China Taiwan War: चीन की इस डीजल इलेक्ट्रिक पनडुब्बी से क्यों डरते हैं दुनिया के कई देश? जान लीजिए खासियत

China Taiwan War: चीन अब ताइवान को लेकर एक समान मूड में दिख रहा है। यही वजह है कि सैन्य अभ्यास खत्म होते ही चीनी प्रशासन ने श्वेत पत्र जारी कर ताइवान को दी गई स्वायत्तता की पेशकश को वापस ले लिया है।

Ravi Prashant Edited By: Ravi Prashant @iamraviprashant
Updated on: August 12, 2022 14:22 IST
China Taiwan War- India TV Hindi
Image Source : TWITTER China Taiwan War

Highlights

  • इस पनडुब्बी को वुहान में बनाया गया था
  • पनडुब्बी बाहर से स्वीडिश A-26 के डिजाइन की तरह दिखती है
  • चीन तेजी से युद्धपोत और पनडुब्बियां बना रहा है

China Taiwan War: चीन अब ताइवान को लेकर एक समान मूड में दिख रहा है। यही वजह है कि सैन्य अभ्यास खत्म होते ही चीनी प्रशासन ने श्वेत पत्र जारी कर ताइवान को दी गई स्वायत्तता की पेशकश को वापस ले लिया है। चीन के गुस्से का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उसने ताइवान के पास जुलाई में कमीशन की अपनी सबसे नई पनडुब्बी भी तैनात कर दी है। इसे डीजल इलेक्ट्रिक पनडुब्बी कहा जाता है, जो स्वदेशी वायु स्वतंत्र प्रणोदन से लैस है। इससे चीन की नई पनडुब्बी का पता लगाना बेहद मुश्किल है। यह पनडुब्बी कई तरह की एंटी-शिप और लैंड अटैक मिसाइलों से लैस है। ऐसे में अगर चीन ताइवान के खिलाफ कोई सैन्य कार्रवाई करता है तो यह पनडुब्बी बेहद अहम भूमिका निभा सकती है।

यह पनडुब्बी टाइप-039ए का नया संस्करण है

नेवल न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, यह पनडुब्बी चीन के टाइप-039ए युआन क्लास का नया वेरिएंट है। इसका सटीक नाम ज्ञात नहीं है, लेकिन पश्चिमी विश्लेषकों का मानना ​​है कि यह Type-039C या -D है। इस पनडुब्बी को वुहान में बनाया गया था, और फिटिंग के लिए शंघाई भेजा गया था। लॉन्च के ठीक एक साल बाद अब इसे एक ऑपरेशनल बोट के रूप में सक्रिय कर दिया गया है। पनडुब्बियों की नई श्रेणी के लिए चीन का नया हथियार काफी शक्तिशाली माना जा रहा है।

YJ-18 सुपरसोनिक एंटी-शिप मिसाइल से लैस
चीन की इस नई पनडुब्बी को स्टील्थ फीचर के साथ बनाया गया है। पनडुब्बी बाहर से स्वीडिश A-26 के डिजाइन की तरह दिखती है। इसकी अनूठी डिजाइन के कारण समुद्र के नीचे इसका पता लगाना काफी मुश्किल है। यह पनडुब्बी शक्तिशाली मिसाइलों को लॉन्च करने के लिए वर्टिकल लॉन्च सिस्टम (वीएलएस) से लैस है। संभावना है कि उसके पास भी युआन वर्ग की अन्य पनडुब्बियों की तरह ही हथियार हों। पनडुब्बी YJ-18 सुपरसोनिक एंटी-शिप मिसाइल से भी लैस है। पनडुब्बी में टॉड ऐरे सोनार भी है, जो ऊपरी पतवार से होकर गुजरता है।

चीन तेजी से युद्धपोत और पनडुब्बियां बना रहा है
दक्षिण चीन सागर में बढ़ते तनाव को देखते हुए चीन इस समय अपनी नौसेना के लिए युद्धपोत और पनडुब्बियों का निर्माण तेजी से कर रहा है। चीन की 62 पनडुब्बियों में से सात परमाणु ऊर्जा से संचालित हैं। ऐसे में इसे पारंपरिक ईंधन के रूप में ज्यादा खर्च नहीं करना पड़ता है। चीन पहले से ही जहाज निर्माण की कला में पारंगत था। 2015 में, चीनी नौसेना ने अमेरिकी नौसेना के साथ अपनी ताकत को बराबर करने के लिए एक विशाल अभियान चलाया। पीएलए को विश्व स्तरीय लड़ाकू बल में बदलने का काम आज भी उसी गति से जारी है।

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन