ye-public-hai-sab-jaanti-hai
  1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. सिनेमा
  4. टीवी
  5. नकुल मेहता की पत्नी का खुलासा- कोविड पॉजिटिव बेटे सूफी को ICU में कराना पड़ा था एडमिट

नकुल मेहता की पत्नी का खुलासा- कोविड पॉजिटिव बेटे सूफी को ICU में कराना पड़ा था एडमिट

जानकी पारेख ने इंस्टाग्राम पर अपने बेटे सूफी के कोविड 19 पॉजिटिव होने के  बारे में इमोशनल नोट लिखा, जिसमें लिखा था कि बच्चे को एसआरसीसी चिल्ड्रन हॉस्पिटल के आईसीयू में ले जाया गया था, उसे तेज बुखार था।

Jyoti Jaiswal Edited by: Jyoti Jaiswal @TheJyotiJaiswal
Published on: January 03, 2022 23:51 IST
नकुल मेहता की पत्नी- India TV Hindi
Image Source : INSTAGRAM- JANKEE नकुल मेहता की पत्नी

Highlights

  • नकुल मेहता 'बड़े अच्छे लगते हैं 2' में नजर आ रहे हैं।
  • नकुल मेहता 'इश्कबाज' और 'प्यार का दर्द मीठा मीठा प्यारा प्यारा' जैसे टीवी सीरियल्स में नजर आ चुके हैं।

अभिनेता नकुल मेहता की गायिका पत्नी जानकी पारेख ने सोमवार को खुलासा किया कि कैसे दंपति ने अपने 11 महीने के बच्चे को कोविड-19 पॉजिटिव होने के बाद आईसीयू में भर्ती कराना पड़ा था। पारेख ने इंस्टाग्राम पर अपने बेटे सूफी के इलाज के बारे में एक भावनात्मक नोट लिखा, जिसमें लिखा था कि बच्चे को एसआरसीसी चिल्ड्रन हॉस्पिटल के आईसीयू में भर्ती कराना पड़ा था क्योंकि बुखार नहीं उतर रहा था।

नकुल मेहता ने 23 दिसंबर को बताया था कि उन्हें कोरोना हो गया है। "बड़े अच्छे लगते हैं 2" स्टार के वायरस से जकड़े जाने के बाद बेटे का भी कोविड टेस्ट उन्होंने कराया था। जानकी पारेख ने बताया कि वो उनके जीवन के "सबसे कठिन दिन" थे, जहां वह घबराहट, चिंता और अपने स्वयं के स्वास्थ्य की देखभाल के बीच झूल रही थीं।

जानकी ने बताया कि "सूफी को मेरे पॉजिटिव होने के एक दिन बाद बुखार आया था पानी के स्पंज और दवा के बावजूद बुखार कम नहीं आ रहा था। हम उसे आधी रात में अस्पताल ले गए जब उसका बुखार 104.2 को पार कर गया और उसके बाद बहुत कठिन दिन थे। मेरे बच्चे को कोविड ICU में ले जाना पड़ा। मेरे फाइटर ने यह सब किया।

उन्होंने आगे लिखा- "एम्बुलेंस में अस्पताल ले जाने से लेकर उसके शरीर के तापमान को कम करने के लिए 3 आईवीएस, रक्त परीक्षण, आरटीपीसीआर, एंटीबायोटिक्स और इंजेक्शन लगाने तक। कभी-कभी, मुझे आश्चर्य होता है कि इस छोटे से इंसान ने कैसे किया। इन सबका सामना करने के लिए इतनी ताकत मिलती है?"

पारेख ने कहा कि सूफी का बुखार आखिरकार तीन दिन बाद टूट गया। जानकी ने कहा कि अस्पताल में अकेले बच्चे की देखभाल करना "थकाऊ" था, क्योंकि वो खुद भी कोविड से ग्रसित थीं। उसने अपनी नैनी को धन्यवाद दिया, जिसने सूफी की देखभाल के लिए कोविड ​​​​-19 आईसीयू वार्ड में कदम रखा क्योंकि उनके शरीर ने साथ देना बंद कर दिरया था।

पारेख ने अस्पताल के कर्मचारियों को उनके समय पर इलाज और उन्हें "लड़ने का साहस" देने के लिए धन्यवाद दिया। उनकी नवीनतम इंस्टाग्राम स्टोरी के अनुसार, सूफी के साथ युगल अब घर वापस आ गए हैं।

"हमने जो पढ़ा है, उसके बारे में माना जाता है कि ओमिक्रोन वयस्कों पर हल्का होता है, लेकिन बच्चों के साथ ज्यादा हो सकता है। आप सभी कृपया अपना ध्यान न रखें। हमारे बच्चे मास्क नहीं पहन सकते हैं या टीकाकरण नहीं करवा सकते हैं, इसलिए हमें और अधिक सतर्क रहने की आवश्यकता है। हम घर वापस आ रहे हैं। इस लड़ाई को साझा करने का विचार यह सुनिश्चित करना है कि मैं इस जागरूकता को बढ़ा सकूं, भले ही यह सिर्फ एक और माता-पिता के लिए ही क्यों न हो।

उन्होंने अपने पोस्ट में कहा, "आज सूफी भी 11 महीने के हो गए हैं। अपने लचीलेपन से हमें प्रेरित करने के लिए मेरे सुपरहीरो और उस नासमझ मुस्कान के लिए धन्यवाद, जो हर तूफान की तुलना में इतनी तुच्छ लगती है।"

elections-2022