1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. अमेरिका
  5. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव को मंजूरी

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव को मंजूरी

Donlad Trump Impeached: अमेरिका के निर्वतमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ बुधवार को अमेरिकी हाउस द्वारा दूसरी बार महाभियोग प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई। डोनाल्ड ट्रंप पर आरोप है कि उन्होंने अपने समर्थकों को कैपिटोल में हिंसा के लिए उकसाया।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: January 14, 2021 12:00 IST
Donald Trump impeached अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव को मंजूरी- India TV Hindi
Image Source : AP Donald Trump impeached: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव को मंजूरी

वाशिंगटन. अमेरिका के निर्वतमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ बुधवार को अमेरिकी हाउस द्वारा दूसरी बार महाभियोग प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई। डोनाल्ड ट्रंप पर आरोप है कि उन्होंने अपने समर्थकों को कैपिटोल में हिंसा के लिए उकसाया। इस घटना की पूरी दुनिया में निंदा की गई। बुधवार को नेशनल गार्ड्स द्वारा कैपिटोल को पूरी तरह से अपने सुरक्षा घेरे में ले लिया गया जिसके बाद हाउस ने ट्रंप के खिलाफ महाभियोग लाने का समर्थन में वोट किया। महाभियोग लाने के खिलाफ महज 197 वोट डाले गए जबकि महाभियोग के समर्थन में 232 वोट डाले गए। रिपब्लिकन पार्टी के भी 10 सांसदों ने इसके समर्थन में मतदान किया।

पढ़ें- चलती ट्रेन से बाहर देख रही थी महिला, पति ने दे दिया धक्का, दो महीने पहले ही हुई थी शादी

इस महाभियोग प्रस्ताव में निर्वतमान राष्ट्रपति पर अपने कदमों के जरिए छह जनवरी को ‘‘ राजद्रोह के लिए उकसाने’’ का आरोप लगाया गया है। इसमें कहा गया है कि ट्रंप ने अपने समर्थकों को कैपिटल बिल्डिंग (संसद परिसर) की घेराबंदी के लिए तब उकसाया, जब वहां इलेक्टोरल कॉलेज के मतों की गिनती चल रही थी और लोगों के धावा बोलने की वजह से यह प्रक्रिया बाधित हुई। इस घटना में एक पुलिस अधिकारी समेत पांच लोगों की मौत हो गई।

पढ़ें- दिल्ली NCR में कई जगहों पर घना कोहरा, रेंग-रेंग कर चल रहे हैं वाहन

चार सांसदों ने मतदान नहीं किया। चारों भारतीय-अमेरिकी सांसदों एमी बेरा, रो खन्ना, राजा कृष्णमूर्ति और प्रमिला जयपाल ने महाभियोग के समर्थन में मतदान किया। अब इस प्रस्ताव को सीनेट में भेजा जाएगा, जो ट्रंप को कार्यालय से हटाने के लिए सुनवाई करेगी और मतदान करेगी। सीनेट 19 जनवरी तक के लिए स्थगित है। इसके एक दिन बाद 20 जनवरी को जो बाइडन अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ग्रहण करेंगे।

पढ़ें- दिल्ली में न घुस पाए कोई मुर्गी, अध्यापकों को बॉर्डर पर किया गया नियुक्त

ट्रंप बोले- मेरा सच्चा समर्थक नहीं कर सकता हिसां

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बुधवार को कहा, "भीड़ द्वारा हिंसा मेरे विश्वास और हमारे आंदोलन के लिए खिलाफ है। मेरा कोई भी सच्चा समर्थक कभी भी राजनीतिक हिंसा का समर्थन नहीं कर सकता, मेरा कोई भी सच्चा समर्थक कानून प्रवर्तन का अपमान नहीं कर सकता, मेरा कोई भी सच्चा समर्थक कभी भी अपने साथी अमेरिकियों को धमकी या परेशान नहीं कर सकता था। यदि आप इनमें से कोई भी ऐसा काम करते हैं तो आप हमारे आंदोलन का समर्थन नहीं कर रहे हैं। आप हमारे आंदोलन पर और हमारे देश पर हमला कर रहे हैं। हम इसे बर्दाश्त नहीं कर सकते।"

पढ़ें- 'स्वदेशी' Tooter पर है पीएम मोदी का अकाउंट? अमित मालवीय ने दी जानकारी

ट्रंप ने कहा कि हमने राजनीतिक हिंसा को नियंत्रण से बाहर जाता देखा है, हमने बहुत से दंगे, भीड़, धमकी और विनाश के कार्य देखे हैं। इसे रोकना होगा। चाहे आप राइट या लेफ्ट पर हों, डेमोक्रेट हों या रिपब्लिकन हों, हिंसा का कोई औचित्य नहीं है। कोई बहाना नहीं, कोई अपवाद नहीं, अमेरिका कानूनों का देश है। जो लोग पिछले सप्ताह हमलों में शामिल थे उन्हें कानून द्वारा दंडित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि संघीय एजेंसियों को हालात काबू में बनाए रखने के लिए सभी आवश्यक संसाधनों का उपयोग करने का निर्देश दिया गया है। वाशिंगटन डीसी में, हम हजारों नेशनल गार्ड सदस्यों को शहर को सुरक्षित करने के लिए ला रहे हैं।

पढ़ें- रेलवे ने दी गुड न्यूज! अभी चलती रहेंगी ये स्पेशल ट्रेन, जानिए रूट, टाइम और स्टॉपेज

Joe Biden ने बोला ट्रंप पर हमला
US President-elect Joe Biden ने कहा कि पिछले हफ्ते, हमने अपने लोकतंत्र पर एक अभूतपूर्व हमला देखा। यह हमारे राष्ट्र के 244 साल के इतिहास के विपरीत था। इस आपराधिक हमले की योजना बनाई गई और समन्वय किया गया। यह राजनीतिक चरमपंथियों और घरेलू आतंकवादियों द्वारा किया गया था, जिन्हें राष्ट्रपति ट्रम्प द्वारा इस हिंसा के लिए उकसाया गया था। यह अमेरिका के खिलाफ सशस्त्र विद्रोह था और जिम्मेदार लोगों को जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए। हमारा देश घातक विषाणु और मंदी की चपेट में है। मुझे उम्मीद है कि सीनेट नेतृत्व महाभियोग पर अपनी संवैधानिक जिम्मेदारियों से निपटने के लिए एक रास्ता खोजेगा, जबकि इस राष्ट्र के अन्य जरूरी व्यवसाय पर भी काम करेगा।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। US News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन
Write a comment