1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. मस्जिद गिराने की बात करने पर जेल गए थे हिंदू संत, जमानत मिलने पर दिया बड़ा बयान

कर्नाटक में जमानत पर रिहा हुए हिंदू संत ऋषिकुमार स्वामी ने की मस्जिद बंद करने की मांग

ऋषिकुमार स्वामी ने कहा, मैंने कई बार श्रीरंगपटना शहर का दौरा किया था, लेकिन मस्जिद के पास कभी नहीं गया था।

Vineet Kumar	Edited by: Vineet Kumar @JournoVineet
Published on: January 20, 2022 19:32 IST
Karnataka Mosque, Karnataka Mosque Closure Hindu Saint, Mosque Closure Hindu Saint- India TV Hindi
Image Source : TWITTER जमानत पर रिहा होने के बाद ऋषिकुमार स्वामी ने मस्जिद को बंद करने की मांग की।

Highlights

  • मस्जिद को तब तक के लिए बंद कर देना चाहिए, जब तक यह फैसला नहीं हो जाता कि यह मंदिर है या मस्जिद: स्वामी
  • ऋषिकुमार स्वामी ने कहा, मैंने कई बार श्रीरंगपटना शहर का दौरा किया था, लेकिन मस्जिद के पास कभी नहीं गया था।
  • यहां तक कि एक हिंदू बच्चा भी स्तंभों पर नाग देवता उकेरे गए चित्रों को देखकर उत्तेजित हो जाएगा: ऋषिकुमार स्वामी

मांड्या: कर्नाटक के मांड्या जिले के श्रीरंगपटना शहर की मस्जिद को गिराने का आह्वान करने के आरोप में गिरफ्तार किए गए काली मठ के ऋषिकुमार स्वामी ने एक बार फिर यह कहकर विवाद खड़ा कर दिया है कि मस्जिद को तब तक के लिए बंद कर देना चाहिए, जब तक यह फैसला नहीं हो जाता कि यह मंदिर है या मस्जिद। बुधवार की देर रात जमानत पर रिहा होने के बाद ऋषिकुमार स्वामी ने यह टिप्पणी की।

‘मुझे अपने मंदिर की हालत देखकर दुख हुआ’

ऋषिकुमार स्वामी ने कहा, ‘मैंने कई बार श्रीरंगपटना शहर का दौरा किया था, लेकिन मस्जिद के पास कभी नहीं गया था। लेकिन एक दिन जब मैं वहां रुका, तो मैंने खंभों पर ध्यान दिया। यहां तक कि एक हिंदू बच्चा भी स्तंभों पर नाग देवता उकेरे गए चित्रों को देखकर उत्तेजित हो जाएगा। मैं एक साधु हूं। मुझे अपने मंदिर की हालत देखकर दुख हुआ। मुझे न्यायपालिका पर पूरा भरोसा है। न्यायपालिका की वजह से ही अयोध्या में राम मंदिर बन रहा है।’

‘कोई भी हादसा होने से पहले कार्रवाई होनी चाहिए’
स्वामी ने कहा, ‘बाबरी मस्जिद के मामले में सच्चाई स्थापित करने के लिए अधिकारियों को मस्जिद के नीचे खुदाई करनी पड़ी। लेकिन, इस मामले में अधिकारियों को केवल मस्जिद के दस्तावेजों की आवश्यकता है। मैं उनसे अगली हनुमान जयंती से पहले मस्जिद को बंद करने का अनुरोध करता हूं। कोई भी हादसा होने से पहले कार्रवाई होनी चाहिए। यह तय करने के लिए कि ढांचा मस्जिद है या मंदिर, स्थानीय अदालत में पहले ही एक हलफनामा दायर किया जा चुका है।’ उन्होंने कहा कि फैसला आने तक मस्जिद को बंद रखना होगा और यथास्थिति बनाए रखनी होगी।

मुद्दे को सत्तारूढ़ बीजेपी द्वारा उठाए जाने की संभावना
इस मुद्दे को सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी द्वारा उठाए जाने की संभावना है, जो दक्षिण कर्नाटक में अपनी जड़ें जमाने के लिए कड़ी मेहनत कर रही है। श्रीरंगपटना शहर कर्नाटक के मांड्या जिले में स्थित है, जिसे प्रमुख वोक्कालिगा समुदाय का गढ़ माना जाता है। इसे जनता दल (सेक्युलर) का गढ़ माना जाता है। सत्तारूढ़ बीजेपी इस समृद्ध जिले में जड़ें खोजने का प्रयास कर रही है। सूत्रों का कहना है कि पार्टी इस मुद्दे को जल्द ही उठाने जा रही है, जिससे पार्टी को अपनी जड़ें स्थापित करने में मदद मिलेगी और चुनाव में सफलता मिलेगी। (IANS)

erussia-ukraine-news