1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. अमेरिका
  5. भारत के खिलाफ UNSC में चीन की चाल को अमेरिका और जर्मनी ने ऐसे किया फेल

भारत के खिलाफ UNSC में चीन की चाल को अमेरिका और जर्मनी ने ऐसे किया फेल

संयुक्त राज्य अमेरिका और जर्मनी ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में चीन के भारत विरोधी कदम को रोक दिया।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: July 02, 2020 18:44 IST
संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अमेरिका और जर्मनी ने चीन के भारत विरोधी मंसूबों पर पानी फेरा- India TV Hindi
Image Source : FILE संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अमेरिका और जर्मनी ने चीन के भारत विरोधी मंसूबों पर पानी फेरा

संयुक्त राज्य अमेरिका और जर्मनी ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में चीन के भारत विरोधी कदम को रोक दिया है। इसे चीन और पाकिस्तान के खिलाफ वैश्विक नाराजगी के संकेत के रूप में देखा जा रहा है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में चीन का रंग उस वक्त फीका पड़ गया जब कराची स्टॉक एक्सचेंज में आतंकवादी हमले की निंदा करने वाले एक बयान के ड्राफ्ट में अमेरिका और जर्मनी के दखल के चलते देरी हुई। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को कराची स्टॉक एक्सचेंज में हुए आतंकवादी हमले की निंदा का बयान जारी करना था। 

अमेरिका और जर्मनी ने प्रेस बयान में देरी के लिए कदम उठाया क्योंकि पाकिस्तान आतंकवादी हमले के लिए भारत को जिम्मेदार ठहरा रहा था। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने भारत को जिम्मेदार ठहराया था। ऐसी हालत में दोनों ही देशों ने भारत के साथ एकजुटता दिखाते हुए इस बयान में देरी की। 

चीन की तरफ से ड्राफ्ट किये गए इस प्रेस स्टेटमेंट में मृतकों के प्रति संवेदना व्यक्त की गई और पाकिस्तानी सरकार के साथ एकजुटता की बात कही गई। “सुरक्षा परिषद के सदस्यों ने आतंकवादियों के इन निंदनीय कृत्यों के अपराधियों, आयोजकों, फाइनेंसरों और प्रायोजकों को न्याय दिलाने की जरूरत को रेखांकित किया और सभी देशों से आग्रह किया कि वे अंतर्राष्ट्रीय कानून और सुरक्षा कानून के तहत अपने दायित्वों के मुताबिक सक्रिय रूप से सहयोग करें।'

29 जून को चार आतंकवादियों ने कराची स्टॉक एक्सचेंज की इमारत को उड़ाने की कोशिश की थी। इस हमले में कम से कम 10 लोग मारे गए थे। पाकिस्तानी सुरक्षा बलों द्वारा आतंकवादियों को मार गिराया गया था। बलूच लिबरेशन आर्मी (बीएलए), पाकिस्तान के एक विद्रोही ग्रुप ने हमले की जिम्मेदारी ली थी।

चीन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में कराची स्टॉक एक्सचेंज पर हुए हमले की निंदा का मसौदा पेश किया था और प्रक्रिया के अनुसार, इसे शाम 4 बजे (न्यूयॉर्क समय) तक मंजूरी देनी थी। जैसे ही समय सीमा समाप्त हुई, जर्मनी ने इसमें दखल दिया और प्रेस बयान में देरी करने लगा। जर्मनों ने कहा कि भारत पर दोष लगाने का प्रयास उसे मंजूर नहीं। 1 जुलाई को सुबह 10 बजे तक की समय सीमा बढ़ाई गई थी। ठीक उसी समय, अमरेकिा ने हस्तक्षेप किया और प्रेस बयान जारी करने में और देरी के लिए कहा।

 

कोरोना से जंग : Full Coverage

Related Video
India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। US News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन
Write a comment
X