1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. हेल्थ
  4. प्रियंका चोपड़ा सरोगेसी से बनी हैं मां, क्या है इसका पूरा प्रोसेस और नियम

प्रियंका चोपड़ा सरोगेसी से बनी हैं मां, क्या है इसका पूरा प्रोसेस, नियम और खर्चा

प्रियंका चोपड़ा ही नहीं कई स्टार सरोगेसी की मदद से मां बाप बन चुके हैं। जानते हैं कि सरोगेसी आखिर है क्या।

India TV Health Desk Edited by: India TV Health Desk
Updated on: January 22, 2022 14:34 IST
PRIYANKA Chopra- India TV Hindi
Image Source : INDIA TV प्रियंका चोपड़ा सरोगेसी से बनी हैं मां, क्या है इसका पूरा प्रोसेस, नियम और खर्चा

ग्लोबल स्टार और देसी गर्ल के नाम से मशहूर प्रियंका चोपड़ा ने देर रात सरोगेसी के जरिए मां बनने की खबर देकर सबको चौंका दिया। प्रियंका सरोगेसी से बनी पहली मां नहीं है, इससे पहले भी बॉलीवुड के कईस्टार सरोसेगी की मदद से पेरेंटहुड का सुख ले चुके हैं।

शिल्पा शेट्टी,प्रीति जिंटा, करण जौहर, गौरी खान, तुषार कपूर, एकता कपूर जैसे सितारे सरोगेसी की मदद से अपने घरों को गुलजार कर चुके हैं।

चलिए जानते हैं कि सरोगेसी की प्रोसेस क्या होती है और भारत औऱ दूसरे मुल्कों पर इस पर अमूनन कितना खर्च आ जाता है।

सरोगेसी को आम भाषा में किराए की कोख कहा जाता है, यानी अपना बच्चा पैदा करने के लिए जब कोई माता पिता किसी दूसरी महिला की कोख को किराए पर लेते हैं। किसी महिला के गर्भाशय में दूसरे कपल के बच्चे के पलने और पैदा होने की पूरी प्रक्रिया को सरोगेसी कहा गया है। इसके लिए सिंगल पेरेंट भी सरोगेसी का सहारा ले सकते हैं और कपल भी।

प्रियंका चोपड़ा के घर बेटा आया या बेटी! सामने आ रही ये खबर

तकनीकी तौर पर बात करें तो होने वाले पिता के स्पर्म और माता के एग्स का मेल या डोनर के स्पर्म और एग्स का मेल टेस्ट ट्यूब के जरिए कराने के बाद इसे सरोगेट मदर (दूसरी किसी महिला) के गर्भाशय में प्रत्यारोपित किया जाता है। उस गर्भाशय में बच्चा विकसित होता है और डिलीवरी के बाद बच्चे को असली माता पिता को दे दिया जाता है।

किसी वजह से कपल बच्चे को जन्म नहीं देना चाह रहा, या मां अपने गर्भाशय से बच्चे को जन्म नहीं देना चाहती तो कपल सरोगेसी की मदद लेते हैं और इसके लिए हर देश में अलग अलग कानून भी बनाए गए हैं। 

प्रियंका चोपड़ा के घर गूंजी किलकारी, सरोगेसी के जरिए किया बेबी का वेलकम

सरोगेट मदर को इस पूरी प्रक्रिया यानी नौ माह तक बच्चे को अपने पेट में रखने और डिलीवरी के लिए मेहनताना मिलता है और बाकायदा इसके लिए एग्रीमेंट साइन होते हैं जिसमें नियम और शर्तें तय होती हैं।

erussia-ukraine-news