
  • आचार्य चाणक्य ने सफल जीवन के लिए कई मंत्र दिए हैं

राजनीति शास्त्र के आचार्य रहे आचार्य चाणक्य की बातें एक सफल जीवन के लिए काफी जरूरी होती हैं। उनकी बातें भले सुनने में काफी कठोर होती हैं लेकिन यदि उन्हें आत्मसात किया जाए तो एक सफल जीवन जिया जा सकता है। हम लोग भागदौड़ भरी जिंदगी में इन विचारों को भले ही नजरअंदाज कर दें लेकिन ये वचन जीवन की हर कसौटी पर आपकी मदद करेंगे। आचार्य चाणक्य ने अपनी नीतियों में रिश्तों की मजबूती के लिए चार बातों का विशेष ध्यान रखने के लिए कहा है।

इन बातों का ध्यान रखने से रिश्तों में मजबूती बनी रहेगी।

Chankya Niti: भरोसेमंद व्यक्ति को परखने के लिए ये तरीके हैं बेहतरीन, कभी नहीं होगी चूक

आचार्य चाणक्य के मुताबिक, हर किसी को खुश रखना संभव नहीं है लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि छल और कपट के जरिए रिश्ते में मजबूती लाई जाए। छल और कपट से रिश्तों की नींव कमजोर होती है।

आचार्य चाणक्य बताते हैं कि रिश्ते को मजबूत बनाने के लिए प्यार और विश्वास का होना बेहद जरूरी है।

आचार्य चाणक्य की नीतियों के मुताबिक, व्यक्ति की वाणी की मधुरता उसे सबके बीच में मशहूर बनाती है। हर कोई उसके पास रहना चाहते हैं। मधुर वाणी वाले व्यक्ति हर किसी के प्रिय होते हैं। इसलिए रिश्ते को मजबूत बनाने के लिए वाणी मधुर बनाए रखें।

आचार्य चाणक्य की मानें तो रिश्तों में हमें अहंकार का त्याग करना चाहिए। अहंकार के कारण भी कई अच्छे रिश्ते टूट जाते हैं। चाणक्य के अनुसार, कभी भी व्यक्ति का अहंकार रिश्ते से बड़ा नहीं होना चाहिए।

Chanakya Niti: इस चीज के भय से अंदर ही अंदर घुटता रहता है इंसान, छिन जाता है सुख-चैन

आचार्य चाणक्य कहते हैं कि हर रिश्ते में मान-सम्मान होना ही चाहिए। गुस्से में भी किसी को गलत बोलने से पहले सौ बार सोचें। साथ ही कभी कि किसी को नीचा दिखाने की कोशिश न करें।