1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. एशिया
  5. पाकिस्तान में भारी बिजली संकट, कराची में रात 9 बजे तक बाजार बंद करने का आदेश

Pakistan News: भारी बिजली संकट के बीच कराची में रात 9 बजे तक बाजार बंद करने का आदेश

पाकिस्तान में पिछले कई दिनों से बिजली संकट बरकरार है और सरकार को इससे निकलने का रास्ता नहीं सूझ रहा।

Vineet Kumar Written by: Vineet Kumar @JournoVineet
Published on: June 18, 2022 19:21 IST
Pakistan News, Pakistan Energy Crisis, Pakistan Power Crisis, Pakistan, Pakistan Power Plant- India TV Hindi
Image Source : AP FILE People are silhouetted on vehicles headlights on a dark street during widespread power outages in Rawalpindi.

Highlights

  • पाकिस्तान में पिछले कई दिनों से भारी बिजली कटौती हो रही है।
  • कराची में बाजारों को 9 बजे तक बंद करने का आदेश दिया गया है।
  • पाकिस्तान का बिजली संकट यूक्रेन के युद्ध से भी जुड़ा हुआ है।

Pakistan News: पाकिस्तान के कई शहर इन दिनों भारी बिजली संकट का सामना कर रहे हैं। कई शहरों में तो घंटों तक की कटौती हो रही है जिससे आम जनता काफी परेशान है। इस बीच पाकिस्तान के सबसे बड़े शहर कराची में बिजली के भारी संकट को देखते हुए रात 9 बजे तक बाजार बंद करने का आदेश जारी किया गया है। पाकिस्तान के सिंध प्रांत की सरकार ने फ्यूल और बिजली बचाने के लिये कराची में सभी शॉपिंग मॉल, बाजार, शादी घर और रेस्तरां को जल्द बंद करने का निर्देश दिया है। सिंध सरकार ने शुक्रवार को ही यह कदम उठाया था।

ऊर्जा संकट को दूर करने की कोशिश जारी

सरकार की कोशिश है कि ऊर्जा संकट को किसी तरह दूर किया जाए। पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था पर भी उर्जा संकट का विपरीत असर पड़ा है। गृह सचिव डॉ. सईद अहमद मंगनेजो ने कहा, 'हम ऊर्जा आपातकाल का सामना कर रहे हैं और हमें ऐसे उपाय करने की जरूरत है, जो स्थिति को नियंत्रित करने के लिए आवश्यक हों।' मंगनेजो ने कहा कि सभी बाजारों, दुकानों और शॉपिंग मॉल को रात 9 बजे तक बंद करना होगा, जबकि शादी घर और रेस्तरां को भी रात साढ़े 10 बजे तक बंद करने का निर्देश दिया गया है।

बिजली संकट का संबंध यूक्रेन युद्ध से
पाकिस्तान में पिछले कई दिनों से बिजली संकट बरकरार है और हालात देखकर लग रहा है कि सरकार को इससे निकलने का रास्ता नहीं सूझ रहा। भारी बिजली कटौती ने आम जनता के साथ-साथ उद्योग धंधों की भी हालत खराब कर रखी है। दरअसल, पाकिस्तान के अधिकतर पावर प्लांट आयात किए गए ईंधन से चलते हैं, और रूस-यूक्रेन युद्ध के चलते इसकी सप्लाई चेन पर असर पड़ा है। इसकी वजह से कीमतें बढ़ गई हैं और पहले से ही कंगाली झेल रही पाकिस्तान सरकार के लिए बढ़ी हुई कीमतों पर ईंधन खरीदना मुश्किल हो रहा है।