ye-public-hai-sab-jaanti-hai
  1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में भारी बर्फबारी की चेतावनी, सड़क और हवाई संपर्क हो सकता है ठप

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में भारी बर्फबारी की चेतावनी, सड़क और हवाई संपर्क हो सकता है ठप

मौसम विभाग ने चेतावनी दी है कि जम्मू-श्रीनगर, श्रीनगर-लेह राजमार्ग (जोजिला दर्रा), लेह-मनाली, मुगल रोड और साधना दर्रा सहित सतही और हवाई परिवहन में व्यवधान हो सकता है।

Khushbu Rawal Edited by: Khushbu Rawal
Updated on: January 03, 2022 19:01 IST
snowfall- India TV Hindi
Image Source : PTI (REPRESENTATIONAL IMAGE) जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में भारी बर्फबारी की चेतावनी, सड़क और हवाई संपर्क हो सकता है ठप

Highlights

  • 3 जनवरी से 9 जनवरी तक सड़क और हवाई परिवहन बाधित होने की चेतावनी
  • 5 जनवरी और 8 जनवरी के दौरान होगी भारी बारिश और बर्फबारी

श्रीनगर: मौसम कार्यालय ने सोमवार को जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में मध्यम से भारी बर्फबारी की संभावना जताई है और साथ ही 3 जनवरी से 9 जनवरी तक सतही और हवाई परिवहन बाधित होने की चेतावनी भी जारी की है। स्थानीय एमईटी कार्यालय द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है, "दो लगातार पश्चिमी विक्षोभ (वेस्टर्न डिस्टर्बेस) से 3 जनवरी (देर रात) से 9 जनवरी (पूर्वाह्न्) तक जम्मू-कश्मीर, लद्दाख और आसपास के क्षेत्रों को प्रभावित करने की सबसे अधिक संभावना है।"

बयान के अनुसार, "इन मौसम प्रणालियों के प्रभाव में जम्मू, कश्मीर और लद्दाख क्षेत्रों में व्यापक बारिश और हिमपात की संभावना है।" बयान में कहा गया है कि 3 जनवरी की शाम से कश्मीर के कुछ स्थानों पर हल्की बारिश/बर्फबारी शुरू होगी। इसमें आगे कहा गया है, "इस सिस्टम (प्रणाली) की मुख्य गतिविधि मध्यम से भारी बारिश/बर्फबारी की घटना होगी और इसकी सबसे अधिक संभावना 5 जनवरी और 8 जनवरी के दौरान रहेगी और उसके बाद धीरे-धीरे कम हो जाएगी।"

इस प्रणाली से मुख्य रूप से जम्मू संभाग के पीरपंजाल रेंज (भद्रवाह से बनिहाल तक), कश्मीर के ऊपरी इलाकों (गुलमर्ग, सोनमर्ग, बारामूला, कुपवाड़ा और लद्दाख का द्रास उपखंड) में भारी बारिश और हिमपात होने की संभावना है।

मौसम विभाग ने चेतावनी दी है कि जम्मू-श्रीनगर, श्रीनगर-लेह राजमार्ग (जोजिला दर्रा), लेह-मनाली, मुगल रोड और साधना दर्रा सहित सतही और हवाई परिवहन में व्यवधान हो सकता है। बयान में कहा गया है, "पहाड़ी इलाकों में बिजली आपूर्ति बाधित होने के अलावा संवेदनशील इलाकों में हिमस्खलन और भूस्खलन की संभावना है।"

(इनपुट- एजेंसी)

elections-2022