Thyroid in Children: बच्चों में इस कारण बढ़ रही है थायराइड की समस्या, ये रही वजह

Thyroid in Children: थायराइड की समस्या बच्चों में देखी जाती है। ऐसे में बच्चों के खानपान पर विशेष ध्यान देना चाहिए। इसके लिए बच्चों में थायराइड के लक्षण, कारण और उपचार के बारे में जानकारी होनी जरूरी है। ध्यान के आभाव में किड्स बॉडी में कई पोषक तत्वों की कमी हो सकती है, जिसके कारण बच्चों में थायराइड के साथ ही कई गंभीर ब

Ritu Tripathi Edited By: Ritu Tripathi @ritu_vishwanath
Published on: November 25, 2022 14:05 IST
Thyroid in Children- India TV Hindi
Image Source : FREEPIK Thyroid in Children

Thyroid in Children: थायराइड की समस्या पुरुषों के मुकाबले महिलाओं को अधिक होती है, लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी कि यह समस्या बच्चों में भी हो सकती हैं। यह जेनेटिक भी हो सकती है यदि प्रेगनेंसी के वक्त यदि मां कम आयोडीन का सेवन करें तो भी बच्चों को थायराइड की समस्या हो सकती है। थायराइड हार्मोन शरीर के लिए बहुत ही जरूरी है लेकिन इसका कम या अधिक होना स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं है थायराइड हार्मोन के अधिक होने से हाइपोथाइरॉएडिज्म होने से हाइपर थाइरॉएडिज्म की समस्या होती है। प्रीमेच्योर बच्चेदानी कि बच्चे जो समय से पहले जब ले लेते हैं उनमें थायराइड होने की संभावना बढ़ जाती है। 

क्या है थायराइड

हमारे गले में तितली के आकार की एक ग्रंथि मौजूद होती है, जिसे थायराइड ग्लैंड के नाम से जाना जाता है, जो हमारी बॉडी में T3 और T4 हार्मोंस का निर्माण करती है। शरीर में होने वाली कई तरीके की गतिविधियों को यह हार्मोंस कंट्रोल करने में मदद करते हैं, जिसमें मेटाबॉलिज्म को बनाए रखना, मूड फ्रेश करना, शरीर के टेंपरेचर को नियंत्रित करना इत्यादि। यदि यह हार्मोंस असंतुलित होने लगते हैं, तो हमारे शरीर में सभी एक्टिविटी गड़बड़ होने लगती है। 

सर्दियों में बढ़ जाती है अस्थमा, साइनस के मरीजों की दिक्कत, बरतें ये सावधानियां

बच्चों में थायराइड के लक्षण-

  1. बच्चों के शारीरिक व मानसिक विकास की धीमी गति होना
  2. कमजोर व सुस्त होना
  3. रूखी और बेजान स्किन होना 
  4. देर से दांत आना
  5. किसी भी काम में सही प्रदर्शन ना करना 
  6. बालों का अधिक झड़ना
  7. लड़कियों में अनियमित मासिक चक्र
  8. वजन का बढ़ना
  9. डिप्रेशन और एंजाइटी का होना
  10. थायराइड पीड़ित बच्चों का इलाज

दुनिया की आधी आबादी को है मुंह की ये बीमारियां, WHO ने कहा 350 करोड़ लोग हैं इनके शिकार

थायराइड के प्रकार-

यह दो टाइप के होते हैं:

1- हाइपो थाइरॉएडिज्म

2- हाइपर थाइरॉएडिज्म

हाइपो थाइरॉएडिज्म का इलाज- हार्मोन्स की कमी के कारण यह समस्या होती है। इसके इलाज के लिए हारमोंस रिप्लेसमेंट थेरेपी का इस्तेमाल किया जाता है। 

हाइपर थाइरॉएडिज्म का इलाज- हार्मोंस की अधिकता के कारण यह परिस्थिति पैदा होती है कुछ दवाइयां देकर हारमोंस को कंट्रोल करने की कोशिश की जाती है इसका इलाज थायराइड सर्जरी के द्वारा भी किया जाता है। 

फास्ट फूड कैफे इन अधिक मात्रा में चीनी आदि का सेवन करने से बच्चे यह उन परेशानियों को बढ़ा देती है जो थायराइड की वजह से पैदा होती हैं जैसे बेचैनी और बार-बार नींद खुलना।

Health Tips: क्या पिस्ता खाने से बढ़ सकता है कोलेस्ट्रॉल? जानें क्या है सच्चाई

Latest Health News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। News in Hindi के लिए क्लिक करें हेल्थ सेक्‍शन