1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. कितना मजबूत है ममता बनर्जी का सुरक्षा घेरा, मिली हुई है Z प्लस सिक्योरिटी

कितना मजबूत है ममता बनर्जी का सुरक्षा घेरा, मिली हुई है Z प्लस सिक्योरिटी

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कल देर शाम नंदीग्राम में अपने ऊपर हमले का आरोप लगाया है। उनका कहना था कि चार-पांच लोगों ने उनके ऊपर हमला किया। 

Devendra Parashar Devendra Parashar @DParashar17
Published on: March 11, 2021 11:16 IST
कितना मजबूत है ममता बनर्जी का सुरक्षा घेरा, मिली हुई है Z प्लस सिक्योरिटी- India TV Hindi
Image Source : PTI कितना मजबूत है ममता बनर्जी का सुरक्षा घेरा, मिली हुई है Z प्लस सिक्योरिटी

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कल देर शाम नंदीग्राम में अपने ऊपर हमले का आरोप लगाया है। उनका कहना था कि चार-पांच लोगों ने उनके ऊपर हमला किया। ममता बनर्जी के पांव, हाथ, गर्दन और कंधे में गहरी चोट आई है। वहीं कुछ लोग इसे हादसा भी बता रहे हैं। इस बीच प्रशासनिक स्तर पर भी इस मामले की जांच शुरू हो गई है। चूंकि ममता बनर्जी एक राज्य की मुख्यमंत्री हैं उन्हें जेड प्लस सुरक्षा मिली हुई है। ऐसे में चार-पांच लोगों का उनपर हमला करना.. उन्हें धक्का देना और भाग जाना कोई सहज बात नहीं है। ऐसे में यह मामला बेहद गंभीर सुरक्षा चूक का हो जाता है। आइये आपको बतातें है कि कैसा है ममता बनर्जी की सुरक्षा का बंदोबस्त।

पढ़ें: ममता मामले की जांच शुरू, नंदीग्राम के डीएम और एसपी मौके पर पहुंचे

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की ज़ेड प्लस सुरक्षा में कुल 18 गाड़ियां रहती हैं। इनमें 4 पायलट कार सबसे आगे रहती है। एडवांस सिक्योरिटी कार में डीएसपी स्तर के अधिकारी होते हैं, फिर एडवांस पायलट कार होती है इसमें भी जिला पुलिस के सब इंस्पेक्टर रैंक के अधिकारी होते हैं। इसके बाद फिर पायलट कार होती है इसमें भी जिला पुलिस के सब इंस्पेक्टर होते हैं, फिर डायरेक्ट ऑफ सिक्योरिटी की गाड़ी रहती है और फिर वीआईपी कार होती है। 

इसके बाद एस्कॉर्ट-1 और एस्कॉर्ट-2, फिर जैमर और फिर स्पेयर वीआईपी कार ताकि अगर मुख्यमंत्री की गाड़ी ख़राब हो जाए तो इस कार का इस्तेमाल करें। इसके पीछे प्रधान सुरक्षाकर्मी की गाड़ी रहती है, फिर 3 एस्कॉर्ट कार। एस्कॉर्ट कार के पीछे फिर इंटरसेप्शन की दो गाड़ियां होती हैं और फिर महिला पुलिस (लेडी कॉन्टिंजेंट) और एम्बुलेंस होती है। एम्बुलेंस के बाद फिर तीन और सुरक्षाकर्मियों की गाड़ियां, टेल कार और सबसे अंत में स्पेयर इंटरसेप्शन कार होती है। 

 पढ़ें- पाकिस्तान से आई गीता को उसका परिवार मिला, महाराष्ट्र के नयागांव में मिली मां

पढ़ें- नंदीग्राम में ममता पर हुए हमले के चश्‍मदीद आए सामने, जानें क्या कहा

 

bigg boss 15