एमपी में दो बच्चों ने राहुल गांधी को दी अपनी गुल्लक, बताया इन पैसों का कब किया जाए इस्तेमाल

भोपाल के रहने वाले 11 साल के यश परमार और 15 साल की जिया परमार शुक्रवार को भारत जोड़ो यात्रा के दौरान राहुल गांधी से मिले। जहां उन्होंने अपनी एक गुल्लक उन्हें सौंपी, जिसमें वे 78 दिनों से पैसा इकट्ठा कर रहे थे।

Sudhanshu Gaur Written By: Sudhanshu Gaur @SudhanshuGaur24
Published on: November 26, 2022 21:00 IST
भारत जोड़ो यात्रा के दौरान दो बच्चों ने राहुल गांधी को दी अपनी गुल्लक- India TV Hindi
Image Source : TWITTER भारत जोड़ो यात्रा के दौरान दो बच्चों ने राहुल गांधी को दी अपनी गुल्लक

भारत जोड़ो यात्रा को 3 महीने से ज्यादा का वक्त बीत चुका है। केरल से शुरू हुई यहाँ यात्रा मध्य प्रदेश से गुजर रही है। इस दौरान इस यात्रा में लाखों लोग शमिल हुए। हजारों किलोमीटर की यात्रा तय हुई। तमाम विवाद भी हुए, लेकिन कुछ घटनाएं ऐसी भी हुईं जिन्हें देखकर लोगों की आंखें भर आईं। ऐसा ही कुछ हुआ शुक्रवार की यात्रा के दौरान। 

दो बच्चों ने राहुल गांधी को सौंपी अपनी गुल्लक 

दरअसल भोपाल के एक भाई-बहन अपनी एक गुल्लक लेकर राहुल गांधी से मिलने खंडवा पहुंचे। यहां खंडवा के सनावद में उनकी राहुल गांधी से मुलाकात हुई। उनके हाथ में एक गुल्लक थी, जिसे उन्होंने राहुल गांधी को दी। गुल्लक को राहुल गांधी को सौंपते हुए उन्होंने कहा कि दोनों भाई-बहन पिछले 78 दिन से पैसे जमा कर रहे थे।

गुल्लक राहुल गांधी को सौंपते हुए की एक वीडियो कांग्रेस युथ अध्यक्ष श्रीनिवास बी.वी ने एक वीडियो सोशल मीडिया पर साझा करते हुए लिखा कि, "गुल्लक के पैसे नही, ये मोहब्बत अनमोल है।"

जरूरत पड़ने पर किया जाए पैसों का उपयोग 

जानकारी के अनुसार, भोपाल के 11 साल के यश परमार और 15 साल की जिया परमार भाई-बहन है। दोनों भाई-बहिन 78 दिन से अपने गुल्लक में पैसा इकट्ठा कर रहे थे। जब वे दोनों कांग्रेस नेता राहुल गांधी से मिले तब जिया के हाथ में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के साथ राहुल गांधी के बचपन का एक फोटो भी हाथ में लिए हुए थीं। इस दौरान यश और जिया परमार ने बताया कि वे चाहते हैं कि इन रुपयों को यात्रा के दौरान जरूरत पड़ने पर उपयोग किया जाए। 

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। News in Hindi के लिए क्लिक करें मध्य-प्रदेश सेक्‍शन