1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राजनीति
  5. Gyanvapi Masjid Case: पी. चिदंबरम का बयान-'धार्मिक स्थलों का स्टेटस बदलना ठीक नहीं, इससे तनाव बढ़ेगा'

Gyanvapi Masjid Case: पी. चिदंबरम का बयान-'धार्मिक स्थलों का स्टेटस बदलना ठीक नहीं, इससे तनाव बढ़ेगा'

चिदंबरम ने कहा कि जो धार्मिक स्थल जिसके पास है उसी के पास रहे। राम जन्म भूमि का मामला अपवाद था। चिदंबरम ने एक प्रेस वार्ता के दौरान ये बातें कहीं।

Vijai Laxmi Reported by: Vijai Laxmi @vijai_laxmi
Updated on: May 14, 2022 11:31 IST
 P. Chidambaram, Congress Leader- India TV Hindi
Image Source : FILE  P. Chidambaram, Congress Leader

Highlights

  • जो धार्मिक स्थल जिसके पास है उसी के पास रहे-चिदंबरम
  • राम जन्मभूमि का मामला अपवाद था-चिदंबरम
  • धार्मिक स्थलों का स्टेटस बदलने से तनाव बढ़ेगा-चिदंबरम

Gyanvapi Masjid Case :  पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिंदबरम (P. Chidambaram ) ने ज्ञानवापी मस्जिद केस (Gyanvapi Masjid Case) पर कांग्रेस (Congress) का रुख स्पष्ट करते हुए कहा कि धार्मिक स्थलों का स्टेटस बदलना ठीक नहीं है, ऐसा करने से तनाव बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि पूजा अधिनियम (Worship Act ) नरसिम्हा राव जी के सरकार के समय इसीलिए बना था कि धार्मिक जगहों का स्टेटस नहीं बदला जाए। जो धार्मिक स्थल जिसके पास है उसी के पास रहे। चिदंबरम ने कहा कि राम जन्म भूमि का मामला अपवाद था।  चिदंबरम ने एक प्रेस वार्ता के दौरान ये बातें कहीं। 

ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे के बीच आया बयान

उल्लेखनीय है कि आज एडवोकेट कमिश्नर की मौजूदगी में ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे का काम चल रहा है। यह सर्वे स्थानीय कोर्ट के आदेश पर कराया जा रहा है। कोर्ट के आदेश के मुताबिक मस्जिद के चप्पे-चप्पे की वीडियोग्राफी और फोटोग्राफी कराई जा रही है। मस्जिद के दो तहखानों का भी सर्वे हो रहा है और वीडियोग्राफी कराई जा रही है। कोर्ट ने 17 मई को सर्वे की रिपोर्ट सौपने का आदेश दिया है।

भारतीय अर्थव्यवस्था की स्थिति बेहद चिंताजनक-चिदंबरम

इससे पहले उदयपुर में कांग्रेस के चिंतन शिविर में पी. चिदंबरम ने कहा कि महंगाई अस्वीकार्य स्तर तक बढ़ गई है। सरकार अपनी गलत नीतियों से महंगाई बढ़ा रही है। उन्होंने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था की स्थिति बेहद चिंताजनक  है और  महामारी के बाद अर्थव्यवस्था में सुधार की रफ्तार बहुत सुस्त रही है। उन्होंन कहा कि विदेश के हालात से अर्थव्यवस्था पर दबाव बढ़ गया है, सरकार इन घटनाक्रमों से निपटने के उपायों को लेकर अनभिज्ञ नजर आ रही है।

erussia-ukraine-news