1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. बढ़ी चिंता: कोरोना की तीसरी लहर को लेकर वैज्ञानिक ने कही ये बड़ी बात

कोविड उपयुक्त व्यवहार का पालन नहीं किया तो तीसरी लहर अक्ट्रबर-नवंबर के बीच चरम पर होगी- वैज्ञानिक

कोविड-19 महामारी से संबंधित एक सरकारी समिति के एक वैज्ञानिक के अनुसार अगर कोविड उपयुक्त व्यवहार का पालन नहीं किया जाता है, तो कोरोना वायरस की तीसरी लहर अक्टूबर-नवंबर के बीच चरम पर पहुंच सकती है।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Published on: July 03, 2021 22:30 IST
कोविड उपयुक्त व्यवहार का पालन नहीं किया तो तीसरी लहर अक्ट्रबर-नवंबर के बीच चरम पर होगी- वैज्ञानिक- India TV Hindi
Image Source : PTI FILE PHOTO कोविड उपयुक्त व्यवहार का पालन नहीं किया तो तीसरी लहर अक्ट्रबर-नवंबर के बीच चरम पर होगी- वैज्ञानिक

नयी दिल्ली। कोविड-19 महामारी से संबंधित एक सरकारी समिति के एक वैज्ञानिक के अनुसार अगर कोविड उपयुक्त व्यवहार का पालन नहीं किया जाता है, तो कोरोना वायरस की तीसरी लहर अक्टूबर-नवंबर के बीच चरम पर पहुंच सकती है, लेकिन दूसरी वृद्धि के दौरान दर्ज किए गए दैनिक मामलों के आधे मामले देखने को मिल सकते हैं। कोविड-19 मामलों की ‘मॉडलिंग’ को लेकर काम करने वाली एक सरकारी समिति के एक वैज्ञानिक ने कहा कि यदि कोई नया स्वरूप उत्पन्न होता है तो तीसरी लहर तेजी से फैल सकती है। 

'सूत्र मॉडल' या कोविड-19 के गणितीय अनुमान में शामिल मनिंद्र अग्रवाल ने यह भी कहा कि तीसरी लहर के अनुमान के लिए मॉडल में तीन परिदृश्य हैं- आशावादी, मध्यवर्ती और निराशावादी।’’ विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग ने पिछले साल गणितीय मॉडल का उपयोग करके कोरोना वायरस मामलों में वृद्धि का पूर्वानुमान लगाने के लिए समिति का गठन किया था। समिति को कोविड की दूसरी लहर की सटीक प्रकृति का अनुमान नहीं लगाने के लिए भी आलोचना का सामना करना पड़ा था। 

तीन सदस्यीय समिति में शामिल अग्रवाल ने कहा कि तीसरी लहर का अनुमान जताते समय प्रतिरक्षा की हानि, टीकाकरण के प्रभाव और एक अधिक खतरनाक स्वरूप की संभावना को कारक बनाया गया है, कुछ ऐसा जो दूसरी लहर के मॉडलिंग के दौरान नहीं किया गया था। उन्होंने कहा, ‘‘हमने तीन परिदृश्य बनाए हैं। एक ‘आशावादी’ है। इसमें, हम मानते हैं कि अगस्त तक जीवन सामान्य हो जाता है, और कोई नया म्यूटेंट नहीं होता है। दूसरा ‘मध्यवर्ती’ है। इसमें हम मानते हैं कि आशावादी परिदृश्य धारणाओं के अलावा टीकाकरण 20 प्रतिशत कम प्रभावी है।’’

उन्होंने कई ट्वीट में कहा, ‘‘तीसरा ‘निराशावादी’ है। इसकी एक धारणा मध्यवर्ती से भिन्न है: अगस्त में एक नया, 25 प्रतिशत अधिक संक्रामक म्यूटेंट फैलता है (यह डेल्टा प्लस नहीं है, जो डेल्टा से अधिक संक्रामक नहीं है)। अग्रवाल द्वारा साझा किए गए ग्राफ के अनुसार, अगस्त के मध्य तक दूसरी लहर के स्थिर होने की संभावना है, और तीसरी लहर अक्टूबर और नवंबर के बीच अपने चरम पर पहुंच सकती है।

वैज्ञानिक ने कहा कि ‘निराशावादी’ परिदृश्य के मामले में, तीसरी लहर में देश में 1,50,000 से 2,00,000 के बीच मामले बढ़ सकते हैं। अग्रवाल ने कहा, ‘‘यदि कोई नया म्यूटेंट आता है, तो तीसरी लहर तेजी से फैल सकती है, लेकिन यह दूसरी लहर की तुलना में आधी होगी। डेल्टा स्वरूप उन लोगों को संक्रमित कर रहा है जो एक अलग प्रकार के स्वरूप से संक्रमित थे। इसलिए इसे ध्यान में रखा गया है।’’ 

उन्होंने कहा कि जैसे-जैसे टीकाकरण अभियान आगे बढ़ेगा, तीसरी या चौथी लहर की आशंका कम होगी। आईआईटी-हैदराबाद के वैज्ञानिक एम विद्यासागर, जो कोविड मामलों के मॉडलिंग में भी शामिल हैं, ने कहा कि तीसरी लहर के दौरान अस्पताल में भर्ती होने के मामले कम हो सकते है। उन्होंने ब्रिटेन का उदाहरण दिया जहां जनवरी में 60,000 से अधिक मामले दर्ज किए गए थे, जिनमें प्रतिदिन मौतों का आंकड़ा 1,200 था। हालांकि, चौथी लहर के दौरान, यह संख्या घटकर 21,000 रह गई और केवल 14 मौतें हुईं। विद्यासागर ने कहा, ‘‘ब्रिटेन में अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता वाले मामलों को कम करने में टीकाकरण ने एक प्रमुख भूमिका निभाई। तीन परिदृश्यों के साथ सामने आते समय यह तथ्य देखने में आया है।’’

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Write a comment
टोक्यो ओलंपिक 2020 कवरेज
X