Russia-Ukraine War: पुतिन यूक्रेन को घेरने के लिए बना रहे हैं नई रणनीति, सैन्य ड्यूटी के लिए इन लोगों को दिया निर्देश

Russia-Ukraine War: 24 घंटों में रूस से बाहर जाने वाली उड़ानों के किराए में नाटकीय रूप से बढ़ा दी गई है। पुतिन के इस ऐलान के बाद रूस के करीब 30 शहरों और कस्बों में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए हैं

Ravi Prashant Edited By: Ravi Prashant @iamraviprashant
Updated on: September 23, 2022 23:25 IST
Russia-Ukraine War- India TV Hindi News
Image Source : INDIA TV Russia-Ukraine War

Highlights

  • हाल ही में युद्ध की घटनाओं के कई और शिकार हुए हैं
  • अनुमानों में अब तक 50,000 तक हताहत हुए हैं
  • यूक्रेन युद्ध में रूसी सैनिकों का प्रदर्शन बेकार

Russia-Ukraine War: 24 घंटों में रूस से बाहर जाने वाली उड़ानों के किराए में नाटकीय रूप से बढ़ा दी गई है। पुतिन के इस ऐलान के बाद रूस के करीब 30 शहरों और कस्बों में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए हैं। एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, डॉक्टरों, शिक्षकों और बैंक कर्मियों को सेना में अपना योगदान देने के लिए कहा गया है। इस युद्ध में यूक्रेन की बढ़त से रूस को जोरदार झटका लगा है। जिसके कारण पुतिन अब अपने आरक्षित बलों से अतिरिक्त 3,00,000 सैनिकों को बुला सकता है। इसके पीछे की  मंशा को लेकर बताया जा रहा है कि वो युद्ध की दिशा बदलने की कोशिश करने का प्रयास कर रहे हैं।

मानव संसाधनों की कमी नहीं  

रूसी सेना में कई प्रकार के 'मानव संसाधन' हैं। उदाहरण के तौर गिरमिटिया सैनिक है। कई वर्षों के लिए भर्ती होने वाले पेशेवरों और एक वर्ष के लिए अनिवार्य सैन्य सेवा करने वाले मजबूर सैनिकों के बीच एक बड़ा अंतर है। फिर रिजर्व सैनिक हैं, ये वे लोग हैं जिन्होंने सिपाहियों के रूप में सेवा की है और एक निश्चित डिग्री की तत्परता बनाए रखते हैं, जिनके पास 25 मिलियन सैनिक हैं। पेशेवर सैनिकों के विपरीत, जो स्वयंसेवकों के रूप में सेवा करते हैं, कई रूसी सैनिक अनिवार्य सेवा करने वाले सैनिक हैं। रूसी सैनिकों को मिलने वाला प्रशिक्षण सवालों के घेरे में है, और अधिक समृद्ध और जानकार रूसी आमतौर पर इस वातावरण की क्रूर प्रकृति के कारण इस प्रक्रिया से बचना चाहते हैं। यूक्रेन को 'विशेष सैन्य अभियान' की स्थिति के कारण, रूस के पास सीमित विकल्प हैं कि वह किसे भेज सकता है।

रिजर्व सैनिकों ने भी युद्ध में लिया भाग 
बड़े पैमाने पर रिजर्व सैनिकों ने अपनी स्वेछा से युद्ध में भाग लिया है। रूसी सशस्त्र बल अधिकांश आधुनिक पेशेवर सेनाओं की तरह नहीं हैं। इसके सैनिकों की विविधता देश के सोवियत अतीत की याद दिलाती है। विभिन्न प्रकार के सैनिकों का उपयोग करने में स्वाभाविक रूप से कुछ भी गलत नहीं है, और कई राष्ट्र इसे प्रभावी ढंग से करते हैं। रूस के मामले में, यह अपने त्रुटिपूर्ण और गहरे अलोकप्रिय भर्ती मॉडल का आधुनिकीकरण करने में विफल रहा है, जिसकी कीमत चुकानी पड़ी है। सत्ता के भ्रम के बदले सार्वजनिक खर्च कम किया जाता है। यह नया आंशिक लामबंदी अभियान रूस को अपने रिजर्व कर्मियों को बुलाने में मदद करता है, जिसे वह यूक्रेन में अपनी घटती ताकतों को फिर से भरने के लिए अपने पूर्व सैनिकों के एक बड़े हिस्से से चुन लेगा।

यूक्रेन युद्ध में रूसी सैनिकों का प्रदर्शन रहा बेकार 
रूस को अब स्वयंसेवकों पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा। यह निश्चित रूप से एक मौन स्वीकृति है कि रूस एक 'विशेष सैन्य अभियान' नहीं कर रहा है, बल्कि एक पूर्ण पैमाने पर युद्ध में संलग्न है। अधिक सैनिकों को तैनात करने की अनुमति देने के साथ-साथ, यह लामबंदी वर्तमान संघर्ष को द्वितीय विश्व युद्ध में अपने अनुभव से जोड़कर देशभक्ति की भावना पैदा करने का प्रयास करती है।

इससे उसे लगता है कि शायद देश के भीतर समर्थन मिलेगा, हालांकि वास्तव में इसका विपरीत प्रभाव पड़ रहा है। यद्यपि रूस में युद्ध के लिए समर्थन अधिक है, आम जनता आम तौर पर संघर्ष की वास्तविकताओं से काफी हद तक अछूती है। लेकिन यह लामबंदी, चाहे आंशिक हो या अन्यथा, इसे बदल सकती है। यूक्रेन में रूसी सेना का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा है। ब्रिटेन के सैन्य स्रोतों के अनुमानों में अब तक 50,000 तक हताहत हुए हैं, हाल ही में युद्ध की घटनाओं के कई और शिकार हुए हैं।

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Europe News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन