Saturday, February 24, 2024
Advertisement

अमेरिका ने ही दी थी आतंकी निज्जर की हत्या के संबंध में कनाडा को खुफिया जानकारी, न्यूयॉर्क टाइम्स का बड़ा दावा

भारत और कनाडा के बीच खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या के आरोपों को लेकर चल रहे कूटनीतिक विवाद के बीच न्यूयॉर्क टाइम्स ने बड़ा दावा किया है। वॉशिंगटन के प्रमुख अखबार का कहना है कि अमेरिका ने ही निज्जर की हत्या के संबंध में कनाडा को भारत के खिलाफ खुफिया जानकारी मुहैया कराई थी।

Dharmendra Kumar Mishra Edited By: Dharmendra Kumar Mishra @dharmendramedia
Updated on: September 24, 2023 15:08 IST
न्यूयॉर्क टाइम्स। - India TV Hindi
Image Source : AP न्यूयॉर्क टाइम्स।

खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या मामले में कनाडा द्वारा भारत पर लगाए गए आरोपों के संबंध में चौंकाने वाली जानकारी सामने आ रही है। अमेरिका के प्रतिष्ठित समाचारपत्र ‘द न्यूयॉर्क टाइम्स’ ने सूत्रों के हवाले से अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया है कि सिख अलगाववादी व खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या के बाद अमेरिका ने ही कनाडा को खुफिया जानकारी मुहैया करायी थी। दावा किया जा रहा है कि ओटावा ने जो जानकारी जुटाई थी वह अधिक ठोस थी और उसके आधार पर ही उसने भारत पर आरोप लगाए हैं। यह खबर शनिवार को तब प्रकाशित हुई जब कनाडा में अमेरिका के एक शीर्ष राजनयिक ने पुष्टि की कि ‘फाइव आइज के साझेदारों के बीच खुफिया जानकारी साझा की गई थी’’, जिसने कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो को एक खालिस्तानी अलगाववादी की कनाडा की धरती पर हुई हत्या में भारतीय एजेंटों के संलिप्त रहने का आरोप लगाने को प्रेरित किया।

भारत ने इन आरोपों को ‘बेतुका’ और ‘प्रेरित’ बताते हुए आक्रामक रूप से खारिज कर दिया और इस मामले में कनाडा द्वारा एक भारतीय अधिकारी को निष्कासित किए जाने के जवाब में एक वरिष्ठ कनाडाई राजनयिक को निष्कासित कर दिया। प्रतिबंधित खालिस्तान टाइगर फोर्स (केटीएफ) के प्रमुख निज्जर की 18 जून को ब्रिटिश कोलंबिया के सरे में हत्या कर दी गई थी। भारत ने 2020 में निज्जर को आतंकवादी घोषित किया था। अमेरिका ने भारत से कनाडा की जांच में उसका सहयोग करने का अनुरोध किया है। न्यूयॉर्क टाइम्स ने अज्ञात अधिकारियों के हवाले से कहा, ‘‘हत्या के बाद अमेरिकी खुफिया एजेंसियों ने कनाडा के अपने समकक्षों को ऐसी जानकारी उपलब्ध कराई, जिससे कनाडा ने यह दावा किया कि इसमें भारत का हाथ था।’’ इन अधिकारियों ने दावा किया कि ऐसा प्रतीत होता है कि कनाडाई अधिकारियों ने भारतीय राजनयिकों की बातचीत पर नजर रखी और यही वह ‘सबूत’ है जिससे भारत के इस साजिश में शामिल होने का संकेत मिलता है।

कनाडा में अमेरिकी राजदूत ने कही ये बात

कनाडा में अमेरिकी राजदूत डेविड कोहेन के सीटीवी न्यूज चैनल को दिए एक साक्षात्कार में कहा कि ‘‘फाइव आइज साझेदारों के बीच खुफिया जानकारी साझा की गई थी’’ जिसके आधार पर ट्रूडो ने भारत सरकार और एक कनाडाई नागरिक की हत्या के बीच ‘संभावित’ संबंध के आरोप को लेकर सार्वजनिक बयान दिया। कोहेन ने अपने दावे में कहा, ‘‘मैं कहूंगा कि यह साझा की गयी खुफिया सूचना का मामला है। इसके बारे में कनाडा और अमेरिका के बीच काफी संवाद हुआ।’’ अखबार में कहा गया है कि निज्जर की हत्या के बाद अमेरिकी अधिकारियों ने कनाडा के अपने समकक्षों को बताया कि वाशिंगटन के पास इस साजिश के बारे में पहले से कोई सूचना नहीं थी और अगर उनके पास ऐसी कोई जानकारी होती तो वे फौरन ओटावा के साथ साझा करते। खबर के मुताबिक, नाम न उजागर करने की शर्त पर अधिकारियों ने बताया कि कनाडाई अधिकारियों ने निज्जर को सामान्य चेतावनी दी थी, लेकिन उसे यह नहीं बताया था कि वह भारत सरकार की किसी साजिश के निशाने पर है। कोहेन ने सीटीवी से कहा कि अमेरिका इन आरोपों को बहुत गंभीरता से लेता है। उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा, ‘‘और आप जानते हैं कि अगर ये सही साबित हुए तो नियम आधारित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था का संभावित रूप से बहुत गंभीर उल्लंघन है।’’

अमेरिकी अधिकारी भारत से नहीं लेना चाहते राजनीतिक तनाव

अखबार में दावा किया गया है कि विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने भारत से कनाडाई जांच में सहयोग करने का आग्रह किया है, लेकिन अमेरिकी अधिकारियों ने मोटे तौर पर भारत से किसी राजनयिक तनाव से बचने की कोशिश की है। न्यूयॉर्क टाइम्स ने कहा कि अमेरिकी खुफिया तंत्र के शामिल होने के खुलासे ने ऐसे वक्त में कनाडा और भारत के बीच कूटनीतिक विवाद में वाशिंगटन को फंसाने का खतरा पैदा कर दिया है, जब वह नई दिल्ली को अपना करीबी साझेदार बनाना चाहता है। ब्लिंकन ने शुक्रवार को न्यूयॉर्क में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा था कि कनाडा के प्रधानमंत्री ट्रूडो द्वारा भारत के खिलाफ लगाए गए आरोपों के बारे में उनका देश ‘बहुत चिंतित’ है और वाशिंगटन इस मुद्दे पर ओटावा के साथ ‘करीबी समन्वय’ कर रहा है और मामले में ‘जवाबदेही’ देखना चाहता है।

कनाडा के इस मामले में कोई सूचना भारत के साथ साझा किए जाने के बारे में पूछने पर नयी दिल्ली में विदेश मंत्रालय ने कहा, ‘‘कनाडा ने इस मामले पर तब या उससे पहले या बाद में कोई खास जानकारी साझा नहीं की। आप जानते हैं कि जैसा कि हमने कहा है या मुझे लगता है कि हमने स्पष्ट किया है कि हम किसी भी विशेष सूचना पर विचार करने के लिए तैयार हैं। (भाषा)

यह भी पढ़ें

अजरबैजान-आर्मीनिया युद्ध पीड़ितों की मदद के लिए बड़ा कदम, नागोर्नो-काराबाख में भेजी मानवीय सहायता

खालिस्तानियों के हितैषी कनाडा समर्थक देशों पर भारत का बड़ा हमला, UNGA में जयशंकर ने कहा-"दुनिया अब भी दोहरे मानकों वाली"

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। US News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement