1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. अन्य देश
  5. Pakistan: सरकार गिरते ही इमरान खान के करीबियों पर ताबड़तोड़ कार्रवाई, प्रवक्ता के घर छापे, जब्त किए गए फोन

Pakistan: सरकार गिरते ही इमरान खान के करीबियों पर ताबड़तोड़ कार्रवाई, प्रवक्ता के घर छापे, जब्त किए गए फोन

देर रात जैसे ही इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पास हुआ, वैसे ही उनके प्रवक्ता डॉ. अर्सलान खालिद के घर पर छापेमारी शुरू हो गई। इस दौरान खालिद के परिवार के सदस्यों के फोन भी छीन लिए गए। इस बात की जानकारी पीटीआई ने ट्वीट कर दी है।

IndiaTV Hindi Desk Edited by: IndiaTV Hindi Desk
Updated on: April 10, 2022 8:11 IST
imran khan news - India TV Hindi
Image Source : AP/FILE imran khan news 

Highlights

  • सरकार गिरते ही इमरान खान की मुश्किलें बढ़ीं
  • करीबियों के घर पर शुरू हुई ताबड़तोड़ कार्रवाई
  • प्रवक्ता डॉ. अर्सलान खालिद के घर पर छापेमारी

इस्लामाबाद: पाकिस्तान में देर रात तक चले हंगामे के बाद इमरान खान की सरकार राजनीतिक पिच पर आउट हो गई है। पाकिस्तान की नेशनल असेंबली में अविश्वास प्रस्ताव पर शनिवार आधी रात के बाद हुए मतदान में इमरान खान को हार का सामना करना पड़ा है। इमरान पाकिस्तान के इतिहास में ऐसे पहले प्रधानमंत्री हैं, जिन्हें अविश्वास प्रस्ताव के जरिए हटाया गया है। 

देर रात जैसे ही इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पास हुआ, वैसे ही उनके प्रवक्ता डॉ. अर्सलान खालिद के घर पर छापेमारी शुरू हो गई। इस दौरान खालिद के परिवार के सदस्यों के फोन भी छीन लिए गए। इस बात की जानकारी पीटीआई ने ट्वीट कर दी है। 

पीटीआई ने ट्वीट कर कहा, 'बेहद परेशान करने वाली खबर, डॉ. अर्सलान खालिद के घर पर छापा मारा गया है और उनके परिवार के सारे फोन ले लिए गए हैं। उन्होंने सोशल मीडिया पर कभी किसी को गाली नहीं दी और न ही किसी संस्था पर हमला किया। फेडरल इंवेस्टिगेशन एजेंसी कृपया इस पर गौर करें।'

बता दें कि इमरान खान के देश छोड़कर जाने पर भी रोक लगा दी गई है। इसके अलावा इमरान, फवाद चौधरी और शाह महमूद के खिलाफ याचिका दायर करके उनका नाम एग्जिट कंट्रोल लिस्ट (ECL) में डाले जाने की मांग की गई है। इस याचिका पर 11 अप्रैल को सुनवाई होगी। 

गौरतलब है कि पाकिस्तान में शनिवार देर रात शुरू हुए मतदान के नतीजों में संयुक्त विपक्ष को 342 सदस्यीय नेशनल असेंबली में 174 सदस्यों का समर्थन मिला, जो प्रधानमंत्री को अपदस्थ करने के लिए आवश्यक बहुमत 172 से अधिक था।