1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. उत्तर प्रदेश
  5. उत्तर प्रदेश में आज कोरोना के 6 हजार नए मामले, 17 हजार से ज्यादा हुए ठीक

उत्तर प्रदेश में आज कोरोना के 6 हजार नए मामले, 17 हजार से ज्यादा हुए ठीक

राज्य के सूचना और जनसंपर्क विभाग के डॉयरेक्टर शिशिर ने ट्वीट कर बताया कि पिछले 24 घंटों में यूपी में 17,540 मरीज कोरोना महामारी को मात दे चुके हैं। उन्होंने एक अन्य ट्वीट में बताया कि अब राज्य में एक्टिव मामले 1 लाख से नीच आ चुके हैं और रिकवरी रेट 93.2 प्रतिशत है।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: May 22, 2021 11:07 IST
good news less cases from uttar pradesh active cases less than 17 thousand उत्तर प्रदेश में आज कोरोन- India TV Hindi
Image Source : PTI उत्तर प्रदेश में आज कोरोना के 6 हजार नए मामले, 17 हजार से ज्यादा हुए ठीक

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर की रफ्तार कुछ कम पड़ती दिखाई दे रही है। बीते 24 घंटों में राज्य में कोरोना संक्रमण के 6 हजार 46 नए मामले सामने आए हैं। सुकून देने वाली खबर ये है कि राज्य में कोरोना से पिछले 24 घंटों में 17 हजार से ज्यादा मरीज ठीक हुए हैं। राज्य के सूचना और जनसंपर्क विभाग के डॉयरेक्टर शिशिर ने ट्वीट कर बताया कि पिछले 24 घंटों में यूपी में 17,540 मरीज कोरोना महामारी को मात दे चुके हैं।

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में बताया कि अब राज्य में एक्टिव मामले 1 लाख से नीच आ चुके हैं और रिकवरी रेट 93.2 प्रतिशत है। शिशिर ने कहा कि पिछले एक दिन में पूरे उत्तर प्रदेश में तीन लाख से ज्यादा कोविड टेस्ट किए गए हैं। वैक्सीनेशन की जानकारी देते हुए उन्होंने ट्वीट कर बताया कि उत्तर प्रदेश में अबतक 10 लाख से ज्यादा 18 वर्ष से ज्यादा उम्र के लोगों को टीका लगाया जा चुका है।

योगी ने ब्लैक फंगस को 'अधिसूचित बीमारी' घोषित करने के निर्देश दिए

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को अधिकारियों को निर्देश दिया कि मुख्यत: कोविड-19 रोग से उबरे मरीजों को निशाना बना रहे ब्लैक फंगस को 'अधिसूचित बीमारी' घोषित किया जाये। अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल ने 'भाषा' को बताया कि उत्तर प्रदेश में अब तक ब्लैक फंगस से करीब 300 रोगी विभिन्न अस्पतालों में भर्ती हो चुके हैं।

कोविड-19 प्रबंधन हेतु गठित अधिकारियों की टीम 9 की बैठक में शुक्रवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, ‘‘पोस्ट कोविड अवस्था में ब्लैक फंगस संक्रमण की समस्या तेजी से बढ़ रही है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के परामर्श के अनुरूप प्रदेश सरकार सभी मरीजों के समुचित चिकित्सकीय उपचार की व्यवस्था कर रही है। केंद्र सरकार के निर्देशों के क्रम में कोविड की तर्ज पर ब्लैक फंगस को भी अधिसूचित बीमारी घोषित किया जाए। इस संबंध में आदेश आज ही जारी कर प्रभावी करा दिया जाए।’’

सरकार द्वारा जारी एक बयान के मुताबिक मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि इसकी दवा की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित कराई जाये। बयान के मुताबिक, ‘‘अधिकारियों ने मुख्यमंत्री को अवगत कराया कि ब्लैक फंगस के उपचार की दवाएं हर जनपद में उपलब्ध करा दी गयी हैं। निजी अस्पतालों में इस बीमारी का इलाज करा रहें रोगी भी संबंधित मंडलायुक्त को प्रार्थना पत्र देकर दवा प्राप्त कर सकते हैं। प्रदेश के सभी सरकारी अस्पतालों, मेडिकल कालेजों तथा निजी अस्पतालों में ब्लैक फंगस उपचार करा रहे रोगियों की पूरी केस हिस्ट्री तथा लाइन आफ ट्रीटमेंट की जानकारी प्राप्त कर विशेषज्ञों को उपलब्ध कराई जा रही हैं।’’

सहगल से जब उत्तर प्रदेश में ब्लैक फंगस से मरने वाले रोगियों की संख्या के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि इस बीमारी से मरने वाले रोगियों को कोविड बीमारी से मरने वाले रोगियों की श्रेणी में ही रखा जा रहा है। उन्होंने बताया कि अब तक करीब तीन सौ मामले सामने आये हैं। राजधानी की किंग जार्ज मेडिकल विश्वविद्यालय के प्रवक्ता डा. सुधीर सिंह ने बताया कि केजीएमयू में अब तक ब्लैक फंगस के 73 रोगी भर्ती हुये हैं जिनमें से 23 रोगी पिछले 24 घंटे में भर्ती हुये हैं । पिछले 24 घंटों में दो रोगियों की सर्जरी हो चुकी है। 

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। Uttar Pradesh News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Write a comment
X