Thursday, May 23, 2024
Advertisement

Russia-Ukraine War: रूस यूक्रेन में कर रहा "व्यवस्थित" अत्याचार और बलात्कार, UN की सनसनीखेज रिपोर्ट

यूक्रेन युद्ध पर संयुक्त राष्ट्र ने रूस के खिलाफ सनसनीखेज रिपोर्ट जारी की है। यूएन के अनुसार रूसी सेना ने यूक्रेन में महिलाओं के साथ बलात्कार और कैदियों के साथ यातना जैसे युद्ध अपराधों को अंजाम दिया है। इतना ही नहीं, यूक्रेनी बच्चों को जबरन रूसी क्षेत्र में स्थानांतरिक कर दिए जाने का भी आरोप है।

Edited By: Dharmendra Kumar Mishra @dharmendramedia
Published on: March 15, 2024 18:38 IST
यूक्रेन जंग के मैदान में डटी रूसी सेना।- India TV Hindi
Image Source : AP यूक्रेन जंग के मैदान में डटी रूसी सेना।

रूस-यूक्रेन युद्ध पर संयुक्त राष्ट्र (यूएन) की एक रिपोर्ट ने पूरी दुनिया में खलबली मचा दी है। यूएन की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि रूस यूक्रेन में "व्यवस्थित" अत्याचार और बलात्कार कर रहा है। UN की यह सनसनीखेज रिपोर्ट रूस-यूक्रेन के बीच युद्ध के 2 वर्ष पूरे होने के बाद आई है। मॉस्को दो साल से अधिक समय से यूक्रेन के खिलाफ युद्ध लड़ते हुए मैदान पर क्षेत्रीय लाभ हासिल किया है। रूस ने यूक्रेन के करीब 5 इलाकों पर कब्जा जमाया है। 

संयुक्त राष्ट्र के जांचकर्ताओं ने शुक्रवार को कहा कि रूस लगातार यूक्रेन में मानवाधिकारों का गंभीर उल्लंघन और युद्ध अपराध कर रहा है, जिसमें "व्यवस्थित" यातना और बलात्कार भी शामिल है।
कीव पर पूर्ण पैमाने पर रूसी आक्रमण के बाद से यूक्रेन में अधिकारों की स्थिति पर उच्च स्तरीय जांच आयोग (सीओआई) ने कहा कि उसे व्यापक दुरुपयोग के नए सबूत मिले हैं। सीओआई ने नागरिक क्षेत्रों में विस्फोटक हथियारों के निरंतर उपयोग के बारे में भी चिंता व्यक्त की है। "नागरिकों को संभावित नुकसान के लिए रूसी सशस्त्र बलों द्वारा उपेक्षा के एक पैटर्न" की पुष्टि की गई है।

रूसी अधिकारियों ने किया अंतरराष्ट्रीय मानवीय कानूनों का उल्लंघन

सीओआई प्रमुख एरिक मोसे ने संवाददाताओं से कहा, "सबूत से पता चलता है कि रूसी अधिकारियों ने अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकारों और अंतरराष्ट्रीय मानवीय कानून का उल्लंघन करके युद्ध अपराध किया है।" उन्होंने कहा, " इसे पूरी तरह निर्धारित करने के लिए आगे की जांच की आवश्यकता है कि क्या पहचानी गई कुछ स्थितियां मानवता के खिलाफ अपराध हो सकती हैं।" पिछले निष्कर्षों की पुष्टि करते हुए, संयुक्त राष्ट्र ने कहा कि रूसी अधिकारियों द्वारा यूक्रेन और रूस दोनों में यातना "व्यापक और व्यवस्थित" रही है। जांचकर्ताओं ने कहा कि उन्होंने यूक्रेन की 16 अलग-अलग यात्राओं के दौरान 800 से अधिक लोगों से बात करने के बाद अपनी नवीनतम रिपोर्ट तैयार की है।

युद्ध बंदियों के साथ भयानक व्यवहार

टीम ने पाया कि यूक्रेन के युद्धबंदियों के साथ रूस का व्यवहार "भयानक" था। यह "रिपोर्ट में उन परिस्थितियों में महिलाओं के खिलाफ किए गए बलात्कार और अन्य यौन हिंसा की घटनाओं का दस्तावेजीकरण किया गया है जो यातना के समान हैं। "इसमें यौन आयाम वाली यातना की घटनाओं और युद्ध में पुरुष कैदियों के खिलाफ बलात्कार की धमकियों का भी विवरण दिया गया है।" जांचकर्ताओं को "अतिरिक्त सबूत" भी मिले कि यूक्रेनी बच्चों को अवैध रूप से रूसी नियंत्रण वाले क्षेत्रों में स्थानांतरित कर दिया गया था।

दस्तावेजों की लूट का भी आरोप

जांचकर्ताओं ने पहली बार रूस द्वारा विशेष रूप से खेरसॉन शहर से यूक्रेनी सांस्कृतिक वस्तुओं और पुरालेख दस्तावेजों की लूट पर ध्यान केंद्रित किया, जिस पर मार्च 2022 में रूसी सेना ने कब्जा कर लिया था।अक्टूबर और नवंबर 2022 में कब्जे के आखिरी हफ्तों के दौरान, "रूसी अधिकारियों ने खेरसॉन क्षेत्रीय कला संग्रहालय से सांस्कृतिक वस्तुओं और खेरसॉन प्रांत के राज्य अभिलेखागार से अभिलेखीय दस्तावेजों को" अपने कब्जे वाले क्रीमिया में स्थानांतरित कर दिया। रिपोर्ट के अनुसार संग्रहालय से 10,000 से अधिक वस्तुएं और राज्य पुरालेख के मुख्य भवन से 70 प्रतिशत दस्तावेज हटा दिए गए। संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट ने इस सांस्कृतिक विनियोग को "युद्ध अपराध" बताया है।

यह भी पढ़ें

चीन के कोयला खदान में 5 दिन दबे रहे 7 श्रमिक, मदद नहीं मिल पाने से सभी की मौत

"CAA है भारत का आंतरिक मामला", अमेरिका की टिप्पणी पर विदेश मंत्रालय ने दिया करारा जवाब

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Europe News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement