Partha Chatterjee: पार्थ चटर्जी ने खाने में की ये फरमाइश, कैदियों ने भद्दी-भद्दी फब्तियां कसीं, कमोड पर बैठकर बिताई रात

Partha Chatterjee: पार्थ चटर्जी के सेल में 24 घंटे सर्विलांस के लिए सीसीटीवी कैमरा लगाया गया है। वह नहाने के समय को छोड़कर सुबह से शाम तक वार्ड में ही रह रहे हैं। पता चला है कि शुक्रवार की रात इस जेल में आने के बाद से चटर्जी पूरी तरह से खामोश हो गए हैं और ज्यादातर समय आंखें बंद करके लेटे रहते हैं।

Khushbu Rawal Written By: Khushbu Rawal
Published on: August 08, 2022 18:58 IST
Partha Chatterjee- India TV Hindi News
Image Source : PTI Partha Chatterjee

Highlights

  • पार्थ चटर्जी ने जेल अधिकारियों से एक खाट उपलब्ध कराने का अनुरोध किया था
  • पार्थ प्रेसीडेंसी जेल के सेल नंबर 2 में बंद, नहाने के लिए है एक ही वॉशरूम
  • शुक्रवार की रात इस जेल में आने के बाद से चटर्जी पूरी तरह से खामोश हो गए हैं

Partha Chatterjee: शिक्षक भर्ती घोटाला में जेल की हवा खा रहे बंगाल के पूर्व मंत्री पार्थ चटर्जी (Partha Chatterjee) ने दोनों समय के भोजन में चावल की मांग की जिसे अधिकारियों ने खारिज कर दिया है। चटर्जी प्रेसीडेंसी केंद्रीय सुधार गृह में बंद हैं। रविवार को जैसे ही वे कोठरी से बाहर निकले, उन्हें देखकर कैदियों ने भद्दी-भद्दी फब्तियां कसीं। कैदियों ने खूब गाली-गलौच की और चोर-चोर के नारे लगाए। इससे पहले पार्थ चटर्जी ने शुक्रवार को कोठरी के शौचालय में बने कमोड पर बैठकर रात गुजारी थी।

'रात के खाने में भी दें चावल'

राज्य सुधार सेवा विभाग के एक उच्च पदस्थ अधिकारी ने कहा कि वर्षों से प्रथा के अनुसार, एक कैदी को दोपहर के भोजन में चावल और रात के खाने में रोटी दी जाती है। हालांकि, चटर्जी ने अनुरोध किया कि चावल दोपहर और रात के खाने दोनों में परोसा जाए। लेकिन हम ऐसा करने में असमर्थ हैं क्योंकि एम्स-भुवनेश्वर के निर्देश के अनुसार, चटर्जी मधुमेह के रोगी हैं और इसलिए चावल का अत्यधिक सेवन उनके स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं है। उन्हें रविवार को अन्य कैदियों की तरह मछली की पेशकश की गई थी, सुधार गृह नियमों के अनुसार कि रविवार को मांसाहारी भोजन परोसा जाता है।"

नहाने के लिए है एक ही वॉशरूम
हालांकि, करोड़ों रुपये के पश्चिम बंगाल स्कूल सेवा आयोग (WBSSC) भर्ती घोटाले में गिरफ्तार चटर्जी के बार-बार अनुरोध के बाद, अधिकारियों ने उन्हें अपने सेल में एक खाट उपलब्ध कराने पर सहमति व्यक्त की है। इससे पहले उन्हें चार कंबल दिए गए थे। चटर्जी दो को गद्दे के रूप में और अन्य दो को तकिए के रूप में उपयोग कर रहे थे। हालांकि, चटर्जी ने बार-बार जेल अधिकारियों से उन्हें एक खाट उपलब्ध कराने का अनुरोध किया क्योंकि शरीर के वजन के कारण, उन्हें जमीन पर सोने में समस्या थी। रविवार रात से उन्हें उनके सेल में एक खाट उपलब्ध कराई गई थी। जेल के नियमों के मुताबिक विचाराधीन और सजा पाए कैदियों को नहाने के लिए एक ही वॉशरूम का इस्तेमाल करना होता है। पार्थ प्रेसीडेंसी जेल के सेल नंबर 2 में बंद हैं और उस वार्ड में नहाने के लिए एक ही वॉशरूम है।

पूरी तरह से खामोश हो गए हैं पार्थ चटर्जी
प्रेसीडेंसी केंद्रीय सुधार गृह के वार्ड नंबर 22 के सेल नंबर 2 में सीलिंग फैन लगाया गया है और टेबल फैन के लिए चटर्जी की याचिका को भी जेल अधिकारियों ने खारिज कर दिया था। सुधार गृह का यह विशेष वार्ड उच्च सुरक्षा वाला वार्ड है और जेल अधिकारी चौबीसों घंटे कड़ी निगरानी रखते हैं। पार्थ के सेल में 24 घंटे सर्विलांस के लिए सीसीटीवी कैमरा लगाया गया है। वह नहाने के समय को छोड़कर सुबह से शाम तक वार्ड में ही रह रहे हैं। पता चला है कि शुक्रवार की रात इस जेल में आने के बाद से चटर्जी पूरी तरह से खामोश हो गए हैं और ज्यादातर समय आंखें बंद करके लेटे रहते हैं। उन्हें 18 अगस्त को फिर से पब्लिक मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (PMLA) की स्पेशल कोर्ट में पेश किया जाएगा।

उनकी करीबी सहयोगी अर्पिता मुखर्जी, जिन्हें अलीपुर महिला सुधार गृह में रखा गया है, को भी उसी दिन उसी कोर्ट में पेश किया जाएगा।

raju-srivastava