1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. हेल्थ
  4. जानें आखिर किस तरह फैल रहा है कोरोना वायरस, इसे लेकर फैल रहे हैं ये भ्रम, एम्स की स्टडी में सामने आई बात

जानें आखिर किस तरह फैल रहा है कोरोना वायरस, इसे लेकर फैल रहे हैं ये भ्रम, एम्स की स्टडी में सामने आई बात

दिल्ली के एम्स ने कोरोना वायरस को लेकर स्टडी की। जिसके बाद कोविड-19 के बारे में कई अहम जानकारियां बताई।

India TV Lifestyle Desk India TV Lifestyle Desk
Updated on: March 23, 2020 11:49 IST
Coronavirus- India TV Hindi
Coronavirus

कोरोना वायरस का असर दिल्ली, उत्तर प्रदेश ही ही नहीं पूरे देश में देखा जा रहा है। हालात कब खतरनाक रूप ले लेंगे किसी को अंदाजा नहीं है। इसी के कारण कई शहरों को लॉकडाउन कर दिया गया है। जिसे लोग घर में सुरक्षित रहने के साथ-साथ इस संक्रमण को रोका जा सके। इसलिए हर स्तर पर एहतियातन कदम उठाए जा रहे हैं। कोरोना वायरस को लेकर कई धारणाएं और बातें फैली हुई हैं। इसी के चलते एम्स ने कोरोना वायरस के बारे में कुछ जानकारी साझा की है। कोरोना वायरस क्या है, कैसे फैलता है और इसको लेकर क्या मिथ्य है? पढ़ें एम्स के द्वारा कोरोना वायरस को लेकर जारी किए कए दिशानिर्देश। 

क्या है कोरोना वायरस?

COVID-19 एक संक्रामक रोग है जो हाल ही में खोजे गए कोरोना वायरस के कारण हुआ है।

कोरोना वायरस कैसे फैलता है?

  • अधिकांश लोगों (80%) को इस तरह के उपचार की आवश्यकता नहीं होगी और वे अपने आप ठीक हो जाएंगे।
  • एक छोटे अनुपात (<20%) को अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता हो सकती है। 
  • बहुत छोटे अनुपात (मुख्य रूप से अंतर्निहित पुरानी बीमारी के साथ) को गहन देखभाल इकाई (आईसीयू) में रखने की आवश्यकता हो सकती है।

कोरोना वायरस से संक्रमित होने की क्या उम्र है? क्या यह बच्चों में भी होता है?

  • कोरोना वायरस किसी भी उम्र के लोगों को हो सकता है।  यह घर में  संक्रमित व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के माध्यम से बच्चों को भी फैल सकता है।
  • संक्रमण आमतौर पर बच्चों में हल्का होता है।
  •  बुजुर्ग व्यक्तियों और पहले से मौजूद चिकित्सा स्थितियों (जैसे उच्च रक्तचाप, हृदय रोग, फेफड़े की बीमारी, कैंसर या मधुमेह) में गंभीर बीमारी विकसित होने का खतरा अधिक होता है।

कोरोना वायरस से जागरूक करने के लिए गूगल ने उठाया खास कदम, बताए बचाव के 5 तरीके

कोरोना वायरस सरफेस या चीजों में कितनी देर तक रहता है?

  • यह निश्चित नहीं है कि सीओवीआईडी ​​-19 का कारण बनने वाला वायरस सतहों पर कब तक जीवित रहता है, लेकिन यह कोरोना वायरस की तरह व्यवहार करता है।
  • अध्ययनों से पता चलता है कि कोरोना वायरस (सीओवीआईडी ​​-19 वायरस पर प्रारंभिक जानकारी सहित) कुछ घंटों या कई दिनों तक सतहों पर बना रह सकता है।
  • यह अलग-अलग स्थितियों (उदाहरण के लिए सतह, तापमान या वातावरण की आर्द्रता) के तहत भिन्न हो सकता है।
  • यदि आपको लगता है कि एक सतह संक्रमित हो सकती है, तो वायरस को मारने के लिए साधारण कीटाणुनाशक से सफाई करें और अपनी और दूसरों की रक्षा करें।
  • अपने हाथों को अल्कोहल आधारित  सैनिटाइजर या साबुन और पानी से धोएं।
  •  अपनी आंखों, मुंह या नाक को छूने से बचें।

कोरोना वायरस के लक्षण
बुखार, गले में खराश, खांसी और सांस की तकलीफ।
ये किसी भी वायरल इंफेक्शन के लक्षण जैसे सामान्य सर्दी, इन्फ्लूएंजा आदि के समान हैं।

कोरोना वायरस से मरने वाले चौथे शख्स को भी थी हाइपरटेंशन और डायबिटीज की परेशानी, यूं करें बचाव

मुझे किससे सलाह लेनी चाहिए?
आप अपने फैमिली डॉक्टर से संपर्क करें।  इसके साथ ही उन्हें अपनी कोरोना वायरस से प्रभावित क्षेत्र का यात्रा की हिस्ट्री और किसी संक्रमित व्यक्ति के साथ मिले है तो इसके बारे में डॉक्टर को जरूर बताएं। 

कोरोना वायरस संबंधी क्या टेस्ट और कहां से कराएं जाए
यदि आपके पास उपरोक्त में से कोई भी लक्षण हैं और आपने किसी भी COVID-19 प्रभावित देशों की यात्रा की है या आप किसी प्रयोगशाला पुष्टि किए गए सकारात्मक मामले के संपर्क में हैं, तो तुरंत राज्य हेल्पलाइन नंबर या स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार के 24x7 पर कॉल करें। हेल्पलाइन नंबर- 011-23978046 और टोल फ्री नंबर: 1075

हेल्पलाइन डेस्क आपके संपर्क विवरणों को नोट करेगा और आपको COVID-19 के परीक्षण प्रोटोकॉल के साथ संपर्क करेगा।

यदि आप प्रोटोकॉल के अनुसार परीक्षण के लिए एक मामले के रूप में अर्हता प्राप्त करते हैं, तो आपको केवल सरकार द्वारा अनुमोदित प्रयोगशाला में परीक्षण किया जाएगा।

क्या कोरोना वायरस संक्रमण का कोई इलाज है?
अभी तक कोरोना वायरस संक्रमण के लिए कोई विशिष्ट उपचार नहीं है। कोरोना वायरस के संक्रमण के उपचार में रोगसूचक उपचार शामिल हैं। चूंकि यह एक वायरल संक्रमण है, इसलिए 80% से अधिक मामलों में यह कुछ दिनों के भीतर ठीक हो जाता है।

यदि उन्हें गंभीर बीमारी के लक्षण दिखाई दे रहे हैं, तो उन्हें अस्पताल / आईसीयू में प्रवेश के लिए एक छोटे से अनुपात की आवश्यकता हो सकती है।

क्या कोरोना वायरस के संक्रमण के इलाज के लिए कोई दवाएं है?
नहीं, क्योंकि अब तक कोई भी एंटी-वायरल दवा उपलब्ध नहीं है जो कि संक्रमण के लक्षणों का इलाज करने के लिए उपलब्ध है, हालांकि अधिकांश लोग किसी भी अन्य वायरल बीमारी की तरह ही बिना किसी समस्या के ठीक हो जाते हैं।

कुछ दवाएं जो अन्य कोरोना वायरस के संक्रमण के लिए उपयोग की जाती हैं, उन्हें बहुत बीमार रोगियों में आज़माया जा रहा है।

मैं अपनी और अपने परिवार के सदस्यों की सुरक्षा कैसे कर सकता हूं?
आप कुछ सिंपल सावधानियां बरतकर COVID -19 के संक्रमित होने या फैलने की संभावनाओं को कम कर सकते हैं-
नियमित रूप से और अच्छी तरह से अपने हाथों को अल्कोहल-आधारित हाथ से रगड़ कर साफ करें या बाहर से आने के बाद या कोरोना वायरस के संक्रमण वाले किसी मरीज से मिलने के बाद साबुन और पानी से धोएं।
कोई खांस, छींक रहा है तो उससे कम से कम 1 मीटर (3 फीट) की दूरी बना कर रखें। 
आंखों, नाक और मुंह को छूने से बचें।
आप और आपके आस-पास के लोग हाइजीन का पालन करें यानी खांसी या छींकते समय अपनी कोहनी या फिर टिशू पेपर का इस्केमाल करें। इसके बाद इसे डस्चबिन में फेंक कर हाथ धो लें। 
यदि आप अस्वस्थ महसूस करते हैं तो घर पर रहें। यदि आपको बुखार, खांसी और सांस लेने में कठिनाई हो रही है तो डॉक्टर से संपर्क करें। 

हर किसी को मास्क पहनना जरूरी।

  • अगर आपको खांसी, जुकाम आदि नहीं है तो मास्क न पहनें। 
  • मास्क लगाते समय इन बातों का रखें ध्यान
  • मास्क के प्लीट को खोले- ध्यान दें कि खोलते समय वह नीचे की तरफ खुले।
  • मास्क के गीला होने पर या हर 6 घंटे में मास्क को बदलते रहें।
  • अपनी नाक, मुंह और ठोड़ी के ऊपर मास्क लगाएं और सुनिश्चित करें कि मास्क के दोनो ओर कोई गैप ना हो, ठीक से फिट करें।
  • डिस्पोजेबल मास्क का पुन- प्रयोग न करें और प्रयोग किए गए मास्क को कीटाणुरहित कर बंद कूड़ेदान में डाल दें।
  • मास्क का उपयोग करते समय मास्क को छूने से बचें।
  • मास्क को गर्दन पर लटकता हुआ न छोड़े।
  • मास्क को हटाने के बाद अपने हाथों को साबुन और पानी या अल्कोहल आधारित हैंड रब से धोएं।
  • मास्क को उतारते समय मास्क की बाहरी सतह को न छुएं।

कौन यूज करें मास्क

  • आप कोरोनावायरस से संक्रमित व्‍यक्ति की देखभाल कर रहे हों तब आप मुंह पर मास्‍क लगाएं।
  • यदि आप स्‍वास्‍थ्‍य कार्यकर्ता हैं और आप कोरोना वायरस बीमारी से प्रभावित मरीज की देखभाल कर रहे हों तब आपको मास्‍क लगाने की आवश्‍यकता है।
  • अगर आप किसी हॉस्पिटल जा रहे है तो मास्क पहनें। 

सैनिटाइजर का क्या है रोल?

  • जब आप कोरोना वायरस से संक्रमित रोगियों की देखभाल कर रहे हों तो हैंड सैनिटाइज़र का उपयोग किया जाना चाहिए।
  • सामान्य तौर पर, 20 सेकंड के लिए साबुन और पानी से अक्सर हाथ धोना अनुशंसित विकल्प है।
  • यदि हाथ गंदे या गंदे हैं तो अल्कोहल आधारित हैंड सैनिटाइजर का उपयोग न करें, लेकिन साबुन और पानी से हाथ धोएं।

क्या कोरोना वायरस की कोई वैक्सीन है उपलब्ध?
नहीं अभी तक कोई वैक्सीन नहीं आई हैं। लगातार इसको लेकर रिचर्स की जा रही हैं। 

कोरोना वायरस को लेकर मिथ्य
1. क्या भोजन विशेष रूप से चिकन, अंडे और मांस खाने से बीमारी फैलती है?
पालतू जानवरों के माध्यम से बीमारी का संचरण नहीं देखा गया है।

2. क्या बीमारी पालतू जानवरों के माध्यम से फैलती है?
व्यक्ति के मृत शरीर से कोरोना वायरस संक्रमण का कोई संचरण नहीं है।

3. क्या कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति का मृत शरीर संक्रमण फैलता है?
व्यक्ति के मृत शरीर से कोरोना वायरस संक्रमण का कोई संचरण नहीं है।

क्या मैं कोरोना वायरस बीमारी से निपटने में कैसे मदद कर सकता हूं?
हर कोई हाइजीन का ख्याल रखकर कोरोना वायरस को फैलने में मदद कर सकता है। 
कोई भी अनावश्यक यात्रा से बच सकता है, सार्वजनिक समारोहों में भाग ले सकता है और एक उचित सामाजिक दूरी सुनिश्चित कर सकता है।

कोरोना से जंग : Full Coverage

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। जानें आखिर किस तरह फैल रहा है कोरोना वायरस, इसे लेकर फैल रहे हैं ये भ्रम, एम्स की स्टडी में सामने आई बात News in Hindi के लिए क्लिक करें हेल्थ सेक्‍शन
Write a comment
X