Wednesday, May 29, 2024
Advertisement

Muslims Women protest in Iran: ईरानी सुरक्षा बलों ने स्कूली बच्चों को किया गिरफ्तार, कई हिस्सों में मुस्लिम महिलाओं ने चार हफ्तों से किया चक्का जाम

Muslims Women protest in Iran: ईरान में बीते चार सप्ताह से मुस्लिम महिलाएं सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रही है। ईरान के कई हिस्सों में प्रदर्शन काफी तेज हो गए हैं। महिलाएं अपनी बाल काट कर विरोध जता रही है। हाल ही में प्रियंका चोपड़ा ने भी ईरानी महिलाओं का समर्थन किया था।

Edited By: Ravi Prashant @iamraviprashant
Updated on: October 09, 2022 23:27 IST
Muslims Women protest in Iran- India TV Hindi
Image Source : INDIA TV/AP Muslims Women protest in Iran

Highlights

  • सुरक्षा बलों द्वारा गोला बारूद का सामना किया
  • जिंदा गोलियों का इस्तेमाल किया गया है
  • ईरान के मुख्य समाचार चैनल को हैक कर लिया गया था

Muslims Women protest in Iran: ईरान में पिछले चार हफ्तों से प्रदर्शन जारी है। ईरानी पुलिस ने लाख कोशिश कर लिया है लेकिन प्रदर्शन रुकने का नाम नहीं ले रहा है। रविवार को बिना लाइसेंस प्लेट के वैन में पहुंचे ईरानी स्कूली बच्चों को सुरक्षा बलों स्कूल परिसर के अंदर ही गिरफ्तार किया। द गार्जियन ने बताया कि अधिकारियों ने रविवार को ईरानी कुर्दिस्तान में सभी स्कूलों और उच्च शिक्षा संस्थानों को भी बंद कर दिया। 22 वर्षीय माशी अमिनी की मौत पर विरोध के हफ्तों के बाद भी लोगों में असंतोष है।

अधिकार समूहों ने कहा कि रविवार तड़के ईरान के दर्जनों शहरों में विरोध प्रदर्शन किया गया, जिसमें हाईस्कूल की सैकड़ों लड़कियों और विश्वविद्यालय के छात्रों ने आंसूगैस, क्लबों और कई मामलों में, सुरक्षा बलों द्वारा गोला बारूद का सामना किया। द गार्जियन की रिपोर्ट के अनुसार, तेहरान ने इस बात से इनकार किया है कि जिंदा गोलियों का इस्तेमाल किया गया है।

ईरान के मुख्य समाचार चैनलों को हैक कर लिया 

शनिवार को, ईरान के मुख्य समाचार चैनल को हैक कर लिया गया था। द गार्जियन ने बताया कि देश के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खामेनेई दक्षिणी शहर बुशहर में एक बैठक में भाग ले रहे थे। इन तस्वीरों को मृत प्रदर्शनकारियों की तस्वीरों के साथ बदल दिया गया। रुकावट के दौरान खमेनेई को क्रॉसहेयर और आग की लपटों में दिखाते हुए एक छवि भी प्रसारित की गई, जिसके लिए हैक्टिविस्ट समूह एडलात-ए अली ने जिम्मेदारी ली। स्क्रीन पर तस्वीरों के साथ एक संदेश जारी किया गया, जिसमें लिखा था, 'हमसे जुड़ें और आवाज उठाएं' और न्याय की मांग की गई।

अब तक इतने लोग मारे गए 
सरकारी अधिकारियों का दावा है कि पश्चिमी देश समर्थित मीडिया सुरक्षा बलों के आने के बाद बिखरी हुई सभाओं की झूठी तस्वीर दे रहा है, लेकिन नॉर्वे स्थित ईरान मानवाधिकार समूह ने शनिवार को कहा था कि देशव्यापी प्रदर्शनों में कम से कम 19 बच्चों सहित 185 लोग मारे गए हैं। तेहरान में नैतिकता पुलिस द्वारा सही तरीके से हिजाब न पहनने के लिए गिरफ्तार किए जाने के बाद अमिनी की मौत से भड़के विरोध प्रदर्शनों के समर्थकों का कहना है कि अक्सर स्वत:स्फूर्त प्रदर्शनों की मजबूती और मौलिकता एक युवा पीढ़ी के बीच बुजुर्गो के लिए अलगाव की गहराई को दर्शाती है।

राष्ट्रपति रायसी ने सुरक्षा अधिकारियों के साथ की बैठक 
स्कूलों में वैन के आने की तस्वीरें जारी होने के बावजूद ईरानी शिक्षा मंत्री मोहम्मद महदी काजेम ने कहा कि स्कूलों से कोई निष्कासन जारी नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि विरोध प्रदर्शन में शामिल छात्रों के माता-पिता से संपर्क किया जा रहा है। ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रायसी ने सुरक्षा अधिकारियों के साथ मुलाकात कर इस बात पर चर्चा की कि इस प्रतिबंध को और अधिक प्रभावी कैसे बनाया जाए।

ईरान के उप आंतरिक मंत्री, सैय्यद मिरहमदी ने कहा, "कल, तेहरान और सानंदज को छोड़कर, देश पूरी तरह से शांतिपूर्ण था- अब से, जो दंगों में गिरफ्तार किए गए हैं वे मुकदमे तक जेल में रहेंगे।" व्यावसायिक समूहों ने कहा कि इंस्टाग्राम जैसे प्लेटफॉर्म पर शासन द्वारा बार-बार इंटरनेट ब्लैक-आउट लगाया जा रहा है, जिससे छोटे से मध्यम आकार के उद्यमों की बिक्री में 40 से 70 प्रतिशत की गिरावट के साथ व्यावसायिक गतिविधि को गंभीर रूप से नुकसान हो रहा है।

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement