1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. Shaheed Diwas: पीएम मोदी ने दी भारत माता के वीर सपूतों को श्रद्धांजलि, जानिए इस दिन का इतिहास

Shaheed Diwas: पीएम मोदी ने दी भारत माता के वीर सपूतों को श्रद्धांजलि, जानिए इस दिन का इतिहास

Shaheed Diwas: आज शहीद दिवस है। इस मौके पर पीएम नरेंद्र मोदी ने शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को श्रद्धांजलि दी। पीएम नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा कि आजादी के क्रांतिदूत अमर शहीद वीर भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को शहीदी दिवस पर शत-शत नमन।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Published on: March 23, 2021 11:17 IST
Shaheed Diwas 2021 know history importance why its celebrated on march 23 in india Shaheed Diwas: पी- India TV Hindi
Image Source : INDIA TV Shaheed Diwas: पीएम मोदी ने दी भारत माता के वीर सपूतों को श्रद्धांजलि, जानिए इस दिन का इतिहास

नई दिल्ली. आज शहीद दिवस है। इस मौके पर पीएम नरेंद्र मोदी ने शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को श्रद्धांजलि दी। पीएम नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा कि आजादी के क्रांतिदूत अमर शहीद वीर भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को शहीदी दिवस पर शत-शत नमन। मां भारती के इन महान सपूतों का बलिदान देश की हर पीढ़ी के लिए प्रेरणास्रोत बना रहेगा। जय हिंद! पीएम नरेंद्र मोदी के अलावा भी देश की कई दिग्गज हस्तियों ने इस मौके पर शहीदों को अपने-अपने अंदाज में श्रद्धांजलि दी। भारत से ब्रिटिश हुकूमत को उखाड़ फेंकने के लिए क्रांति का बिगुल फूंकने वाले तीन महान क्रांतिकारियों भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को 23 मार्च 1931 को फांसी दी गई थी। उनकी शहादत की याद में 23 मार्च को शहीद दिवस के रूप में मनाया जाता है।

पढ़ें- कोरोना की वजह से उत्तर प्रदेश में 8वीं तक के स्कूल 31 मार्च तक रहेंगे बंद

क्या आपको जानकारी है कि अपने इन तीनों देशभक्तों को अंग्रेज सरकार द्वारा फांसी के लिए 24 मार्च की तारीख तय की गई थी लेकिन भारत की आवाम के गुस्से से घबराकर अंग्रेजी हुकूमत ने इन्हें एक दिन पहले ही यानी मार्च की 23 तारीख को फांसी दे दी। ये खबर देशभर में बहुत तेजी से फैली।

पढ़ें- मध्य प्रदेश के ग्वालियर में भीषण सड़क हादसा, बस और ऑटो की टक्कर, 12 महिलाओं समेत 13 की मौत

भारत के लोग भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को फांसी दिए जाने के विरोध में थे। उस समय देश में प्रदर्शनों का दौर चल रहा था। अंग्रेजी हुकूमत को डर था कि पहले से निर्धारित 24  मार्च के दिन माहौल बिगड़ सकता है, इसलिए उन्होंने भारत माता के इन वीर सपूतों को एक दिन पहले ही फांसी दे दी। आपको बता दें कि अंग्रेजी सरकार को चेतावनी देने के लिए भगत सिंह और बटुकेश्वर दत्त ने 1929 में 8 अप्रैल को सेंट्रल असेंबली में बम फेके थे और फिर अपनी गिरफ्तारी दे दी थी। इन घटने के बाद उन्हें दो साल तक जेल में रखा गया और फिर राजगुरु और सुखदेव के साथ फांसी दे दी गई।

पढ़ें- जब ID Proof न होने पर मतदान नहीं कर सके पूर्व चुनाव आयुक्त

सीएम योगी ने भी दी श्रद्धांजलि

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत विपक्ष के नेताओं ने समाजवादी चिंतक डॉक्टर राम मनोहर लोहिया की जयंती और आज़ादी की लड़ाई के महान क्रांतिकारी सरदार भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु के बलिदान दिवस पर अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की। मुख्यमंत्री ने अपने ट्वीट में आज़ादी के नायकों को नमन करते हुए कहा, "अपने बलिदान से हर भारतीय के मन में स्वाधीनता की अलख जगाने वाले महान क्रांतिकारी, प्रखर देशभक्त, सरदार भगत सिंह, श्री सुखदेव और श्री राजगुरु के बलिदान दिवस पर उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि।" उन्होंने कहा,“आप सभी का अमर बलिदान युगों-युगों तक हम सभी को राष्ट्र सेवा हेतु प्रेरित करता रहेगा।”

पढ़ें- महिला ने रेस्टोरेंट में पिता को खिलाया खाना, पिलाई शराब, फिर नदी किनारे सैर के दौरान लगा दी आग

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Write a comment
टोक्यो ओलंपिक 2020 कवरेज
X