America-Pakistan: पाकिस्तान पर मेहरबान हुए बाइडेन, पाक को F-16 फाइटर जेट प्रोग्राम जारी रखने के लिए दी 45 करोड़ डॉलर की मंजूरी

America-Pakistan: डोनाल्ड ट्रंप ने 2018 में पाकिस्तान को दी जाने वाली दो अरब डॉलर की वित्तीय सहायता पर बैन लगा दिया था। उन्होंने ये कदम यह कहते हुए उठाया था कि आतंकवादी सगठनों तालिबान और हक्कानी नेटवर्क पर कार्रवाई में पाकिस्तान फेल रहा है। अब जो बाइडेन ने इसे पलट दिया है।

Deepak Vyas Written By: Deepak Vyas @deepakvyas9826
Published on: September 09, 2022 9:27 IST
F-16 Fighter jet- India TV Hindi
Image Source : FILE F-16 Fighter jet

Highlights

  • ट्रंप ने पाकिस्तान को दो अरब डॉलर देने से किया था मना
  • अंतरराष्ट्रीय सहायता का गलत उपयोग करना पाकिस्तान की पुरानी आदत
  • सैन्य क्षमता में होगा इजाफा, भारत को दर्ज कराना होगा विरोध

America-Pakistan: अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के फैसले को बदल दिया है। नए फैसले के तहत उन्होंने पाकिस्तान को एफ 16 फाइटर जेट के मैंटेनेंस के लिए 45 करोड़ डॉलर देने की मंजूरी दी है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पाकिस्तान को यह पैसे की मदद अभी और बाद में आतंकवाद पर लगाम लगाने के लिए दी जा रही है। अमेरिका का मानना है कि एफ 16 विमान आतंकवादीरोधी है।  अहम बात ये है कि पिछले चार साल में इस्लामाबाद को दी जा रही यह सबसे बड़ी सुरक्षा सहायता है।

ट्रंप ने पाकिस्तान को दो अरब डॉलर देने से किया था मना 

डोनाल्ड ट्रंप ने 2018 में पाकिस्तान को दी जाने वाली दो अरब डॉलर की वित्तीय सहायता पर बैन लगा दिया था। उन्होंने ये कदम यह कहते हुए उठाया था कि आतंकवादी सगठनों तालिबान और हक्कानी नेटवर्क पर कार्रवाई में पाकिस्तान फेल रहा है। अब जो बाइडेन ने इसे पलट दिया है। यह जानकारी अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने अमेरिकी संसद को दी। इसमें कहा गया कि इस्लामाबाद को वर्तमान और भविष्य में भी आतंकवाद से जुड़े खतरों से निपटने में काफी मदद मिलेगी।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि ‘कांग्रेस को प्रस्तावित अधिसूचना में कहा गया है कि विदेशी सैन्य बिक्री की सूचना है। इससे पाकिस्तान की वायु सेना के एफ.16 कार्यक्रम को जारी रखा जा सकेगा। यह एक महत्वपूर्ण आतंकवादी रोधी सहयोगी है।‘

अंतरराष्ट्रीय सहायता का गलत उपयोग करना पाकिस्तान की पुरानी आदत

पाकिस्तान में हाल ही में आई बाढ़ की विभीषिका के बीच उसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पैसों की मदद मिली है। लेकिन पाकिस्तान बाढ़ के नाम पर पैसे की मदद का भी गलत उपयोग करने से पीछे नहीं हटता। इसी तरह यदि आतंकवाद को रोकने के लिए यह मदद अमेरिका की ओर से दी जाती है, तो यह बहुत संभावना है कि इन पैसों की मदद से वह आतंकवाद को रोकने नहीं, बल्कि सीमा पार आतंकवाद को बढ़ावा देने का काम जरूर कर सकता है। वहीं एफ 16 विमानों के रखरखाव के लिए दिया गया पैसा आतंकवाद को कैसे रोकेगा, यह समझ से परे है। 

सैन्य क्षमता में होगा इजाफा, भारत को दर्ज कराना होगा विरोध

इस मामले में पाकिस्तान में भारत के पूर्व राजदूत और रक्षा विशेषज्ञ जी पार्थसारथी का कहना है कि अमेरिका की ओर से पाकिस्तान को इतनी बड़ी सैन्य मदद देना भारत के लिए चिंता की बात है। इससे स्पष्ट नजर आ रहा है कि पाकिस्तान इसके जरिए अपनी सैन्य ताकत को बढ़ाएगा क्योंकि एफ 16 विमान में एडवांस रडार सिस्टम और मिसाइल क्षमता पहले से ही मौजूद हैं। उन्होंने कहा कि अमेरिका अपने इस कदम से पाकिस्तान को भारत के बराबर ताकतवर बनाने की कोशिश कर रहा है। पार्थसारथी का मानना हैं कि अमेरिका के इस फैसले के बाद उसे साफ सिग्नल भेजा जाना चाहिए और भारत को अपनी आपत्ति दर्ज करानी चाहिए। ऐसा सिर्फ राजनीतिक स्तर पर नहीं बल्कि कार्रवाई करके भी किया जा सकता है।

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। US News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन