1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. अमेरिका
  5. यूक्रेन पर किसी भी दिन हमला कर सकता है रूस, अमेरिका ने दी चेतावनी

यूक्रेन पर किसी भी दिन हमला कर सकता है रूस, अमेरिका ने दी चेतावनी

राष्ट्रपति के वरिष्ठ सलाहकार की यह दूसरी चेतावनी है। इसके पहले अमेरिकी अधिकारियों ने पुष्टि की थी कि रूस ने महीने के मध्य तक अपनी मंशा के अनुरूप कम से कम 70 फीसदी सैन्य साजोसामान एकत्र कर लिया था। 

IndiaTV Hindi Desk Edited by: IndiaTV Hindi Desk
Published on: February 07, 2022 7:02 IST
अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन- India TV Hindi
Image Source : PTI FILE PHOTO अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन

Highlights

  • राष्ट्रपति के वरिष्ठ सलाहकार की यह दूसरी चेतावनी है
  • रूस यूक्रेन पर ‘किसी भी दिन’ हमला कर सकता है- यूएस
  • संघर्ष की शुरुआत हुई तो मानवता को बड़ी कीमत चुकानी पड़ेगी- यूएस

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन ने रविवार को कहा कि रूस यूक्रेन पर ‘किसी भी दिन’ हमला कर सकता है। उन्होंने कहा कि संघर्ष की शुरुआत हुई तो मानवता को बड़ी कीमत चुकानी पड़ेगी। 

राष्ट्रपति के वरिष्ठ सलाहकार की यह दूसरी चेतावनी है। इसके पहले अमेरिकी अधिकारियों ने पुष्टि की थी कि रूस ने महीने के मध्य तक अपनी मंशा के अनुरूप कम से कम 70 फीसदी सैन्य साजोसामान एकत्र कर लिया था। 

अमेरिकी अधिकारियों के मुताबिक, इसका मकसद रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को यूक्रेन के खिलाफ हमला करने का विकल्प मुहैया कराना है। सुलिवन ने कहा, 'अगर युद्ध छिड़ता है, तो यूक्रेन को बड़ी मानवीय कीमत चुकानी पड़ेगी, लेकिन अपनी तैयारियों और प्रतिक्रिया के आधार पर हमारा विश्वास है कि रूस को भी इसके लिए रणनीतिक कीमत चुकानी पड़ेगी।' 

उन्होंने सीधे तौर पर उन खबरों का जिक्र नहीं किया जिसके मुताबिक व्हाइट हाउस ने सांसदों को जानकारी दी है कि रूस आक्रमण करके कीव पर त्वरित कब्जा कर सकता है जिसमें 50,000 लोग हताहत हो सकते हैं। 

सुलिवन ने कहा कि अब भी एक राजनयिक समाधान संभव है। प्रशासन ने हाल के दिनों में चेतावनी दी थी कि रूस तेजी से यूक्रेन के क्षेत्र पर आक्रमण करने का इरादा रखता है। बाइडन प्रशासन के अधिकारियों ने पिछले सप्ताह कहा था कि खुफिया जानकारी के मुताबिक क्रेमलिन ने यूक्रेन के सुरक्षा बलों द्वारा हमला करने की कहानी गढ़ने के लिए एक विस्तृत साजिश पर काम किया था, ताकि रूस को अपने पड़ोसी के खिलाफ सैन्य कार्रवाई करने का बहाना मिल सके।