1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. हेल्थ
  4. Summer Diseases: गर्मी के मौसम में आम हैं ये 7 बीमारियां, जानें लक्षण और बचाव का तरीका

Summer Diseases: गर्मी के मौसम में आम हैं ये 7 बीमारियां, जानें लक्षण और बचाव का तरीका

गर्मी का मौसम अपने साथ कई बीमारियां लेकर आती है। इस मौसम में जरा सी लापरवाही करना सेहत पर भारी पड़ सकता है।

India TV Lifestyle Desk India TV Lifestyle Desk
Updated on: March 19, 2021 19:37 IST
गर्मियों में होने...- India TV Hindi
Image Source : INSTAGRAM/NUVANCEHEALTH गर्मियों में होने वाली बीमारियां, लक्षण और बचाव   

गर्मी का मौसम अपने साथ कई बीमारियां लेकर आती है। इस मौसम में जरा सी लापरवाही करना सेहत पर भारी पड़ सकता है। गर्मियों में आमतौर पर लोगों को ठंडी चीजें खाने का मन करता है, जैसे-ठंडा पानी, आइसक्रीम, जूस और कोल्ड ड्रिंक। कई बार गरम और ठंडा एकसाथ खाने की वजस से भी दिक्कते हो जाती हैं। इसके अलावा गर्मी में हीट और ह्यूमिडिटी बढ़ने की वजह से तापमान ज्यादा हो जाता है, इस कारण बीमारियों का भी खतरा ज्यादा हो जाता है। आज हम आपको बताएंगे 7 ऐसी बीमारियों के बारे में जो गर्मी के मौसम में बहुत आम हैं। साथ ही ये भी बताएंगे कि इन बीमारियों के लक्षण क्या हैं और इनसे बचाव कैसे किया जा सकता है?

Low Blood Sugar Home Remedies: लो बीपी को कंट्रोल करने के लिए अपनाएं ये 5 घरेलू तरीके, जानें लक्षण और कारण

गर्मी के मौसम में आम हैं ये 7 बीमारियां

हीट स्ट्रोक या लू लगना

heat stroke or loo

Image Source : INSTAGRAM/SUNITI_NEWS
हीट स्ट्रोक या लू लगना 

हीट स्ट्रोक को मेडिकल टर्म में 'हाइपरथर्मिया' कहते हैं और यह गर्मी के मौसम में होने वाली सबसे कॉमन बीमारी है। लंबे समय तक बाहर धूप में या गर्म तापमान में रहने की वजह से यह बीमारी होती है। 

लक्षण- हीट स्ट्रोक होने पर मरीज में सिर में दर्द, चक्कर आना, कमजोरी महसूस होना या बेहोशी जैसे लक्षण देखने को मिलते हैं। इसे लू लगना भी कहते हैं। 

बचाव- अगर आपको लू से बचना है तो खाली पेट घर से बाहर बिलकुल ना निकलें और गर्मी में पानी पीते रहें। इसके अलावा हीट स्ट्रोक से बचने के लिए सिर, चेहरे और आंखों को कवर करके रखें। 

फूड पॉइजनिंग

गर्मियों में होने वाली एक और कॉमन समस्या फूड पॉइजनिंगहै। इस मौसम में बैक्टीरिया, वायरस और फंगस की भी ग्रोथ अधिक होती है। गर्मी और ह्यूमिड वातावरण में ये रोगाणु तेजी से फैलते हैं और भोजन को दूषित कर देते हैं। इसी दूषित भोजन को खाने से फूड पॉइजनिंग हो सकती है और पेट से जुड़ी कई और दिक्कतें भी।

लक्षण- पेट दर्द, जी मिचलाना, दस्त, बुखार और शरीर में दर्द के लक्षण दिख सकते हैं। इसमें ना सिर्फ पेट मरोड़ के साथ दर्द करता है, बल्कि डायरिया, उल्टी जैसी समस्याएं भी नजर आने लगती हैं। 

बचाव- इससे बचने के लिए बासी और पुराना खाना ना खाएं। हमेशा घर का बना ताजा खाना खाएं। बाहर की चीजें खाने से भी परहेज करें। इसके अलाव सब्जियों को बनाने से पहले साफ पानी से धो लें। 

स्किन पर चकत्ते या घमौरी होना

skin allergy

Image Source : INNSTAGRAM/TEAMCSSM
स्किन पर चकत्ते या घमौरी होना 

जैसे-जैसे गर्मी बढ़ने लगती है स्किन पर चकत्ते या घमौरी होने का खतरा भी बढ़ जाता है। इसका कारण ये है कि गर्मी में पसीना ज्यादा निकलता है लेकिन अगर टाइट कपड़ों की वजह से पसीना, शरीर से बाहर ना निकल पाए और पसीने की ग्रंथि में ही फंसा रहे तो उस जगह पर लाल-लाल चकत्ते, दाने या घमौरी हो जाती है जिसमें बहुत ज्यादा खुजली होती है। 

बचाव- चकत्ते या घमौरी से बचने के लिए गर्मियों में हल्के रंग के, ढीले-ढाले कॉटन कपड़े ही पहनने चाहिए। 

तेजी से वजन घटाने और पेट की चर्बी कम करने के लिए बस अपनाएं ये सिंपल सा डाइट प्लान, जल्द दिखेगा असर

टायफाइड 

टायफाइड एक ऐसी बीमारी है जो दूषित पानी पीने से होती है। आमतौर पर जब संक्रमित बैक्टीरिया शरीर में प्रवेश करता है तब टायफाइड की समस्या होती है। 

लक्षण- टायफाइड में तेज बुखार, भूख ना लगना, पेट में तेज दर्द होना, कमजोरी महसूस होना जैसे लक्षण नजर आते हैं। 

बचाव- गर्मी के मौसम में टायफाइड का खतरा ज्यादा रहता है। इससे बचने के लिए बाहर का दूषित खाना ना खाएं और साफ पानी पिएं। टायफाइड से बचने के लिए वैक्सीन भी लिया जा सकता है।  

मीजल्स और चिकनपॉक्स

गर्मी के मौसम में मीजल्स यानी खसरा और चिकनपॉक्स जैसी बीमारियों का भी खतरा बढ़ जाता है। मीजल्स और चिकनपॉक्स दोनों ही वायरस से होने वाली बीमारी है। 

बचाव- मीजल्स से बचने के लिए वयस्कों के साथ ही नवजात शिशुओं को भी MMR का टीका लगाया जाता है। वहीं, चिकनपॉक्स से बचने के लिए साफ-सफाई का ध्यान रखना जरूरी है।  इसके लिए अपने हाथों को अच्छी तरह से धोएं, सैनिटाइज करें, बीमारी से संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से बचें। 

मीजल्स और चिकनपॉक्स लक्षण- शरीर के अलग-अलग हिस्सों पर लाल रंग के चकत्ते दिखना, करीब 7 से 10 दिन तक शरीर पर लाल दाने और चकत्ते बने रहना या बुखार आना चिकनपॉक्स के लक्षण हैं। वहीं चार दिन का बुखार, खांसी, कोरिज़ा (बहती हुई नाक) और आंखों का लाल होना मीजल्स से लक्षण हैं।

डिहाईड्रेशन 

dehydration

Image Source : INSTAGRAM/HTLIFEANDSTYLE
डिहाईड्रेशन 

शरीर में पानी की कमी की वजह से डिहाईड्रेशन हो जाता है। गर्मियों में यह समस्या बहुत आम है लेकिन इसकी वजह से कुछ गंभीर समस्याएं भी हो सकती है। गर्मियों के मौसम में पसीने के जरिए शरीर से बहुत सारा पानी बाहर निकल जाता है। पानी की कमी से बॉडी सही तरीके से काम नहीं कर पाती है। इसलिए, इस मौसम में खूब पानी और जूस पीना चाहिए। 

कमर-गर्दन के हर दर्द को छूमंतर कर देंगे ये कारगर आयुर्वेदिक नुस्खे, रीढ़ रहेगी हमेशा फिट

पीलिया 

गर्मियों में पीलिया बच्चे और बड़े, दोनों को बहुत ज्यादा प्रभावित करता है। पीलिया को हेपेटाइटिस-ए भी कहते हैं। 

लक्षण- पीलिया से ग्रसित होने का सबसे बड़ा कारण है दूषित पानी और दूषित खाना। पीलिया में मरीज की आंखे और नाखून पीले होने लगते हैं। इसके साथ ही पेशाब भी पीले रंग की होती है। इसका सही समय पर इलाज नहीं कराया गया तो यह बहुत ही गंभीर रूप धारण कर सकता है।

बचाव- पीलिया से बचने के लिए सबसे जरूरी है लिवर को स्वस्थ रखना। भोजन जितना सादा होगा, लिवर उतना स्वस्थ रहेगा। अगर पीलिया ठीक हो गया है तो भी कुछ दिनों तक खिचड़ी, दलिया जैसी साधारण चीजें खाते रहें। जिन लोगों को पीलिया हो जाता है, उनके रक्तदान करने पर मनाही होती है।

पढ़ें हेल्थ से जुड़ी अन्य खबरें- 

गर्मियों में इन चीजों का ज्यादा सेवन आपको कर सकता है बीमार, आज से ही बना लें दूरी

बदलते मौसम में इम्युनिटी बूस्ट करने के लिए पिएं ये आयुर्वेदिक काढ़ा, ऐसे झट से हो जाएगा तैयार

वजन घटाने में कारगर है प्‍याज, ऐसे खाएं तो जल्‍द कम होगी पेट-कमर की चर्बी

नोट-ऊपर दी गई जानकारी सामान्य ज्ञान के लिए है। इसमें किसी डॉक्टर की सलाह नहीं ली गई है। इंडिया टीवी इसकी पुष्टि नहीं करता है। ज्यादा जानाकारी के लिए डॉक्टर की सलाह जरूर लें। 

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। Summer Diseases: गर्मी के मौसम में आम हैं ये 7 बीमारियां, जानें लक्षण और बचाव का तरीका News in Hindi के लिए क्लिक करें हेल्थ सेक्‍शन
Write a comment
X